S M L

डोनाल्ड ट्रंप के लिए बड़ी जीत, ब्रेट कानवाह बने अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट के जज

कावानाह को शनिवार की शाम अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस जॉन रॉबर्ट्स ने शीर्ष अदालत के 114वें जज के रूप में शपथ दिलाई. 53 वर्षीय कावानाह की नियुक्ति की पुष्टि सीनेट में 50-48 वोटों से हुई

Updated On: Oct 07, 2018 10:20 AM IST

FP Staff

0
डोनाल्ड ट्रंप के लिए बड़ी जीत, ब्रेट कानवाह बने अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट के जज

अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट के नए जज के रूप में नियुक्त हुए ब्रेट कानवाह ने नियुक्ति की पुष्टि होने के कुछ ही घंटे बाद शपथ भी ले ली. वे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के पसंदीदा लोगों में से एक माने जाते हैं. कावानाह को शनिवार की शाम अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस जॉन रॉबर्ट्स ने शीर्ष अदालत के 114वें जज के रूप में शपथ दिलाई. 53 वर्षीय कावानाह की नियुक्ति की पुष्टि सीनेट में 50-48 वोटों से हुई.

उन्‍हें 50 वोट मिले जबकि उनके विरोध में 48 वोट पड़े. वे जज एंथनी केनेडी का स्थान लेंगे जिन्होंने इस साल रिटायरमेंट की घोषणा की थी. कावानाह का चुना जाना ट्रंप और उनकी पार्टी के लिए छह नवंबर को होने वाले मध्यावधि चुनाव को देखते हुए बड़ी राजनीतिक जीत मानी जा रही है.

सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश के रूप में कावानाह के शपथ ग्रहण के साथ ही सत्तारूढ़ रिपब्लिकन और विपक्षी डेमोक्रेटिक पार्टी के बीच कई सप्ताह से चल रही खींचतान पर भी विराम लग गया है.

पिछले कुछ हफ्तों में कावानाह पर तीन महिलाओं की तरफ से यौन शोषण के आरोप लगने के बाद उनकी नियुक्ति को लेकर मुश्किलें बढ़ गई थीं और दोनों दलों के बीच खींचतान भी बढ़ गई थी.

कानवाह पर क्या थे आरोप?

कावानाह पर कई महिलाओं ने यौन शोषण के आरोप लगाए थे. सबसे पहले आरोप लगाने वाली प्रोफेसर क्रिस्टीन ब्लाजी फोर्ड ने सीनेट की न्यायिक समिति के सामने अपना मामला रखते हुए कहा था कि 36 साल पहले कावानाह ने स्‍कूल पार्टी में उनके कपड़े उतारने की कोशिश की थी. इसके बाद दो अन्‍य महिलाओं ने भी उन पर आरोप लगाए थे.

इसके चलते उनके नाम का काफी विरोध हो रहा था. कावानाह के खिलाफ सैकड़ों लोगों ने यूएस कैपिटोल के बाहर प्रदर्शन किया और सीनेटरों से उनके नाम की पुष्टि न करने का अनुरोध किया था. इनमें से करीब 100 प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने हिरासत में भी ले लिया था. वहीं कावानाह ने सीनेट के सामने अपने बयान में इन आरोपों का कड़ाई से खंडन किया था. एफबीआई ने भी अपनी जांच में कावानाह को क्लीन चिट दे दी थी.

डोनाल्ड ट्रंप ने दी बधाई

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने नियुक्ति की पुष्टि और शपथ ग्रहण के बाद कावानाह को फोन पर बधाई दी. ट्रंप ने संवाददाताओं से कहा, ‘मैं उन्हें बधाई देता हूं. बहुत अच्छे से लड़ी गई लड़ाई. मेरे कहने का अर्थ है कि किसने सोचा था कि ऐसा कुछ होगा... उन्होंने क्या कुछ नहीं झेला?'

कावानाह को बेहतर इंसान बताते हुए ट्रंप ने कहा लगाया कि विपक्षी डेमोक्रेटिक सांसदों के कारण हाल के सप्ताह में उनके परिवार को काफी कुछ झेलना पड़ा है.

गौरतलब है कि अमेरिका के सुप्रीम कोर्ट में नौ सदस्य हैं जिनमें से दो... ब्रेट कावानाह और नील गोर्सच को ट्रंप ने नामित किया है. वहीं, पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने 2009 और 2010 में दो महिला न्यायाधीशों सोनिया सोटोमेयर और ऐलेना कगन को नामित किया था.

(भाषा से इनपुट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi