S M L

मजदूर की बेटी के वर्ल्ड कप में खेलने का सपना होगा पूरा, योगी आदित्यनाथ ने की मदद

आदित्यानाथ ने शनिवार को ऐलान किया कि सरकार प्रिया सिंह को जर्मनी में होने वाले जूनियर वर्ल्ड कप में भाग लेने के लिए जरूरी 4.5 लाख रुपए देगी

FP Staff Updated On: Jun 09, 2018 03:21 PM IST

0
मजदूर की बेटी के वर्ल्ड कप में खेलने का सपना होगा पूरा, योगी आदित्यनाथ ने की मदद

मेरठ की 19 साल शूटर प्रिया सिंह ने  22 जून से जर्मनी में होने वाले इस जूनियर आईएसएसएफ शूटिंग वर्ल्ड कप के लिए 50 मीटर प्रोन राइफल में क्वालिफाई किया.  उधार की राइफल से उन्होंने इस प्रतियागिता में हिस्सा लिया और चौथे स्थान पर रही. उन्होंने क्वालिफाई तो किया लेकिन इसके बाद उनके सामने ऐसी मुश्किल थी जिसका समाधान वो और उनका परिवार मिलकर भी नहीं निकाल पा रहे थे. वह पैसों की कमी के चलते जर्मनी में होने वाले इस वर्ल्ड कप में भाग लेने के लिए आर्थिक मुश्किलों से जूझ रही थी. मजदूर पिता के लिए प्रिया सिंह को जर्मनी भेजने के लिए 4.5 लाख रुपए का इंतजाम करना नामुमकिन लग रहा था. हालांकि उन्होंने प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर मदद मांगी जिसका फल उन्हें आखिरकार मिल गया है. उन्हें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मदद मिल गई है. आदित्यनाथ ने शनिवार को ऐलान किया कि सरकार प्रिया सिंह को जर्मनी में होने वाले जूनियर आईएसएफएफ वर्ल्ड कप में भाग लेने के लिए जरूरी 4.5 लाख रुपए देगी. मेरठ के डीएम को इस रकम का इंतजाम करने का आदेश दे दिया गया है.

योगी आदित्यनाथ ने कहा, 'जैसे ही मुझे इस बारे में पता चला वैसे ही मैंने सरकार की ओर से प्रिया के 4.5 लाख रुपए देने का फैसला किया. इसके साथ ही मेरठ के डीएम को भी आदेश दे दिए गए हैं.

प्रिया ने उधार पर राइफल लेकर इस प्रतियोगिता के लिए क्वालिफाई किया था. वह इस मुकाबले में चौथे स्थान पर रही थी. नियमों के मुताबिक सरकार केवल पहले तीन स्थान हासिल करने वाले शूटरों का ही पूरा खर्च उठाती है. उस कारण वर्ल्ड कप में जाने और वहां रहने के खर्च के लिए 4.5 लाख का इंतजाम प्रिया को खुद ही करना था. प्रिया के पिता ब्रिजपाल सिंह मजदूरी का काम करते हैं और महीने में केवल 10 हजार रुपए ही कमा पाते हैं, जिनसे वह अपने चार बच्चों के परिवार का पालन पोषण करते हैं. ऐसे में उनके लिए इस रकम का इंतजाम करना नामुमकिन था. उन्होंने पैसों का इंतजाम करने के लिए अपनी भैंस भी बेच दी, लेकिन उससे वह केवल 50 हजार का ही इंतजाम कर पाए. इसके बाद उन्होंने प्रधानमंत्री से लेकर मुख्यमंत्री तक से मदद मांगी थी. उन्होंने लोगों से उधार भी मांगा, पर कोई उन्हें उधार देने के लिए भी तैयार नहीं था. अब आखिरकार प्रिया का वर्ल्ड में जाने का सपना सरकार की मदद से पूरा होने वाला है.

राज्य सरकार के फैसले से खुश प्रिया के भाई ने राज्य सरकार और योगी आदित्यनाथ को शुक्रिया कहा. उन्होंने कहा 'हमें खुशी है कि अब वह जर्मनी जा पाएगी. हम गरीब हैं और हमारे लिए इस रकम का इंतजाम करना नामुमकिन था.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi