S M L

अमेरिका में गन कंट्रोल की बहस में बच्चे बड़े और सरकार छोटी हो गई है

जब पूरे देश में बच्चे गन कंट्रोल के नए नियम लाने के लिए आवाज उठा रहे हैं, ऐसे में स्कूलों को सुरक्षित करने के लिए ट्रंप का कहना है कि टीचरों को भी हथियार थमा देने चाहिए

Updated On: Feb 23, 2018 06:24 PM IST

Tulika Kushwaha Tulika Kushwaha

0
अमेरिका में गन कंट्रोल की बहस में बच्चे बड़े और सरकार छोटी हो गई है

अमेरिका में इस वक्त अजीब हालात बने हुए हैं. हाल ही में फ्लोरिडा के स्कूल मैरजरी स्टोनमैन डगलस हाई स्कूल में हुई अंधाधुंध शूटिंग में 17 लोगों की मौत ने अमेरिका में विरोध की एक नई आवाज खड़ी कर दी है. फ्लोरिडा भर में छात्रों ने गन कंट्रोल पर बात करनी शुरू कर दी है और ये विरोध जल्द ही पूरे देश में फैल जाएगा क्योंकि ऐसा विरोध वो भी 17-18 साल के स्कूली बच्चों में कभी नहीं देखा गया था.

लेकिन लगता है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अभी भी अपनी सुनहरी दुनिया से बाहर नहीं निकले हैं. उन्हें हकीकत नहीं दिख रही क्योंकि उनकी आंखों पर नेशनल राइफल एसोसिएशन (NRA) की पट्टी लगी हुई है.

जब पूरे देश में बच्चे गन कंट्रोल के नए नियम लाने के लिए आवाज उठा रहे हैं, ऐसे में ट्रंप अलग ही सुर में बात कर रहे हैं. स्कूलों को सुरक्षित करने के लिए ट्रंप का कहना है कि टीचरों को भी हथियार थमा देने चाहिए, ये तो वैसा ही है जैसे वायरस को खत्म करने के लिए और खतरनाक वायरस बनाया जाए.

वैसे तो ऐसा लगता नहीं कि ट्रंप कुछ भी बोलने से पहले सोचते हैं लेकिन क्या सच में शूटिंग सर्वाइवर्स के बीच में बैठे हुए ट्रंप जब ये बात बोल रहे थे तो उन्होंने एक बार भी ये नहीं सोचा कि वो क्या बोल रहे हैं? टीचरों को हथियार थमा देने का ये आइडिया ही कितना वाहियात है. अगर आप स्कूल में पढ़ा रहे किसी टीचर को गन थमा दें तो वो क्या करेगा? अगर स्कूल में शूटिंग होने लगे तो एक टीचर बच्चों को बचाएगा या शूटर पर निशाना साधेगा?

सबसे बड़ी बात अमेरिका में गन को खतरनाक क्यों नहीं समझा जाता? किसी के भी हाथ में गन थमा देना इतना आसान क्यों है? और इसके अलावा हाथ में गन पकड़ना इतना नॉर्मल कैसे लगता है?

Florida School Shooting

क्या हुआ था?

बीते 15 फरवरी को फ्लोरिडा के डगलस हाईस्कूल में स्कूल के ही एक सस्पेंडेड छात्र ने अंधाधुंध गोलियां बरसा दीं, जिसने 17 लोगों की जान ले ली और करीब दर्जन भर लोग घायल हो गए. हमलावर को जल्द ही पकड़ लिया गया. 17 लोगों की मौत का जिम्मेदार हमलावर निकोलस क्रूज इस स्कूल का ही पूर्व छात्र था. उसपर अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए स्कूल से निकाल दिया गया था, जिसके बाद उसने ये कदम उठाया.

स्टूडेंट का क्या कहना है?

इस स्कूल के छात्रों में इस पूरी घटना को लेकर बहुत ज्यादा गुस्सा है. छात्रों ने पहली बार इतने बड़े स्तर पर गन कंट्रोल पर अमेरिकी सरकार और लॉमेकर्स के विरोध में आवाज उठाया है. छात्रों का कहना है कि सरकारें अब तक इस पर बात करने से बचती रही हैं. लेकिन अब ऐसा नहीं होगा. वो तब तक नहीं रुकेंगे, जब तक गन कंट्रोल के नियमों में बदलाव नहीं करेंगे. उनका कहना है कि जो जा चुके हैं, वो अपने लिए आवाज नहीं उठा सकते, इसलिए अब वो खुद उनकी आवाज बनेंगे. अब सरकार की प्रार्थनाओं और संवेदनाओं से कुछ नहीं होगा, गन कंट्रोल की जरूरत है.

People holding placards take part in a protest in support of the gun control in Coral Springs

अमेरिका में पिछले दशकों में कई मास शूटिंग हुई हैं. इसपर छात्रों का कहना है कि ये घटना आखिरी घटना होनी चाहिए. कुछ छात्रों ने कहा कि उन्होंने अपने दोस्तों को खो दिया लेकिन उन्हें ये बात बिल्कुल झकझोर देती है कि वो अब भी आराम से किसी भी गन स्टोर में जाकर 5 मिनट में एक गन खरीद सकते हैं.

लेकिन इन बच्चों में दिखाई दे रहा है प्रोपगेंडा

17-18 साल के स्टूडेंट्स को आवाज उठाते हुए देखकर लगता है कि कुछ सीनेटर्स और लॉमेकर्स इस बात को पचा नहीं पा रहे हैं. इस मामले में सबसे ज्यादा मुखर रहे छात्रों एमा गोंजालेज और डेविड हॉग्स को फ्लोरिडा के ही स्टेट रिप्रेजेंटेटिव शॉन हैरिसन के एक सहायक ने कह दिया कि वो छात्र नहीं एक्टर्स हैं, जहां भी कोई क्राइसिस होता है, ये वहां पहुंच जाते हैं. इसके बाद उस सहायक को बर्खास्त कर दिया गया. विरोध कर रहे इन छात्रों को ये भी कहा गया कि वो लिबरल मीडिया की पैदाइश हैं और उन्हें ये सब करने के लिए सिखाया गया है.

ट्रंप का क्या कहना है

ट्रंप ने इस मामले में और भी बचकाना बयान दे दिया. उन्होंने कहा कि स्कूलों को सेफ करने के लिए टीचरों को गन दिया जाना चाहिए, उन्हें इसके लिए ट्रेन किया जाना चाहिए. और साथ ही मिलिट्री के रिटायर्ड जवानों को भी स्कूलों की सेफ्टी में लगाया जाना चाहिए. लेकिन ट्रंप लगता है टीचरों और मिलिट्री प्रोफेशनल्स में फर्क करना भूल गए हैं. टीचरों के पास और भी जिम्मेदारियां होंगी.

U.S. President Donald Trump hosts a listening session with high school students and teachers to discuss school safety at the White House in Washington

गन कल्चर क्या है?

अमेरिका में ये टर्म बहुत प्रचलित है. गन कल्चर अमेरिका में गन रखने, उनके प्रति लोगों की सोच और पॉलिटिक्स का घालमेल का प्रतीक है. यहां बिल ऑफ राइट्स के तहत लोगों को हथियार रखने का अधिकार है (हर राज्य के अपने-अपने अलग नियम हैं). लेकिन यहां पॉलिटिक्स गन कल्चर से इसकदर जुड़ी हुई है कि लॉमेकर्स जब भी गन कंट्रोल की बात आती है, चुप्पी ओढ़ लेते हैं.

अमेरिका की एक संस्था है- नेशनल राइफल एसोसिएशन (NRA). ये एक नॉन-प्रॉफिट ऑर्गेनाइजेशन है, जो 'गन राइट्स' की वकालत करती है. ये संस्था कई तरह के फंड चलाती है, जो सरकार में गहरे तक धंसी हुई हैं. ये अमेरिका के 3 सबसे बड़े प्रभावी लॉबिंग ग्रुप में से एक हैं. सरकार बनाने, लॉमेकर्स को बढ़त दिलाने या किसी कानून को प्रभावित करने में एनआरए का बड़ा हाथ होता है.

एनआरए ने पिछले साल के राष्ट्रपति चुनावों में डोनाल्ड ट्रंप को 30 मिलियन डॉलर का फंड दिया था. इसलिए लगता है कि फिलहाल ट्रंप और एनआरए के एक्जीक्यूटिव वाइस प्रेसिडेंट वेन लापियर एक ही बोली बोल रहे हैं. (वेन लापियर ही 'बंदूकें खतरनाक नहीं होती, बंदूकें चलाने वाला खतरनाक होता है' की धारणा का समर्थन करते रहे हैं.)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi