S M L

वायु प्रदूषण से पुरुष हो सकते हैं बांझपन के शिकार

वायु प्रदूषण विशेष कर सूक्ष्म पार्टिकुलेट मैटर (पीएम) का स्तर पुरुषों में शुक्राणु की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकता है जिससे उनमें बांझपन की समस्या पैदा हो सकती है

Updated On: Nov 22, 2017 05:45 PM IST

Bhasha

0
वायु प्रदूषण से पुरुष हो सकते हैं बांझपन के शिकार

वायु प्रदूषण खासकर सूक्ष्म पार्टिकुलेट मैटर (पीएम) का स्तर पुरुषों में शुक्राणु की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकता है और उनमें बांझपन ला सकता है. एक नए अध्ययन ने इस बात की चेतावनी दी गई है.

शुक्राणु की गुणवत्ता को खराब करने के पीछे पर्यावरण में मौजूद रसायनों के संपर्क में आने को संभावित कारक माना जाता रहा है. लेकिन रिसर्चर्स यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि क्या इसमें वायु प्रदूषण की भी कोई भूमिका हो सकती है.

इस आशंका की पुष्टि के लिए हांगकांग की चाइनीज यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स ने 14 से 49 साल के करीब 6500 पुरुषों के स्वास्थ्य पर पीएम 2.5 से कम और लंबे समय तक संपर्क में रहने के कारण पड़ने वाले प्रभावों का अध्ययन किया.

पीएम 2.5 के संपर्क में आने और शुक्राणु के असामान्य आकार के बीच एक मजबूत संबंध देखा गया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi