विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

भ्रष्टाचार के मामले में जांच का सामना करेंगे बांग्लादेश के प्रधान न्यायाधीश

बांग्लादेश के पहले हिंदू प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति एस. के. सिन्हा पर मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप लगा है

Bhasha Updated On: Oct 15, 2017 08:09 PM IST

0
भ्रष्टाचार के मामले में जांच का सामना करेंगे बांग्लादेश के प्रधान न्यायाधीश

बांग्लादेश के पहले हिंदू प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति एस. के. सिन्हा को रिश्वत के आरोप और नैतिक खामियों के मामले में जांच का सामना करना होगा.

एक दिन पहले ही सिन्हा ऑस्ट्रेलिया रवाना हुए जिसके बाद उन पर मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप लगा है.

कानून मंत्री अनीसुल हक ने कहा कि भ्रष्टाचार निरोधक आयोग सिन्हा के खिलाफ लगे ‘तकरीबन सभी आरोपों’ की जांच करेगा.' हक ने संवाददाताओं से कहा, ‘कोई भी कानून से ऊपर नहीं है.’

वहीं यह पूछे जाने पर कि क्या सिन्हा एक महीने के अवकाश के बाद पदभार संभाल सकते हैं, तो कानून मंत्री हक ने ना में जवाब दिया.

बहरहाल, उन्होंने यह भी कहा, ‘अगर आरोप साबित होते हैं तो कार्रवाई करना राष्ट्रपति का विशेषाधिकार है.’

विवाद से शर्मिंदगी महसूस कर रहे हैं प्रधान न्यायाधीश सिन्हा 

न्यायपालिका के साथ सरकार का विवाद इस साल जुलाई में उस वक्त भड़का था जब सर्वोच्च अदालत ने 16वें संविधान संशोधन को अवैध ठहराने का आदेश दिया.

सिन्हा के ऑस्ट्रेलिया रवाना होने के बाद एक बयान में कहा कि जुलाई के अपने फैसले को लेकर खड़े हुए विवाद से वह ‘शर्मिंदगी’ महसूस कर रहे हैं.

बयान के अनुसार सिन्हा ने सरकार के इस दावे को भी खारिज किया कि वह बीमार हैं. सिन्हा ने कहा, ‘मैं बीमार नहीं हूं और मैं भाग भी नहीं रहा हूं.’

बहरहाल, हक ने कहा कि प्रधान न्यायाधीश का कार्यालय एक संस्था है, ऐसे में कुछ भी जल्दबाजी में नहीं किया जाएगा और कानून के मुताबिक सभी कदम उठाए जाएंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi