S M L

अपने पिता को खोने के गम ने धीमी नहीं पड़ने दी हैमिल्टन की 'रफ्तार'

मेक्सिको ग्रां प्री में भाग लेने से कुछ दिन पहले हैमिल्टन को खबर मिली कि उनके बाबा डेविडसन हैमिल्टन नहीं रहे हैं. हैमिल्टन ने इस खबर को सीने में दफनाकर रेस जीतने पर अपना ध्यान फोकस कर दिया

Updated On: Oct 31, 2018 09:21 AM IST

Manoj Chaturvedi

0
अपने पिता को खोने के गम ने धीमी नहीं पड़ने दी हैमिल्टन की 'रफ्तार'
Loading...

जब कोई व्यक्ति अपने सबसे प्यारे इंसान को खोने के गम में डूबा हो और उस समय वह सफलता हासिल करे तो इसके बहुत खास मायने होते हैं. ब्रिटिश ड्राइवर लुइस कार्ल डेविडसन हैमिल्टन के जीवन में कुछ इस तरह की घटना घटी है. लुइस हैमिल्टन अपने बाबा डेविडसन हैमिल्टन से बहुत प्यार करते थे और कहते थे कि वही उनके घर के हीरो हैं. पिछले रविवार को फॉर्मूला वन की मेक्सिको ग्रां प्री में भाग लेने से कुछ दिन पहले यानी उसी हफ्ते के गुरुवार को हैमिल्टन को खबर मिली कि उनके बाबा डेविडसन हैमिल्टन नहीं रहे हैं. लुइस हैमिल्टन ने इस खबर को सीने में दफनाकर रेस जीतने पर अपना ध्यान फोकस कर दिया. हैमिल्टन इस बात को जानते थे कि वह यदि अपने को सातवें स्थान पर भी रख सके तो ड्राइवर्स चैंपियन बन जाएंगे. वह यह करिश्मा करने में सफल रहे.

दो रेस बाकी रहते बने चैंपियन

मैक्सिको ग्रां प्री के बाद अब दो रेस ही बची हैं. यह रेस हैं, ब्राजील ग्रां प्री और अबु धाबी ग्रां प्री. पर हैमिल्टन के सेबेस्टियन विटेल के 294 अंकों से उसके 58 अंक ज्यादा हैं. एक रेसर दो रेसों में अधिकतम 50 अंक हासिल कर सकता है, इसलिए यह मान लिया गया कि दूसरे स्थान पर चल रहे विटेल बाकी दोनों रेसों को जीत भी लेते हैं तो भी वह 344 अंकों तक ही पहुंच सकेंगे. इसलिए लुइस हैमिल्टन के ड्राइवर्स चैंपियनशिप जीतने की घोषणा कर दी गई. इस तरह हैमिल्टन पांचवीं बार ड्राइवर्स चैंपियनशिप जीतने वाले रेसर बन गए. इसके साथ ही वह अर्जेंटीनी ड्राइवर जुआन मैनुएल फैंगियो के पांच फॉर्मूला वन ड्राइवर्स खिताब की बराबरी पा गए हैं. अब लुइस हैमिल्टन से आगे सिर्फ माइकल शूमाकर हैं. इस जर्मन ड्राइवर के नाम सात ड्राइवर्स खिताब हैं.

हैमिल्टन अपने बाबा को मानते थे हीरो

लुइस हैमिल्टन के बाबा डेविडसन हैमिल्टन 1955 में ग्रेनाडा से इंग्लैंड आए. असल में डेविडसन ग्रेनाडा में जायफल की खेती करते थे. लेकिन एक बार तूफान में जायफल के सभी पेड़ टूटकर गिर गए. वह ग्रेनाडा में रहने के दिनों में ग्रांड राय नगर से तीन मील दूर स्थित गोउयावे तक अक्सर अपनी मोटर साइकिल चलाया करते थे. इसकी सड़कें पहाड़ के बीच खतरनाक ढंग से बनी हुई थीं. डेविडसन अपनी बीएसए मोटर साइकिल से तीन मील की दूरी को पांच मिनट में पूरी कर लेते थे. बाबा का यह अंदाज ही हैमिल्टन ने पाया और अपने को दुनिया के सफलतम में से एक में शुमार कर लिया.

SINGAPORE - SEPTEMBER 17: Race winner Lewis Hamilton of Great Britain and Mercedes GP celebrates on the podium during the Formula One Grand Prix of Singapore at Marina Bay Street Circuit on September 17, 2017 in Singapore. (Photo by Mark Thompson/Getty Images)

हैमिल्टन और फैंगियो में है समानता

लुइस हैमिल्टन और जुआन मैनुएल फैंगियो दोनों ही कमजोर परिवारों से ताल्लुक रखने वाले हैं. हैमिल्टन के बाबा जहां जायफल की खेती करते थे और पिता एंथोनी हैमिल्टन ब्रिटिश रेलवे में क्लर्क की नौकरी किया करते थे. हैमिल्टन के कार्टिग में भाग लेने के लिए उन्होंने नौकरी के अलावा अतिरिक्त काम किया. वहीं फैंगियो के पिता ब्यूनस आयर्स से 180 किमी दूर स्थित बालकारी नाम जगह पर खेतों में मजदूरी करते थे. फैंगियो ने मैकेनिक बनने के लिए बचपन में ही पढ़ाई छोड़ दी थी. फैंगियो ने 1951, 1954, 1955, 1956 और 1957 में ड्राइवर्स खिताब पर कब्जा करके रिकॉर्ड बनाया था. इस रिकॉर्ड को 47 साल बाद शूमाकर ने तोड़ा. फैंगियो को सबसे ज्यादा प्रतिशत रेस जीतने वाला ड्राइवर माना जाता है. उन्होंने अपने फॉर्मूला वन करियर में 53 रेसों में भाग लेकर 24 को जीता. उनका जीत का प्रतिशत 46.15 है. इतना अच्छा प्रतिशत और किसी रेसर का नहीं है.

हैमिल्टन को अपने कुत्तों से है बेहद प्यार

हैमिल्टन को अपने बुलडॉग रोसकोई और कोको से बेहद प्यार है. यह दोनों बुलडॉग ऐसी सुविधाओं के आदी हैं, जैसी सुविधाएं अच्छे-अच्छों को नसीब नहीं होती हैं. बड़े वाले बुलडॉग रोसकोई के तो इंस्टग्राम पर फॉलोअर हैं. वह प्राइवेट जेट से सफर करने के आदी हैं और महंगे होटलों में ठहरते हैं. उन्हें मॉडलिंग करने के एक दिन के 700 डॉलर मिलते हैं. 2015 में तो उनकी कमाई 27600 पाउंड पहुंच गई थी. फॉर्मूला वन ड्राइवर्स का पांचवां खिताब जीतने के बाद हैमिल्टन के सामने दुविधा थी कि वह अपने बुलडॉग से मिलने लॉस एंजिल्स जाएं या परिवार के सब कुछ माने जाने वाले बाबा के लिए ग्रेनाडा जाएं. आखिर में बुलडॉग से मिलने जाने का ही कार्यक्रम बनाया.

Formula One - F1 - Italian Grand Prix 2017 - Monza, Italy - September 3, 2017 Mercedes' Lewis Hamilton celebrates winning the race with the trophy on the podium REUTERS/Max Rossi - RC128AA85120

टीम मर्सिडीज भी बन सकती है चैंपियन

लुइस हैमिल्टन पहला फॉर्मूला वन खिताब मैक्लॉरेन के लिए जीतने के बाद मर्सिडीज टीम में शामिल हो गए थे. मर्सिडीज में रहते हुए ही उन्होंने चार और खिताब जीतकर फैंगियो की बराबरी की है. हैमिल्टन की टीम मर्सिडीज भी कंस्ट्रक्टर चैंपियनशिप जीतने की दावेदार बनी हुई है. हैमिल्टन और उनके टीम के जोड़ीदार वालटेरी बोटास ने टीम के लिए अब तक 585 अंक बनाकर टीम को खिताब का दावेदार बनाया हुआ है. वहीं सेबेस्टियन विटेल और किमि राइकोनेन की अगुआई वाली फेरारी टीम 530 अंक बनाकर दूसरे स्थान पर है. अब बाकी दो रेसों में पहले दो स्थानों पर चलने वाली टीमों के बीच बढ़त खत्म होने की संभावना बनी हुई है, क्योंकि विटेल और राइकोनेन बाकी दो रेसों में 86 अंक तक हासिल कर सकते हैं. इसलिए लगता है कि ब्राजील ग्रां प्री और अबु धाबी ग्रां प्री खत्म होने के बाद ही कंस्ट्रक्टर चैंपियन का पता चल पाएगा.

हैमिल्टन की 11 साल में कई उपलब्धियां 

हैमिल्टन ने अपने 11 साल के करियर में कई उपलब्धियां हासिल की हैं. वह मात्र 23 साल, 301 दिन की उम्र में सबसे कम उम्र में चैंपियन बने. हैमिल्टन फॉर्मूला वन के इकलौते ड्राइवर हैं, जिसने भाग लेने वाले हर सीजन में कम से एक रेस जरूर जीती है. उन्होंने अब तक 71 बार पोल पोजीशन हासिल करके नया रिकॉर्ड बनाया है.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi