S M L

गोल्फर अदिति अशोक को अर्जुन अवॉर्ड न मिलने पर डब्ल्यूजीएआई ने आईजीयू को कठघरे में खड़ा किया

डब्ल्यूजीएआई ने आरोप लगाया कि तालमेल की कमी के कारण अदिति को नहीं मिला अर्जुन अवॉर्ड

Updated On: Sep 25, 2018 08:58 PM IST

FP Staff

0
गोल्फर अदिति अशोक को अर्जुन अवॉर्ड न मिलने पर डब्ल्यूजीएआई ने आईजीयू को कठघरे में खड़ा किया

2016 रियो ओलिंपिक में हिस्सा लेने वाली भारत की महिला गोल्फर खिलाड़ी अदिति अशोक को इस बार अर्जुन अवॉर्ड नहीं मिलने पर राजनीति गर्मा गई है. महिला गोल्फ संघ (डब्ल्यूजीएआई) ने मंगलवार को दावा किया कि गोल्फ की संचालन इकाइयों के बीच तालमेल की कमी के कारण अदिति शोक को अर्जुन अवॉर्ड नहीं मिल सका.  डब्ल्यूजीएआई की महासचिव चंपिका सयाल ने कहा, ‘हमें यह जानकर आश्चर्य हुआ कि अदिति अशोक का नाम अर्जुन अवॉर्ड सूची में नहीं था.’

अदिति लला एइचा टूर स्कूल जीतने वाली सबसे युवा और पहली भारतीय खिलाड़ी हैं और उन्होंने 2016 में महिला यूरोपीय टूर कार्ड भी हासिल किया था. 20 साल की अदिति ने 2016 हीरो महिला इंडिया ओपन जीता था और इस प्रक्रिया में महिला यूरोपीय टूर खिताब जीतने वाली पहली भारतीय बनीं.

चंपिका ने अदिति को अवॉर्ड के लिए नहीं चुने जाने के लिए भारतीय गोल्फ संघ (आईजीयू) को जिम्मेदार बताया. उन्होंने आरोप लगाया कि आईजीयू ने डब्ल्यूजीएआई को इस मामले में कोई जानकारी नहीं दी. उन्होंने कहा, ‘वे कुछ नहीं कर रहे है और हमें भी कुछ करने नहीं दे रहे है. तथ्य ये है कि आज एक योग्य खिलाड़ी को अर्जुन अवॉर्ड नहीं मिला। यह बड़ी क्षति है. आईजीयू की गलती के कारण अदिति दो बार अर्जुन अवार्ड से चूक गई.’

वहीं आईजीयू का कहना है कि उन्होंने इस बार अदिति का नाम अर्जुन अवॉर्ड के लिए भेजने की तैयारी कर ली थी. लेकिन खिलाड़ी ने फॉर्म पर हस्ताक्षर नहीं किए इसलिए इस बार उनका नाम नहीं जा पाया. आईजीयू के डायरेक्टर जनरल विभूति भूषण ने कहा, हमने दो खिलाड़ियों के नाम भेजे थे, शुभंकर शर्मा और अदिति. अदिति ने फॉर्म पर हस्ताक्षर नहीं किए थे. जब खिलाड़ी ही हस्ताक्षर नहीं करेगा तो हम क्या कर सकते हैं. हमने इसके लिए आखिरी दिन का तक का इंतजार किया था.'  इस पर सयाल ने कहा कि आईजीयू ने इस संबंध में डब्ल्यूजीएआई से कोई संपर्क नहीं किया.

सयाल ने कहा, 'ओलिंपिक के बाद भी हमने कहा था कि अदिति का नाम अर्जुन अवॉर्ड के लिए होना चाहिए तब हमें आईजीयू से इस बारे में आश्वस्त किया गया, लेकिन जब नाम न आने पर हमने पूछा तो उन्होंने कहा कि अगले साल हम जरूर देंगे, लेकिन इस बार भी नहीं आया. वह कुछ कर नहीं कर रहे और न ही हमें कुछ बताते हैं.' सयाल ने कहा कि अदिति को अवॉर्ड न मिलना दुख की बात है और इसलिए वह बुधवार को खेल मंत्री से बात करेंगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi