S M L

Global Internet Shutdown में क्या होगा ? क्या दुनियाभर में पड़ेगा असर ?

अलग-अलग बैच में होगा अपडेट, अनुमान है कि 1% यूज़र्स को ही झेलना पड़ेगा complete shutdown

Updated On: Oct 12, 2018 07:12 PM IST

FP Staff

0
Global Internet Shutdown में क्या होगा ? क्या दुनियाभर में पड़ेगा असर ?

अगर आपको अगले 48 घंटे तक इंटरनेट चलने में तकलीफ का सामना करना पड़े तो बिलकुल भी परेशान होने की जरूरत नहीं है. ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि Internet Corporation of Assigned Names and Numbers (ICANN) Domian Name System (DNS) को सुरक्षित रखने वाली cryptographic key की मरम्मत कर रहा होगा.

DNS क्या है ?

DNS को अगर आसान शब्दों में समझाया जाए तो ये इंटरनेट की एड्रेस बुक है. इसका काम करने का तरीका कुछ इस तरह है...पहले ये उन वेब एड्रेस का पता लगता है जो हमारे कंप्यूटर या फोन में होता है, अब हम जो भी वेबसाइट सर्च करते हैं DNS तुरंत उस वेबसाइट के एड्रेस का पता लगता है और ये देखता है कि हमे उस वेबसाइट पर जाने की अनुमति है या नहीं. इसके बाद ये तुरंत उस वेबसाइट को हमारे सामने खोल देता है. दुनिया का हर वेब डोमेन इस डायरेक्टरी में छपा होता है. इसी तरीके से इंटरनेट की भीड़ को मैनेज किया जाता है.

ICANN को क्या-क्या करना है ?

इंटरनेट की सुरक्षा में हर वक्त आती चुनौतियों को ध्यान में रखते हुए, ICANN को ये बदलाव करने पड़ रहे हैं. इसका मतलब ये हुआ कि जो भी वेब पेज DNS से जुड़े हुए हैं, उतने समय के लिए नहीं चलेंगे जब तक DNS पर काम चलेगा. उतने समय के लिए वो सभी पेज ऐसे हो जाएंगे, जैसे कभी थे ही नहीं. लेकिन फिर भी ऐसे कुछ पेज होंगे जिन्हे आप खोल सकेंगे, बस वो पेज खुलने में थोड़ा वक्त लेंगे.

क्या इंटरनेट पूरी तरह से ठप हो जाएगा ?

नहीं, encryption key के अपडेट होने का यह मतलब बिलकुल नहीं है कि इंटरनेट पूरी तरह से ठप हो जाएगा. कंपनी इस काम को अलग-अलग बैच में करेगी. जिस भी बैच का काम पूरा हो जाएगा उसे तुरंत इस्तेमाल के लिए शुरू कर दिया जाएगा.

हालांकि कुछ वेबसाइट ऐसी भी हैं जिनको पहले ही अपडेट कर दिया गया है. तो अपडेट के दौरान उन वेबसाइटों को खोला जा सकेगा. ICANN ने अंदाजा लगाया है कि टेस्ट के पहले पड़ाव के बाद दुनियाभर के इंटरनेट यूज़र्स में से सिर्फ 1% ही ऐसे होंगे जिन्हे इंटरनेट के ठप हो जाने कि तकलीफ का सामना करना पड़ेगा. हालांकि देखा जाए तो ये संख्या भी 3.5 करोड़ है.

इस दौरान क्या करें ?

शुरुआत में कुछ नहीं, क्योंकि कुछ कर ही नहीं सकते सिर्फ इंतजार करें. बाद में भी अगर आप वेबसाइट और वेब पेज नहीं खोल पा रहे हैं, तो अपने Router को बंद करके दोबारा शुरू करें. फिर भी कुछ ना हो तो इसका मतलब यह होगा कि अभी भी आपका इंटरनेट प्रोवाइडर पुराना DNS चला रहा है, और उसे बदलने कि जरूरत है

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi