विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

गूगल के यूट्यूब से दूर जा रहे हैं बड़े विज्ञापनदाता

इस बहिष्कार से गूगल के सामने अरबों डॉलर के नुकसान का खतरा पैदा हो सकता है

Bhasha Updated On: Mar 23, 2017 03:09 PM IST

0
गूगल के यूट्यूब से दूर जा रहे हैं बड़े विज्ञापनदाता

एटी एंड टी, वेरिजॉन और कई अन्य बड़े विज्ञापनदाता गूगल की यूट्यूब साइट पर अपने मार्केटिंग अभियान को निलंबित कर रहे हैं. विज्ञापनदाता इस बात से परेशान हैं कि यूट्यूब पर उनके ब्रांड को आतंकवाद और अन्य गंदे विषयों पर वीडियो के साथ दिखाया जा रहा है.

इस व्यापक बहिष्कार से गूगल के सामने अरबों डॉलर के नुकसान का खतरा पैदा हो सकता है.

यूट्यूब की लोकप्रियता इसके बड़े लाइब्रेरी संग्रह के कारण है. जिसमें टीवी क्लिप्स से लेकर समलैंगिकों पर लोगों की कठोर समालोचना तक शामिल है.

यूट्यूब पर विविध चयन प्रक्रिया वीडियो के आगे विज्ञापन को दिखाने की अनुमति देती है जो मार्केटर को अप्रिय लगती है. गूगल के इसे रोकने के प्रयास के बावजूद भी ऐसा हो रहा है.

दरअसल गूगल यूट्यूब वीडियो में विज्ञापन डालने के लिए ऑटोमेटेड प्रोग्राम पर निर्भर है क्योंकि इस काम को इंसानों के जरिए नहीं संभाला जा सकता. यूट्यूब पर हर मिनट 400 घंटे के वीडियो पोस्ट होते है.

इस सप्ताह की शुरुआत में ही गूगल ने गंदे, आक्रामक और अपमानजनक विज्ञापन पर रोक लगाने के प्रयास की प्रतिबद्धता जताई थी.

गूगल के प्रमुख बिजनेस अधिकारी फिलिप शिंडलेयर ने मंगलवार को एक पोस्ट में लिखा था, 'हम जानते हैं कि यह उन विज्ञापनदाताओं और एजेंसियों को अस्वीकार है जो हम पर विश्वास करते हैं.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi