S M L

'फ्लाइंग टैक्सी' का सपना जल्द पूरा करेगी रोल्स रॉयस

कंपनी के मुताबिक अगले 18 महीनों में वह इलेक्ट्रिक वर्टिकल टेक ऑफ एंड लैंडिंग (EVTOL) व्हीकल का प्रोटोटाइप वर्जन तैयार कर लेगी

Updated On: Jul 17, 2018 04:43 PM IST

FP Staff

0
'फ्लाइंग टैक्सी' का सपना जल्द पूरा करेगी रोल्स रॉयस

ट्रैफिक जाम में फंसने या कहीं जल्दी पहुंचने की कोशिश करते हुए कई बार आपकी दिमाग में आया होगा कि कितना अच्छा होता उड़कर डेस्टिनेशन पर पहुंच जाता. या फिर किसी हॉलीवुड फिल्म में आपने जरूर देखा होगा चलती और उड़ती कार. आपका यह सपना जल्द पूरा हो सकता है. यह सपना पूरा करने की तैयारी में है लग्जरी कार कंपनी रोल्स रॉयस.

ब्रिटिश कार कंपनी ने एक तकनीक विकसित की है. कंपनी का दावा है कि जल्द  ही वह फ्लाइंग टैक्सी डेवलप कर लेगी. वैसे अभी यह टैक्सी बहुत लंबा सफर नहीं कर पाएगी. माना जा रहा है कि रोल्स रॉयस की फ्लाइंग टैक्सी एकसाथ 805 किलोमीटर का सफर तय कर पाएगी.

रोल्स-रॉयस का कहना है कि अगले पांच साल में इसे बाजार में उतारा जा सकता है. कंपनी के मुताबिक अगले 18 महीनों में वह इलेक्ट्रिक वर्टिकल टेक ऑफ एंड लैंडिंग (EVTOL) व्हीकल का प्रोटोटाइप वर्जन तैयार कर लेगी.  मुमकिन है कि 2020 की शुरुआत में ही यह अपनी पहली उड़ान भी भर लेगा.

क्या खास है इस फ्लाइंग टैक्सी में?

फ्लाइंग टैक्सी को किसी प्लेन की तरह रनवे पर दौड़ने की जरूरत नहीं है. इसमें चार से पांच लोग बैठ सकते हैं. रोल्स-रॉयस इलेक्ट्रिक टीम के अध्यक्ष रोब वॉटसन का कहना है, 'आप तीन से पांच साल के भीतर फ्लाइंग टैक्सी में उड़ान भर सकेंगे. जबकि हम दो सालों के भीतर ही इसका प्रदर्शन करके दिखा देंगे.' यह हाइब्रिड व्हीकल गैस टर्बाइन इंजन से बना है जो एक इलेक्ट्रिक सिस्टम  के साथ मिलकर काम करेगा.

लंदन से पेरिस जा सकेंगे वो भी बिना रुकावट

अभी जितनी भी इलेक्ट्रिक सिस्टम वाली फ्लाइंग टैक्सी है वह 480 किलोमीटर का सफर कर पाती हैं. जबकि हाइब्रिड फ्लाइंग टैक्सी एकबार में 804 किलोमीटर तक उड़ सकती है.  मतलब अगर लंदन से पेरिस जाना हो तो आप बिना रुकावट के यह यात्र कर सकते हैं. अगर आप रोल्स रॉयस EVTOL व्हीकल से यात्रा कर रहे हैं.

कई और कंपनियां भी इस तरह की फ्लाइंग टैक्सी बनाने में जुटी हैं. लेकिन हाइब्रिड फ्लाइंग टैक्सी के बाजार में रोल्स रॉयस इकलौती कंपनी है. उबर, गूगल की किट्टी हॉक, जर्मनी की लिलियम एविएशन, फ्रांस की साफरान और अमेरिका की हनिवेल भी फ्लाइंग टैक्सी सिस्टम पर काम कर रहे हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi