S M L

15 जनवरी तक YouTube हटा देगा ऐनोटेशंस, अगर YouTuber हैं तो जरूर पढ़ें

YouTube ने कहा कि उनका 70 प्रतिशत वॉच टाइम मोबाइल फोन पर होता है

Updated On: Nov 28, 2018 04:44 PM IST

FP Staff

0
15 जनवरी तक YouTube हटा देगा ऐनोटेशंस, अगर YouTuber हैं तो जरूर पढ़ें

Netflix और Amazon Prime जैसे कई वीडियो-शेयरिंग प्लेटफॉर्म आने के बाद भी YouTube ने आज तक अपनी पकड़ बना रखी है. अपनी इमेज को ध्यान में रखते हुए YouTube लगातार खुद को अपडेट करता रहता है. जल्द ही YouTube एक और बदलाव करने वाला है. हालांकि, इस बार अपडेट में कुछ जोड़ा नहीं बल्कि हटाया जा रहा है. मंगलवार को YouTube ने कहा कि 15 जनवरी तक वे अपने वीडियो ऐनोटेशंस हटा देंगे.

क्या होते हैं ऐनोटेशंस?

दरअसल ऐनोटेशंस वे टेक्स्ट हैं जिन्हें YouTube वीडियो में डाला जाता है. इन टेक्स्ट में कोई मैसेज या किसी दूसरे वीडियो का लिंक भी हो सकता है. इन ऐनोटेशंस का इस्तेमाल YouTubers अपने फायदे के अनुसार करते हैं. YouTube ने इस टूल को जून 2008 में लॉन्च किया था.

इस फोटो में सर्कल हुए तीनों बॉक्स ऐनोटेशंस हैं

इस फोटो में सर्कल हुए तीनों बॉक्स ऐनोटेशंस हैं

ये ऐनोटेशंस आप सिर्फ तब ही देख सकते हैं जब आप कंप्यूटर पर YouTube चला रहे हों. यही वजह है कि इन्हें बंद किया जा रहा है. YouTube का कहना है कि अब कंप्यूटर से ज्यादा YouTube का इस्तेमाल फोन पर होता है. आंकड़े बताते हुए YouTube ने कहा कि उनका 70 प्रतिशत वॉच टाइम मोबाइल फोन पर होता है.

मोबाइल फोन के लिए YouTube ने मार्च 2015 में इंट्रैक्टिव कार्ड नाम का एक टूल निकाला. इस टूल से आपको वीडियो में ऊपर दाहिनी तरफ एक सर्कल में 'i' दिखेगा, जिस पर क्लिक या टैप किए जाने पर वह पेज खुलेगा जो वीडियो मेकर ने वहां लगाया होगा.

मई 2017 से ऐनोटेशंस का एडिटर हटा दिया गया था, जिससे आप ना तो नए ऐनोटेशंस अपनी वीडियो में डाल सकते हैं और ना ही किसी ऐनोटेशन में बदलाव कर सकते हैं. लेकिन अगर चाहें तो डीफॉल्ट ऐनोटेशंस को हटा सकते हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi