S M L

कैसे-कैसे फेसबुक आपको अप्रैल फूल बनाकर डेटा चुराता रहा

आप और हम अपना डेटा कहां, कहां बांट चुके हैं हमें खबर ही नहीं है

FP Staff Updated On: Apr 01, 2018 06:18 PM IST

0
कैसे-कैसे फेसबुक आपको अप्रैल फूल बनाकर डेटा चुराता रहा

फेसबुक ने डेटा लीक मामले के बाद अपनी प्राइवेसी सेटिंग में काफी बदलाव किए हैं. आने वाले वर्जन में फेसबुक पर सारी सेटिंग एक ही पेज पर दिख जाएगी. जबकि पहले सिक्योरिटी सेटिंग अलग, अकाउंट सेटिंग अलग और तमाम दूसरी सेटिंग अलग दिखाता था. इसमें अच्छे खासे यूज़र को पता नहीं चलता कि उसका डेटा कहां से कहां चला जाता है. वो सब छोड़िए अप्रैल फूल के मौके पर हम बताते हैं कि फेसबुक ने किस साल में आपकी कौन सी सूचना कैसे चुराई.

सोशल ग्राफ

2007 में फेसबुक ने सोशल ग्राफ नाम का फीचर डेवलपर्स के लिए जारी किया. इसमें किसी के फेसबुक अकाउंट के जरिए उसके दोस्तों की जानकारी, वो उनके साथ कितना समय ऑनलाइन बिताते हैं, सब कुछ जाना जा सकता है. ये खतरनाक है. फेसबुक की भाषा में कहें तो इसने दुनिया के काम करने का ढंग बदला है.

आपने फेसबुक पर ऐसे कई ऐप देखे होंगे जो बताते हैं आपका सबसे अच्छा दोस्त कौन है, आपकी कौन सी तस्वीर हीरो-हीरोइन से मिलती है, अगर आपने गौर किया हो तो देखा होगा कि फेसबुक पर इन ऐप के जवाब काफी सटीक होते हैं. ऐसा इसलिए होता है कि इस ऐप के जरिए कोई भी वेबसाइट पता कर लेती है कि आपकी सबसे ज्यादा चैटिंग किससे हो रही है. कौन है जो आपकी हर पोस्ट को लाइक और उसपर कमेंट कर रहा है. जाहिर सी बात है कि वो आपका अच्छा दोस्त कहा जा सकता है. इसकी समस्या ये है कि भले ही किसी शख्स ने अपनी सारी प्राइवेसी सेटिंग सही कर रखी हों, आपकी फ्रेंडलिस्ट में ऐसे कई लोग होंगे जो इसतरह की ऐप के साथ आपकी काफी जानकारी दूसरों को दे देंगे.

फेसबुक बीकन

2007 में ही फेसबुक ने बीकन लॉन्च किया. बीकन की खास बात है कि वो बताता है कि आपके दोस्त दूसरी वेबसाइट्स पर क्या कर रहे हैं. अमेरिका की एक महिला ने इसके बाद फेसबुक के खिलाफ मुकदमा कर दिया. महिला के पति ने एक ऑनलाइन साइट से हीरे की अंगूठी खरीदी. उसका इरादा पत्नी को मैरिज एनिवर्सरी पर सर्प्राइज़ देना था. लेकिन महिला को उसकी फेसबुक फीड में पता चल गया कि उसके पति ने फलां साइट से खरीददारी की है. इसके बाद काफी बवाल हुआ और ज़करबर्ग ने माफी मांगी. लेकिन याद रखिए आपका करीबी दोस्त मलेशिया घूमने जाए तो आपके मेलबॉक्स में और फीड में मलेशिया के सस्ते एयर टिकट्स के ऐड दिखाएंगे. फेसबुक ने बीकन के बाद कनेक्ट नाम से नया फीचर लॉन्च किया है.

फार्मविला

2010 में फेसबुक पर गेम्स का खुमार था. लोग फार्मविला में खेती करते थे. माफिया वॉर केलते थे. इन सब गेम्स के बहाने लोगों का डेटा चोरी हो रहा था. कई गेम बंद करने पड़े. फेसबुक ने फिर से प्राइवेसी सेटिंग बदलने की बात कही. लेकिन इसके अगले ही साल पता चला कि फेसबुक अपने यूज़र्स की प्राइवेट और सिर्फ फ्रेंड्स तक वाली चीज़ें भी सबसे शेयर करता है. मतलब अगर आपने कोई फोटो शेयर की है और आप उसे सिर्फ अपने दोस्तों तक रखना चाहते हैं तो भी कंपनियां उसे देख सकती हैं, इस्तेमाल कर सकती हैं. फेसबुक ने फिर कहा की ऐसा नहीं होगा मगर खुद किया.

फेसबुक ने 2012 में एक और नया तरीका ईजाद किया. अगर आपकी ईमेल आईडी किसी कंपनी के पास है तो वो आपके फेसबुक डेटा तक पहुंच सकती है. इसके साथ ही वो आपके फ्रेंड लिस्ट में दखल दे सकती है. लेकिन फेसबुक ने इससे फिर इनकार किया. इसी क्रम में आगे बढ़ते हुए कैंब्रिज एनालिटिका ने अपने रिसर्चर एलेग्जैंडर कोगन के जरिए एक ऐप बनाई. इस ऐप ने तीन लाख लोगों को एक क्विज़ दिया. इन तीन लाख लोगों के जरिए कैंब्रिज एनालिटिका ने एक करोड़ से ज्यादा लोगों का डेटा चुराया.

तो अगली बार जब कैंडी क्रश जैसे किसी ऐप का नोटिफिकेशन आए तो समझ लीजिएगा कि आपके किसी दोस्त ने आपका डेटा चोरी करने का इंतजाम कर दिया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi