by sexual Latest & Breaking News Hindi

धारा 377 पर सुनवाई: सुप्रीम कोर्ट की अति न्यायिक सक्रियता पर संसद का मौन

देशSep 6, 2018

धारा 377 पर सुनवाई: सुप्रीम कोर्ट की अति न्यायिक सक्रियता पर संसद का मौन

पूर्व अटॉर्नी जनरल ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट को धारा-377 तक सीमित नहीं रहते हुए, समलैंगिकता से जुड़े अन्य मुद्दों और अधिकारों पर भी विचार करना चाहिए, सवाल यह है कि कानून की व्याख्या के साथ कानून बनाने का काम भी यदि सुप्रीम कोर्ट में हो जाए तो फिर संसद की क्या जरूरत?

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

ट्रेंडिंग

लाइव

1st Semi Final: North Mumbai Panthers 109/3Swapnil Salvi (W) on strike