Co Sponsor
In association with
In association with
S M L

आपके मोबाइल बिल में आ सकती है 30% की कमी, प्राइस वॉर है कारण

एनालिस्टों और इंडस्ट्री से जुड़े लोगों का कहना है कि अगले एक साल में टैरिफ में 25-30 फीसदी की गिरावट आएगी.

FP Staff Updated On: Aug 24, 2017 07:45 PM IST

0
आपके मोबाइल बिल में आ सकती है 30% की कमी, प्राइस वॉर है कारण

टेलीकॉम कंपनियों के बीच जारी प्राइस वार के कारण पिछले एक साल में आपका मोबाइल बिल काफी घटा है, आने वाले समय में आपको मोबाइल बिल में और राहत मिल सकती है. एनालिस्टों और इंडस्ट्री से जुड़े लोगों का कहना है कि अगले एक साल में टैरिफ में 25-30 फीसदी की गिरावट आएगी. वहीं, अगर आप डेटा का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं तो आपको कहीं अधिक फायदा हो सकता है.

हेवी डेटा यूजर्स को ज्यादा फायदा

टेलीकॉम मार्केट में रिलायंस जियो इंफोकॉम की एंट्री के बाद औसतन कीमतें 25-32 फीसदी घटी हैं, जबकि हेवी डेटा यूजर्स के लिए चार्ज में 60-70 फीसदी की कमी आई है. ग्राहकों को अपने साथ बनाए रखने और नए कस्टमर्स को जोड़ने के लिए टेलीकॉम कंपनियों ने टैरिफ घटाए हैं और इंडस्ट्री में प्राइस वार शुरू हो गया है.

सेलुलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के डायरेक्टर जनरल राजन मैथ्यूज का कहना है कि टेलीकॉम कंपनियों के बीच कम से कम एक साल प्राइस वार जारी रहेगा.

आक्रामक टैरिफ वार के कारण घटेगा मोबाइल बिल

एक एक्सपर्ट के मुताबिक, एक साल में मोबाइल बिल पर एवरेज मंथली स्पेंडिंग 25-28 फीसदी घटकर 240-280 रुपये के स्तर पर आ गया है. उन्होंने बताया कि नए बिजनेस मॉडल्स और आक्रामक टैरिफ वार के कारण एक साल में मोबाइल फोन के मंथली बिल में 30 फीसदी की और गिरावट आएगी.

मोबाइल सर्विसेज सस्ती होने के साथ कंपनियां कस्टमर्स को बनाए रखने के लिए वॉयस और डेटा का पैकेज ऑफर कर रही हैं. कुछ पॉपुलर पैकेज 250-500 रुपये के प्राइस टैग में आ रहे हैं, जिसमें 28 से 84 दिनों की वैलिडिटी है. जो कंज्यूमर्स एक दिन में 8GB से ज्यादा डेटा का इस्तेमाल करते हैं, वह हेवी डेटा यूजर कैटेगरी में आते हैं और उन्हें सबसे ज्यादा फायदा हो सकता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
जो बोलता हूं वो करता हूं- नितिन गडकरी से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi