S M L

शेयर कैब की सर्विस खत्म कर सकता है उबर

उबर सवारी का डाटा ड्राइवर के डाटाबेस में से नहीं हटाता था और यह हमेशा के लिए ड्राइवर के डाटाबेस में ही रह जाता था

FP Staff Updated On: Apr 24, 2018 08:57 PM IST

0
शेयर कैब की सर्विस खत्म कर सकता है उबर

पिछले एक साल से उबर की परेशानियां खत्म होने का नाम ही नहीं ले रही हैं. पहले तो इस पर कार्यस्थल पर उत्पीड़न का आरोप लगा, फिर व्यापार रहस्यों की चोरी का. यहां तक की लंदन में इसे अपना लाइसेंस तक गवाना पड़ गया. साथ ही इस पर आरोप लगते रहे हैं कि उबर बिना जांच पड़ताल के ही ड्राइवरों को रख लेता है. तो इसी लिए उबर ने सवारियों की प्राइवेसी को ध्यान में रखते हुए ड्राइवर डाटाबेस में कुछ बदलाव करने का निर्णय लिया है.

दरअसल पिछले दिनों कई मामले ऐसे आए जब ड्राइवरों पर महिला सवारियों की पिकअप और ड्रॉप लोकेशन का इस्तेमाल कर उनका पीछा करने का आरोप लगा. ऐसा इसलिए होता था क्योंकि अब तक उबर सवारी का डाटा ड्राइवर के डाटाबेस में से नहीं हटाता था, और यह हमेशा के लिए ड्राइवर के डाटाबेस में ही रह जाता था. जिसके जरिए वह कभी भी सवारी के ड्रॉप और पिकअप लोकेसन का पता कर सकता था. हालांकि मौजूदा जानकारी के मुताबिक नए बदलावों के बाद सवारी की यात्रा खत्म हो जाने पर ड्राइवर डाटाबेस में सवारी की पिकअप और ड्रॉप हिस्ट्री नहीं देख पाएगा.

बता दें कि सामान्य डेटा संरक्षण विनियमन (जीडीपीआर) के प्रभावी होने के साथ ही अब गूगल, फेसबुक, उबर आदि को उपयोगकर्ता की गोपनीयता पर अधिक सावधानी बरतनी होगी. जीडीपीआर के कानूनों के मुताबिक किसी भी उपयोगकर्ता को अपने डेटा तक पहुंचने और इसे हटाने का अधिकार है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi