S M L

कैलाश मानसरोवर यात्रा: नेपाल में फंसे सभी भारतीय यात्रियों को बचाया गया

बचाव अभियान और पीड़ितों के परिवार के सदस्यों से संपर्क स्थापित करने के लिए मौके पर दूतावास के दो कर्मचारियों को तैनात किया गया था

Bhasha Updated On: Jul 07, 2018 04:07 PM IST

0
कैलाश मानसरोवर यात्रा: नेपाल में फंसे सभी भारतीय यात्रियों को बचाया गया

तिब्बत स्थित कैलाश मानसरोवर की यात्रा से लौटते समय फंसे सभी 1,430 भारतीय तीर्थयात्रियों को हेलीकॉप्टर के जरिए सुरक्षित स्थान पर पहुंचा दिया गया है. तीर्थयात्री पिछले पांच-छह दिन से पश्चिमी नेपाल में फंसे हुए थे.

भारतीय दूतावास के मुताबिक हिलसा और सिमीकोट जिलों से बचाए गए लोगों को नेपालगंज और सुरखेत ले जाया गया है. ये दोनों नगर भारतीय सीमा के नजदीक हैं और दोनों ही जगह बेहतर स्वास्थ्य देखभाल और अवसंरचना सुविधाएं हैं.

भारतीय मिशन ने ट्वीट कर कहा, 'सिमीकोट और हिलसा से आज 160 तीर्थयात्रियों को सुरक्षित बाहर निकाले जाने के साथ ही बचाव प्रक्रिया पूरी हो गई है. दूतावास की टीम लगातार स्थिति की निगरानी के लिए वहां मौजूद है.'

एक अधिकारी ने बताया कि भारतीय दूतावास ने सूचना मिलते ही फंसे लोगों को निकाले जाने का अभियान शुरू किया और आवश्यक दवाइयां और अन्य आवश्यक सामग्री उपलब्ध कराई.

दूतावास के प्रवक्ता रोशन लेप्चा ने कहा, 'सभी फंसे लोगों को हिलसा और सिमीकोट से हेलीकॉप्टर के जरिए निकाल लिया गया है और उन्हें वहां से सुरखेट और नेपालगंज भेज दिया गया है. बचाव अभियान और पीड़ितों के परिवार के सदस्यों से संपर्क स्थापित करने के लिए मौके पर दूतावास के दो कर्मचारियों को तैनात किया गया था.'

उन्होंने बताया कि दूतावास ने राहत कार्यों के लिए स्थानीय टूर आपरेटरों और सुरक्षाकर्मियों के साथ समन्वय किया.

चीन के अधीन तिब्बत क्षेत्र में स्थित कैलाश मानसरोवर हिंदुओं, बौद्धों और जैनों के लिए पवित्र तीर्थस्थल है और हर साल सैकड़ों भारतीय प्रतिकूल मौसम परिस्थितियों में इस यात्रा पर जाते हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi