S M L

फेसबुक पर स्क्रॉल और लाइक करना आपको बीमार बनाता है

फेसबुक के दो प्रेसिडेंट इसके बुरे असर को लेकर चिंता जाहिर कर चुके हैं

Updated On: Dec 19, 2017 04:31 PM IST

FP Tech

0
फेसबुक पर स्क्रॉल और लाइक करना आपको बीमार बनाता है

अगर आपको भी सोशल मीडिया पर बिना वजह फीड स्क्रॉल करने की आदत है तो आपके लिए बुरी खबर है. खुद फेसबुक का मानना है कि सोशल मीडिया का ज्यादा इस्तेमाल आपको बीमार बना सकता है.

सोशल मीडिया पर यूजर्स का शोषण

नवंबर में फेसबुक के पहले प्रेसिडेंट शॉन पार्कर ने सोशल मीडिया को लेकर तीखा बयान दिया था. इसके बाद दुनियाभर में सोशल मीडिया और सोसायटी को लेकर नई बहस शुरू हुई. पार्कर का कहा है कि सोशल मीडिया पर यूजर्स मानसिक तौर पर प्रताड़ित होते हैं. सोशल मीडिया यूजर्स का शोषण कर रहा है. यहां आने वाली टिप्पणियों से लोग प्रताड़ित होते हैं.

पार्कर ने सोशल मीडिया का बच्चों पर हो रहे असर को लेकर भी राय जाहिर की थी. उन्होंने कहा, हमारे बच्चों के ब्रेन के साथ सोशल मीडिया क्या कर रहा है इसे सिर्फ भगवान ही जानते हैं? इसके बाद फेसबुक के पूर्व कार्यकारी चमथ पालिहपतिया ने भी चौंकाने वाला बयान दिया.

समाज को बर्बाद कर रहा सोशल मीडिया

फेसबुक के पूर्व कार्यकारी की मानी जाए तो सोशल मीडिया नेटवर्क सोसायटी को बर्बाद कर रहा है. उन्होंने कहा कि समाज के काम करने के तरीके सोशल मीडिया से बर्बाद हो रहे हैं. अपने दो-दो पूर्व अधिकारियों को सोशल मीडिया की आलोचना करते देख फेसबुक भी इस बहस में कूद पड़ा. फेसबुक ने एक ब्लॉग पोस्ट के जरिए इन आलोचनाओं का जवाब दिया.

फेसबुक ने भी ब्लॉग पोस्ट में स्वीकार किया कि सोशल मीडिया यूजर्स की मेंटल हेल्थ को प्रभावित कर सकता है. फेसबुक ने लिखा, इंटरनेट ने लोगों की सामाजिकता को खत्म किया है. हालांकि, फेसबुक ने कहा कि सोशल मीडिया के कई पॉजिटिव पहलू भी हैं.

फेसबुक ने कहा, अगर सोशल मीडिया पर यूजर्स को लगातार सूचनाएं दी जाए. उससे पढ़ने के लिए कहा जाए तो उसका मूड खराब हो सकता है. फेसबुक ने मिशिगन यूनिवर्सिटी के छात्रों पर हुए शोध का हवाला दिया. सैन डिएगो और येल यूनिवर्सिटी की रिसर्च का कहना है कि अगर कोई व्यक्ति किसी लिंक पर औसत से चार गुना ज्यादा लाइक करता है तो उसके मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य पर असर पड़ता है. फेसबुक ने कहा, सोशल मीडिया वक्त बिताने के लिए नहीं सोशल इंटरेक्शन के लिए है. ऑनलाइन लोगों से इंगेज होना सुधारों से जुड़ा है.

हाल ही में एक और शोध सामने आया है जो कहता है कि सोशल मीडिया पर बिना कारण फीड स्क्रॉल करने की आदत लोगों में अवसाद पैदा करती है और उन्हें उदास बनाती है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi