विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

ट्रंप का नाम लिए बगैर ओबामा ने उन्हें बहुत कुछ कह दिया

ओबामा ने इशारों-इशारों में ट्रंप को सावधान किया कि वो बेफिक्र होकर काम नहीं कर सकते

Anirudh Bhattacharya Updated On: Jan 11, 2017 10:29 PM IST

0
ट्रंप का नाम लिए बगैर ओबामा ने उन्हें बहुत कुछ कह दिया

बराक ओबामा ने अमेरिका की राजनीति में 12 साल पहले दस्तक दी थी. तब उन्होंने बॉस्टन में डेमोक्रेटिक नेशनल कन्वेंशन में भाषण दिया था. उनके भाषण में भावुकता और उत्तेजना दोनों थी.

बुधवार को ओबामा ने कुछ उसी अंदाज में आठ साल के अपने राष्ट्रपति के कार्यकाल को अलविदा कहा.

ओबामा के भाषण में अपने कार्यकाल का बचाव था. आने वाले राष्ट्रपति की बातों का जवाब और समर्थकों से अपनी पार्टी पर भरोसा बनाए रखने की अपील भी थी.

अमेरिकी राष्ट्रपति के विदाई भाषण में अपनी सफलताओं का बखान था. अमेरिका को मंदी से निकालकर रोजगार पैदा करना या फिर इस्लामिक स्टेट जैसे आतंकी संगठन से अमेरिका को सुरक्षित रखना. हालांकि, कुछ लोग ओबामा के इन दावों पर सवाल उठा सकते हैं.

ओबामा के कार्यकाल पर जनादेश

ओबामा ने हिलेरी क्लिंटन के चुनाव अभियान को अपने तीसरे कार्यकाल का अभियान माना था. क्लिंटन चुनाव हार गईं. जाहिर है, यह ओबामा के कार्यकाल पर जनादेश था.

ओबामा के 'अफोर्डेबल केयर एक्ट' को आने वाली सरकार रद्द करने का मन बना चुकी है. ओबामाकेयर के नाम से मशहूर हुई इस स्कीम को बंद करने को लेकर ओबामा ट्रंप को चुनौती दे चुके हैं. इस योजना का लाभ उनको मिलेगा जिनका बीमा नहीं है.

ओबामा ने कहा ’अगर कोई इससे कम खर्च में इससे बेहतर योजना लाता है तो मैं उसका समर्थन करूंगा’. इस बयान से यह साफ हो गया है कि इस कानून को लेकर आने वाले दिनों नें अमेरिकी कांग्रेस में कैसा टकराव देखने को मिल सकता है.

Obama seen Weeping

विदाई भाषण के दौरान राष्ट्रपति बराकओबामा कई बार भावुक हो गए (फोटो: रॉयटर्स)

ओबामा ने जलवायु परिवर्तन पर पेरिस समझौते को भी अपनी कामयाबी बताया.

ओबामा ने कहा ‘किसी समस्या के समाधान के लिए सकारात्मक बहस हमारी जिम्मेदारी है. इससे भागना आने वाली पीढ़ियों के साथ बेइमानी होगी. ऐसा न करके हम नवाचार और असली समस्या को सुलझाने के मूल सिद्धांत के खिलाफ काम करते हैं’.

अमेरिका की महानता का जिक्र

ट्रंप ने अपने पूरे चुनाव अभियान में अमेरिका को फिर से महान देश बनाने की बात कही थी. इससे अलग, ओबामा ने अपनी विदाई भाषण में बार-बार अमेरिका की महानता का जिक्र किया.

ट्रंप का नाम लिए बगैर ओबामा ने कहा कि राजनीतिक बहस में कड़वाहट भर गई है. किसी से असहमत होने का मतलब यह नहीं होता कि आपको उनसे कोई पर्सनल रंजिश है.

ओबामा ने कहा ‘जानबूझकर ऐसा करना ठीक नहीं. जब हम खुद को किसी से ज्यादा अमेरिकी होने की बात करते हैं. तब हम असहमति की गुंजाइश को खत्म कर रहे होते हैं’.

 

Donald_Trump

ओबामा अमेरिका के पहले अफ्रीकी मूल के राष्ट्रपति बने थे. ओबामा ने कहा कि 2008 से पहले रंगभेद से उबरना अमेरिका के लिए आसान नहीं था. समलैंगिकों, अमेरिकी मुसलमानों को संबोधित कर ओबामा ने आने वाले वक्त में ट्रंप के खिलाफ उन्हें अपने पक्ष में लामबंद करने की कोशिश भी की.

हमेशा व्हाइट हाउस में मौजूद रहूंगा

लिखे हुए भाषण से अलग बोलते हुए ओबामा ने कहा कि व्हाइट हाउस हर आम अमेरिकी नागरिक का हक है. अपने बचे हुए दिनों में वो एक आम अमेरिकी के तौर पर हमेशा व्हाइट हाउस में मौजूद रहेंगे.

ओबामा ने ऐसा कहकर इशारों-इशारों में ट्रंप को सावधान भी किया कि वो बेफिक्र होकर काम नहीं कर सकते.

अपनी पत्नी मिशेल और दोनो बेटियों मालिया और साशा का जिक्र करते हुए ओबामा की आंखों में आंसू भी आए. विदाई भाषण के दौरान ऐसा कई बार हुआ.

Barack Obama Family

शिकागो में विदाई भाषण के बाद अपनी पत्नी और बेटी के साथ जाते हुए बराक ओबामा  (फोटो: पीटीआई)

‘चार साल और’ के नारों के बीच ओबामा ने कहा कि ‘मैं ऐसा नहीं कर सकता’. उन्होंने अपने भाषण का अंत 2008 में दिए अपने ‘यस वी कैन’ के नारे के साथ किया. इसे बोलने के दौरान बीच-बीच में उन्होंने ‘यस वी डिड’ का भी नारा लगाया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi