Co Sponsor
In association with
In association with
S M L

IIT मुंबई: जल्द ही बिना सर्जरी आधे घंटे में संभव होगा कैंसर का इलाज

भारत में सबसे ज्यादा होने वाले मुंह के कैंसर में ये तकनीक काफी कारगर होगी

FP Staff Updated On: Sep 26, 2017 05:33 PM IST

0
IIT मुंबई: जल्द ही बिना सर्जरी आधे घंटे में संभव होगा कैंसर का इलाज

आईआईटी मुंबई और टाटा मेमोरियल सेंटर की एक रिसर्च टीम में सतह पर होने वाले कैंसर में एक बड़ी सफलता हासिल की है. ओरल, सर्वाइकल और ब्रेस्ट कैंसर और कई प्रकार के ट्यूमर को खत्म करने की दिशा में ये टीम आगे बढ़ी है. अब गोल्ड-पॉलीमर नैनोपार्टिकल्स और नियर इंफ्रारेड लाइट की मदद से इनको खत्म किया जा सकेगा. इन दो संस्थानों की इस टीम ने हाइब्रिड गोल्ड-पॉलीमर नैनोपार्टिकल्स को ट्यूमर खत्म करने के लिए सिंथेसाइज़ (केमिकल रिएक्शन द्वारा तैयार) कर लिया है.

द हिंदू की खबर के मुताबिक आईआईटी मुंबई के प्रोफेसर रोहित श्रीवास्तव और टाटा मेमोरियल के डॉक्टर अभीजीत डे के निर्देशन में काम कर रही इस टीम को ये सफलता मिली है. इस नए इलाज में 43 डिग्री सेंटीग्रेड पर पॉलीमर कैंसर के सेल को खत्म कर देता है. और दवा भी रिलीज कर देता है. कैंसर के सेल को खत्म करने के लिए 43 डिग्री का तापमान चाहिए होता है. डॉक्टर डे बताते हैं कि ये नया तरीका कैंसर के इलाज में एक बड़ी सफलता है.

डॉक्टर श्रीवास्तव के अनुसार इससे पहले से चले आ रहे कैंसर सेल को खत्म करने के तरीके पूरी तरह से कारगर नहीं है. बिना गोल्ड-पॉलीमर के अक्सर तापमान 43 डिग्री तक नहीं पहुंचता. इस नए तरीके के साथ इस तापमान पर पहुंचना सुनिश्चित हो जाता है. प्रोफेसर श्रीवास्तव ये भी बताते हैं कि जल्द ही इस इलाज के पहले चरण के ट्रायल के लिए कंपनियों से बात की जाएगी. अगर कोई नहीं तैयार होता है तो आईआईटी मुंबई खुद इस दिशा में काम करेगी.

इस ट्रीटमेंट की सबसे खास बात ये है कि इसके सफल होने पर कैंसर का इलाज सुरक्षित और जल्द होने लगेगा. इसमें एक नैनो टेक्नॉलजी वाला इंजेक्शन मरीज के ट्यूमर में लगा दिया जाएगा. कुछ मिनट बाद लेज़र से पार्टिकल्स को ऐक्टिवेट कर दिया जाएगा. आधे घंटे के अंदर मरीज का इलाज पूरा हो जाएगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
AUTO EXPO 2018: MARUTI SUZUKI की नई SWIFT का इंतजार हुआ खत्म

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi