S M L

1857 के विद्रोह में शामिल इस भारतीय सैनिक का कंकाल लौटाएगा ब्रिटेन

आलम बेग के कपाल को कैप्टन एआर कास्टेलो इंग्लैण्ड लेकर आया था

Bhasha Updated On: Apr 15, 2018 06:16 PM IST

0
1857 के विद्रोह में शामिल इस भारतीय सैनिक का कंकाल लौटाएगा ब्रिटेन

ब्रिटेन का एक इतिहासकार चाहता है कि उस भारतीय सैनिक का कपाल भारत को सौंपा जाए जो 1857 में ईस्ट इंडिया कंपनी के खिलाफ हुए विद्रोह में शामिल था. जिसे फांसी दे दी गई थी. यह इतिहासकार चाहता है कि इस सैनिक का कपाल उसी स्थान पर दफनाया जाए जहां उसने अंतिम लड़ाई में भाग लिया था.

लंदन स्थित क्वीन मैरी कॉलेज में ब्रिटिश इंपीरियल हिस्ट्री के वरिष्ठ लेक्चरर डॉ. किम वाग्नेर का मानना है कि हवलदार आलम बेग (विद्रोह में शामिल एक प्रमुख नायक) को उसके देश में दफनाने का यह सही समय है.

सन् 1857 में हुए भारत के पहले स्वतंत्रता संग्राम को ब्रिटेन सिपाही विद्रोह मानता है. आलम बेग के कपाल को कैप्टन एआर कास्टेलो इंग्लैण्ड लेकर आया था. विद्रोह के आरोप में भारत में जब बेग को फांसी दी गई थी तो उस समय कास्टेलो ड्यूटी पर था.

हाल में आई किताब ‘द स्कल ऑफ आलम बेग : द लाइफ एंड डेथ ऑफ ए रेबेल ऑफ 1857’ के लेखक वाग्नेर ने कहा, ‘उसकी ( बेग की ) रेजीमेंट मूलत : कानपुर में स्थापित थी. लेकिन मेरा मानना है कि उसके कपाल को भारत और पाकिस्तान के बीच सीमावर्ती इलाके में रावी नदी के किनारे दफनाना उचित रहेगा. यहां आलम बेग ने त्रिम्मू घाट की लड़ाई में भाग लिया था.’

कपाल लौटाना कोई राजनीतिक मुद्दा नहीं है 

उन्होंने कहा, ‘मैं आलम बेग के कपाल को वापस किए जाने को राजनीतिक नहीं मानता. मेरा फोकस सिर्फ यह है कि आलम बेग के अवशेष उसकी मातृभूमि तक पहुंचाए जाएं जिससे कि उसके मरने के 160 साल बाद उसे शांति मिल सके.’ इतिहासकार ने भारत और ब्रिटेन के राजनयिकों के बीच एक बहस छेड़ दी है.

आलम बेग के दुखद अंत के इर्द - गिर्द 1857 के विद्रोह पर वाग्नेर का शोध और लेखन 2014 में तब शुरू हुआ जब बेग के परिवार ने उनसे संपर्क किया जो कपाल लेने आया था.

वर्ष 1963 में यह कपाल केंट में वाल्मेर नगर स्थित एक पब में मिला था. लॉर्ड क्लाइड पब के नए मालिक को यह कपाल एक छोटे से स्टोर रूम में मिला था. इस कपाल के बारे में लिखा था कि यह ईस्ट इंडिया कंपनी की सेवा में शामिल एक भारतीय सैनिक का है जो स्कॉटलैंड की मिशनरी के पूरे परिवार की हत्या का आरोपी था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi