S M L

दलित छात्र की हत्या के बाद भड़के नेता, अखिलेश-माया ने की आलोचना

अखिलेश यादव और मायावती ने कहा कि राज्य सरकार अपराधियों की गिरफ्त में है. कानून व्यवस्था फेल हो चुकी है

Updated On: Feb 12, 2018 08:34 PM IST

FP Staff

0
दलित छात्र की हत्या के बाद भड़के नेता, अखिलेश-माया ने की आलोचना

इलाहाबाद में दलित छात्र दिलीप कुमार सरोज की हत्या के बाद हिंसा भड़क चुकी है. गुस्साए छात्रों ने बसों को जला दिया है, तोड़फोड़ की. सोमवार को जिला मजिस्ट्रेट सुहास एल यू के घर को घेरे रखा.

समाजवादी युवजन सभा (एसआईएस) और अखिल भारतीय छात्र संघ (एआईएसए) के सदस्यों ने विरोध प्रदर्शन किया और सरकार विरोधी और पुलिस विरोधी नारे लगाए. दोषियों की तत्काल गिरफ्तारी की मांग करते हुए छात्रों ने मृतक छात्र के परिवार के लिए पर्याप्त मुआवजा भी मांगा.

दिलीप इलाहाबाद डिग्री कॉलेज में एलएलबी सेकेंड ईयर का छात्र था. मारपीट के बाद वह कोमा में चला गया था. इलाज के दौरान उसकी रविवार सुबह उसकी मौत हो गई थी.

अखिलेश-मायावती ने किया घटना का विरोध 

इधर मामले में राजनीतिक रंग भी ले लिया है. बीएसपी प्रमुख मायावती ने इस घटना की निंदा की. उन्होंने कहा कि यह संकीर्ण और जातिवादी राजनीति का नतीजा है. उन्होंने कहा कि दलितों के खिलाफ यह कोई पहली घटना नहीं है. बीजेपी हमेशा से ही नफरत की राजनीति करती आई है.

मायावती ने कहा कि ऐसी घटनाओं से देश का माहौल बिगाड़ दिया है. युवाओं को रोजगार के बजाए नफरत की राजनीति में उलझाया जा रहा है. उनकी सरकार के समय न तो रोजगार की कमी नहीं थी. बीजेपी सरकार के समय रोजगार खत्म होने के साथ अपराध में भी वृद्धि हुई है.

वहीं विधान परिषद में विपक्ष के नेता अहमद हसन ने कहा कि देशभर में दलितों के साथ अत्याचार बढ़ गए हैं, लेकिन सरकार कुछ नहीं बोलती है.

इससे पहले अखिलेश यादव ने कहा था कि राज्य सरकार अपराधियों की गिरफ्त में है. कानून व्यवस्था की स्थिति बुरी तरह विफल हो चुकी है. आए दिन गरीबों, दलितों के साथ अत्याचार किया जा रहा है.

डंडे और ईंटो के हमला कर की गई थी दिलीप की हत्या 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक प्रतापगढ़ निवासी दिलीप अपने दोस्तों के साथ इलाहाबाद के कालिका रेस्तरां गया था. वहां उसकी कुछ लोगों से कहा-सुनी हो गई, जिसने बाद में मारपीट का रूप ले लिया. मारपीट के समय दिलीप के दोस्त वहां से भाग निकले लेकिन हमलावरों ने दिलीप को घेर लिया. हमलावरों ने उस पर डंडों और ईंटों से हमला किया.

जब दिलीप बेहोश होकर गिर गया, तब हमलावर वहां से भाग खड़े हुए. जिसके बाद रेस्तरां मालिक ने मोटर साइकिल से दिलीप को नजदीकी एसआरएन अस्पताल में भर्ती कराया. जिसके बाद उसके परिजन उसे दूसरे अस्पताल ले गए. अस्पताल में डॉक्टरों ने दिलीप के कोमा ने जाने की बात कही. जिसके बाद रविवार सुबह उसकी मौत हो गई है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi