S M L

World Junior badminton : लक्ष्य सेन ने खत्म किया सात साल का सूखा, दिलाया ब्रॉन्ज मेडल

भारत के 17 वर्षीय खिलाड़ी लक्ष्य सेन को सेमीफाइनल में थाईलैंड के कुनलावुत वितिदसार्न ने 20-22, 21-16, 21-13 से पराजित किया

Updated On: Nov 19, 2018 02:26 PM IST

FP Staff

0
World Junior badminton : लक्ष्य सेन ने खत्म किया सात साल का सूखा, दिलाया ब्रॉन्ज मेडल

भारत के जूनियर बैडमिंटन खिलाड़ी लक्ष्य सेन ने कनाडा के मार्कहाम में विश्व जूनियर चैंपियनशिप में सात साल का सूखा समाप्त कर दिया. लक्ष्य को पुरुष सिंगल्स वर्ग के सेमीफाइनल में हार मिली, लेकिन वह ब्रॉन्ज मेडल (कांस्य पदक) हासिल करने में सफल रहे.

भारत के 17 वर्षीय खिलाड़ी लक्ष्य सेन को सेमीफाइनल में थाईलैंड के कुनलावुत वितिदसार्न ने 20-22, 21-16, 21-13 से पराजित किया. इस हार के कारण भारतीय खिलाड़ी को कांस्य पदक से ही संतोष करना पड़ा. कुनलावुत वितिदसर्न के खिलाफ लक्ष्य सेन का करियर रिकॉर्ड 1-1 हो गया है. 17 वर्षीय सेन ने इस साल की शुरुआत में एशियाई जूनियर चैंपियनशिप के फाइनल में विदितसर्न को हराया था.

विश्व जूनियर बैडमिंटन चैंपियनशिप में इस साल लक्ष्य द्वारा भारत को एकमात्र पदक हासिल हुआ है. इस चैंपियनशिप में सात साल पहले समीर वर्मा ने कांस्य पदक हासिल किया था. इसके अलावा, बी साई प्रणीत ने 2010 में कांस्य पदक ही जीता था. इस चैंपियनशिप का स्वर्ण पदक भारत की सबसे अनुभवी बैडमिटन खिलाड़ी सायना नेहवाल के नाम है. उन्होंने 2008 में यह उपलब्धि हासिल की थी.

जूनियर विश्व रैंकिंग में दुनिया के तीसरे नंबर के खिलाड़ी लक्ष्य ने कहा, ‘मैं लय हासिल नहीं कर पाया, हालांकि मैं पहला गेम जीतने में सफल रहा. लेकिन दूसरे गेम में वह काफी मजबूत था. मैं अपने मजबूत पक्षों के अनुसार नहीं खेल पाया और मेरे विरोधी के पास मेरे सभी शाट का जवाब था.’
टूर्नामेंट में भारत की आखिरी उम्मीद लक्ष्य ने अच्छी शुरुआत की और करीबी मुकाबले में पहला गेम जीता. दूसरे गेम में हालांकि थाईलैंड के खिलाड़ी ने वापसी की और इसे जीतकर स्कोर 1-1 कर दिया. दूसरे गेम गंवाने के बाद भारतीय खिलाड़ी बिल्कुल भी चुनौती पेश नहीं कर पाया और कुनलावुत ने तीसरे और निर्णायक गेम में आसान जीत के साथ फाइनल में जगह बनाई.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi