S M L

रोहिंग्या की मदद करना जारी रखेगी बांग्लादेश सरकार: हसीना

अगर जरूरत पड़ी तो हम एक दिन में एक बार भोजन करेंगे और शेष उनके (रोहिंग्या मुसलमान) साथ साझा करेंगे

Updated On: Oct 07, 2017 06:24 PM IST

Bhasha

0
रोहिंग्या की मदद करना जारी रखेगी बांग्लादेश सरकार: हसीना

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने पड़ोसी देश म्यामांर से आए लगभग 10 लाख रोहिंग्या मुसलमानों को समर्थन देना जारी रखने की बात कही है.

शनिवार को हसीना ने कहा कि सरकार अंतरराष्ट्रीय सहायता एजेंसियों की मदद से एक द्वीप पर रोहिंग्या के लिए अस्थाई शरण स्थलों को बनाए जाने की योजना पर विचार कर रही है.

संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र में हिस्सा लेने के बाद सोमवार को न्यूयॉर्क से ढाका लौटने पर एयरपोर्ट पर उन्होंने यह बात कही. हसीना ने म्यामांर पर सीमा पर तनाव पैदा करने का आरोप लगाया. लेकिन उन्होंने देश के सुरक्षा बलों से इस संकट से ‘बहुत सावधानी’ से निपटने के लिए कहा.

हसीना ने शनिवार को दोहराया कि रोहिंग्या मुस्लिम जब तक म्यामांर में अपने घर वापस नहीं लौट जाते तब तक ये बस्तियां उनके लिए अस्थाई है. उनकी सरकार रोहिंग्या मुस्लिमों को खाद्य सामग्री और शरण उपलब्ध कराती रहेगी.

उन्होंने कहा, ‘यदि जरूरत पड़ी तो हम एक दिन में एक बार भोजन करेंगे और शेष उनके साथ साझा करेंगे.’

Sheikh Hasina

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना

म्यामांर में जारी हिंसा के बाद अब तक पांच लाख से अधिक रोहिंग्या मुसलमान भागकर बांग्लादेश आ चुके हैं. म्यामांर रोहिंग्या को नस्ली समूह के रूप में मान्यता नहीं देता है. उसका कहना है कि रोहिंग्या बांग्लादेश के बंगाली प्रवासी हैं और वो देश में अवैध रूप से रह रहे हैं.

रखाइन प्रांत में हाल में हुई हिंसा को रोकने में विफल रहने पर म्यामांर को अंतरराष्ट्रीय आलोचना का भी सामना करना पड़ा था. संयुक्त राष्ट्र ने म्यामां में हुई हिंसा को ‘नस्ली सफाया’ बताया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi