S M L

अमेरिका ने अफगानिस्तान में सहायता के लिए पाकिस्तान को भुला दिया था

दस्तावेज इस बात की ओर संकेत करता है कि ज़िया और देंग दोनों ने तत्कालीन कार्टर प्रशासन को बहुत ही सफलतापूर्वक इस बात का यकीन दिला दिया था कि प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की तत्कालीन सरकार सोवियत संघ का समर्थक है

Updated On: Dec 21, 2018 04:40 PM IST

Bhasha

0
अमेरिका ने अफगानिस्तान में सहायता के लिए पाकिस्तान को भुला दिया था

सार्वजनिक किए गए गोपनीय दस्तावेजों के अनुसार अफगानिस्तान में रूसी हस्तक्षेप के तत्काल बाद अमेरिका ने अपने गुप्त परमाणु हथियार कार्यक्रम पर अमेरिकी चिंताओं को दरकिनार करने की मांग स्वीकार कर ली थी. चीन ने भी तक पाकिस्तानी मांग की हिमायत की थी.

अमेरिकी विदेश विभाग के सार्वजनिक किए गए इन गोपनीय दस्तावेजों में यह रहस्योद्घाटन हुआ है कि तत्कालीन पाकिस्तानी तानाशाह जनरल ज़िया-उल-हक और चीन के उप प्रधानमंत्री देंग शियोफेंग अफगानिस्तान में रूसी हस्तक्षेप के खिलाफ अमेरिका को पाकिस्तान के समर्थन के बदले में यह कीमत वसूलने में कामयाब रहे थे.

अफगानिस्तान को लेकर 1977-1980 के बीच के अमेरिकी विदेश संबंधों पर सार्वजनिक किए गए इन दस्तावेजों के मुताबिक पाकिस्तानी परमाणु हथियार कार्यक्रम पर अमेरिका ने अपनी आंखें मूंद ली थी. इसके अलावा, देंग ने पाकिस्तान को और भी सैन्य और वित्तीय सहायता देने के लिए भी अमेरिका को मना लिया था.

दस्तावेज इस बात की ओर संकेत करता है कि ज़िया और देंग दोनों ने तत्कालीन कार्टर प्रशासन को बहुत ही सफलतापूर्वक इस बात का यकीन दिला दिया था कि प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की तत्कालीन सरकार सोवियत संघ का समर्थक है.

ये भी पढ़ें:

अमेरिका में भ्रष्ट्राचार केस में फंसा AIRBUS, नौ प्रतिशत शेयर गिरे

अफगानिस्तान-सीरिया से सैनिक बुलाने के ट्रंप के फैसले के बाद रक्षा मंत्री जिम मैटिस ने दिया इस्तीफा

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi