S M L

गुड मॉर्निंग मैसेज भेजने वालों अब तो सुधर जाओ, वर्ना.....

सच में सुबह-सुबह उठकर पचासों रिश्तेदारों और दोस्तों को गुड मॉर्निंग का मैसेज भेजने वालों को अब सुधर जाना चाहिए

FP Staff Updated On: Jan 23, 2018 01:27 PM IST

0
गुड मॉर्निंग मैसेज भेजने वालों अब तो सुधर जाओ, वर्ना.....

वॉट्सऐप पर सुबह-सुबह गुड मॉर्निंग के मैसेज भेजने वालों अब तो सुधर जाओ, वर्ना किसी दिन इंटरनेट इन मैसेजों से भर जाएगा और इंटरनेट ठप हो जाएगा. वैसे ये कुछ ज्यादा हो गया, लेकिन सच में सुबह-सुबह उठकर पचासों रिश्तेदारों और दोस्तों को गुड मॉर्निंग का मैसेज भेजने वालों को अब सुधर जाना चाहिए. गूगल रिसर्चर्स ने पाया है कि इंटरनेट भारतीयों के गुड मॉर्निंग मैसेज से भर रहा है. और यहां हर रोज इन मैसेजों की वजह से 10 में से 3 भारतीयों के स्मार्टफोन का स्टोरेज भर जाता है.

वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट के मुताबिक, सिलिकॉन वैली के गूगल के ऑफिस में रिसर्चर्स पता लगाने की कोशिश कर रहे थे कि आखिर भारत में आखिर इतने स्मार्टफोन्स प्रभावित क्यों हो रहे हैं- उनको जो जवाब मिला- वो बहुत हैरान करने वाला है.

हालिया वक्त में भारत में लाखों इंटरनेट यूजर्स बढ़े हैं. यहां रोज हजारों लोग पहली बार इंटरनेट से जुड़ते हैं और पहली बार इंटरनेट इस्तेमाल कर रहे लोगों का ऑनलाइन व्यवहार भी एक सा होता है- वो अपने रिश्तेदारों-दोस्तों को शुभकामना और गुड मॉर्निंग या गुड नाइट जैसे मैसेज भेजते हैं.

इसके चलते पिछले 5 सालों में गूगल पर गुड मॉर्निंग इमेज के सर्च में भी 10 गुना बढ़ोत्तरी हुई है. इसका सबसे बड़ा उदाहरण विजुअल सर्च पिन्टरेस्ट के इस बदलाव में दिखता है. पिन्टरेस्ट ने लोगों की इस आदत को देखते हुए अपने साइट पर नया सेक्शन जोड़ा है, जिसमें फोटो के साथ कोट होता है, लोगों में ऐसी इमेजा का काफी क्रेज है. इसमें आप फोटो के साथ अपनी भावनाएं शेयर कर पाते हैं. यहां तक कि कंपनी का कहना है कि पिछले साल भारत में ऐसी इमेजेज को 9 गुना ज्यादा डाउनलोड किया गया.

गूगल रिसर्चर्स ने इस दौरान पाया कि भारतीय स्मार्टफोन यूजर्स के फोन में इस तरह के मैसेजों से स्टोरज फुल हो जाता है. इसमें एक डाटा स्टोरेज फर्म वेस्टर्न डिजिटल कॉरपोरेशन के हवाले से बताया गया है कि हर रोज लगभग 10 में से 3 भारतीय यूजर्स इस समस्या ये जूझते हैं.

लेकिन गूगल इसके लिए एक सॉल्यूशन भी लेकर आया है. ये सॉल्यूशन एक नया ऐप है- फाइल्स गो ऐप. ये ऐप एक खास पैटर्न के मैसेजों को ऑटोमैटिक एक साथ डिलीट कर देता है. गूगल ने अपने विशाल डेटाबेस में आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस की मदद से इस ऐप को ये काम करने के लिए ट्रेनिंग दी है.

गूगल ने पिछले दिसंबर में दिल्ली में इस ऐप को इंट्रोड्यूस भी किया था, जिसका भारत में खुले दिल से स्वागत किया गया है. भारत में अब तक इस ऐप को 1 करो़ड़ से ज्यादा लोग डाउनलोड कर चुके हैं. गुड मॉर्निंग मैसेज के पीड़ितों के लिए गूगल का ये ऐप वरदान साबित हो सकता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi