S M L

चाहे मैदान पर हों या उसके बाहर, औरों से बहुत 'हटकर' हैं गंभीर

गौतम गंभीर के खिलाड़ी के तौर पर कभी भी अपने विचार रखने डरे नहीं, उन्होंने हर बार साबित किया वह बेबाक और सबसे अलग हैं

Updated On: Dec 05, 2018 06:33 PM IST

FP Staff

0
चाहे मैदान पर हों या उसके बाहर, औरों से बहुत 'हटकर' हैं गंभीर

भारत की कई बड़ी जीत के हीरो रहे गौतम गंभीर ने मंगलवार को अपने रिटायरमेंट का ऐलान कर दिया. गंभीर उन खिलाड़ियों में से है जो जो ना सिर्फ मैदान पर बल्कि मैदान के बाहर भी सुर्खियों में रहे. उनका मिजाज थोड़ हटके रहा है. जिन मुद्दों पर ज्यादातर क्रिकेटर अक्सर बोलने से कतराते हैं गंभीर वह डंके की चोट पर अपनी राय सामने रखते है. मूडी इतने की मन हो था अपना अवॉर्ड भी किसी और को दे दें और गुस्सा आए तो मैदान पर किसी से भी भिड़ जाए. आईए औपको ऐसे ही कुछ किस्से सुनाते हैं जो अपतो बताएंगे कि क्यों गंभीर बाकियों से हट के हैं

1) सिर पर दुपट्टा पहनकर बने थे ट्रांसजेंडर

कुछ समय पहले गौतम गंभीर अपने माथे पर बिंदी और और तम पर साड़ी को लेकर खबरों में आए थे. दरअसल गौतम ने यह रूप देश में ट्रांसजेंडर्स के साथ समानता की आवाज उठाने के लिए बनाया था. गंभीर ने यह रूप 'हिजड़ा हब्बा' के सातवें एडिशन के उद्घाटन के के वक्त अपनाया जिसका आयोजन शेमारी सोसायटी ने किया था.

gautam gambhir

जब गौतम वहां पहुंचे तो इन्हीं लोगों की तरह ड्रेस पहने हुए थे और इस तरह ड्रेसअप में गौतम गंभीर की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो गईं. गौतम गंभीर ने दो ट्रांसजेंडर्स को अपनी बहन बनाया है और उनसे राखी भी बंधवाई. गौतम गंभीर ने इसकी फोटो अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर की. गौतम गंभीर ने अबीना अहर और सिमरन शेख को बहन बनाते हुए एक मोटिवेशनल पोस्ट लिखा. गौतम गंभीर के इस कदम को सोशल मीडिया पर फैंस ने बहुत पसंद किया.

यह भी पढ़ें - रिटायरमेंट के बाद गौतम गंभीर के लिए क्या है शाहरुख खान की सलाह!

2) कश्मीर विवाद पर उमर अब्दुल्ला से भिड़े गए

जम्मू-कश्मीर में मारे गए आतंकवादी मन्नान वानी पर राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला और क्रिकेटर गौतम गंभीर के बीच ट्वीट वॉर हुई थी. गौतम गंभीर ने मन्नान वानी के आतंकवादी बनने के लिए राजनीतिक दलों और राज्य के नेताओं, जिनमें अब्दुल्ला भी शामिल हैं को जिम्मेदार ठहराया. इसी के बाद दोनों में ट्वीट युद्ध शुरू हो गया था.

गौतम गंभीर ने  ट्वीट करते हुए लिखा था, मन्नान वानी की मौत- हमने एक आतंकवादी को मारकर एक उग्र स्वभाव की प्रतिभा को खो दिया. गंभीर ने यह ट्वीट करते हुए उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती, कांग्रेस और बीजेपी को टैग करते हुए लिखा कि हमसब को इस बात पर पछतावा होना चाहिए कि आखिर क्यों एक युवा किताब छोड़कर गोली खा रहा है.

3) आफरीदी बनाम गौतम गंभीर

भारत के जम्मू कश्मीर में सेना ने आतंकरोधी अभियान के तहत 13 आतंकियों को मार गिराया था. आफरीदी ने जम्मू कश्मीर में मारे गए इन13 आतंकियों के प्रति हमदर्दी जताते हुए ट्वीट किया था कि भारत अधिकृत कश्मीर की स्थिति चिंताजनक है.

गंभीर ने इसपर पलटवार करते हुए कहा कि मीडिया हमारे कश्मीर और संयुक्त राष्ट्र यूएन के बारे में शाहिद आफरीदी के ट्वीट पर मेरे रिएक्शन जानना चाहती थी. इसमें क्या कहना है? अफरीदी सिर्फ यूएन की तरफ देख रहे हैं, जिसका मतलब क्योंकि उनके शब्दकोश में यूएन का मतलब अंडर 19 है. मीडिया को इस हल्के में ही लेना चाहिए. गंभीर ने कहा कि शाहिद आफरीदी नो बॉल पर आउट होने का जश्न मना रहे हैं.

यह भी पढ़ें - ब्लॉकबस्टर हिट टीम इंडिया का ऐसा साइड हीरो जिसने कप्तान धोनी को सुपर स्टार बना दिया!

4) फिक्सिंग को लेकर भी लिया था स्टैंड

वेस्‍टइंडीज के खिलाफ चल रही तीन मैचों की टी20 सीरीज का पहला मैच रविवार को कोलकाता के ईडन गार्डन में खेला गया, जहां भारत ने वेस्‍टइंडीज को 5 विकेट से हराकर सीरीज में 10 की बढ़त हासिल कर ली है. मैच की शुरुआत परंपरागत तरीके से की गई. पहले बेल बजाई गई और फिर उसके बाद मुकाबला शुरू हुआ. बेल भारत के पूर्व कप्‍तान मोहम्‍मद अजहरुद्दीन ने बजाई, जिसके बाद गौतम गंभीर ने इसकी आपत्ति जताई.

मैच फिक्सिंग के कारण बीसीसीआई का प्रतिबंध झेल चुके अजहरुद्दीन का बेल बजाना गंभीर को खटका और उन्‍होंने ट्वीट करके कहा कि लग रहा है कि भष्‍ट्र के खिलाफ कोई टॉलरेंस पॉलिसी रविवार को छुट्टी पर है. उन्‍होंने कहा कि मैं जानता हूं कि उन्‍हें एचसीए चुनाव लड़ने की इजाजत थी, लेकिन तब भी यह आश्‍चर्यजनक है. घंटी बज रही है, आशा है कि ताकतें सुन रही होंगी.

5) कोहली को दिया था अपना मैन ऑफ द मैच

24 दिसंबर 2009 में भारत और श्रीलंका का मुकाबला कोलकाता के ईडन गार्डन्स में हो रहा था. श्रीलंका ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 315 रन बनाए थे.क्रीज पर खड़े थे गौतम गंभीर और विराट कोहली. दोनों दिल्ली के बल्लेबाजों ने श्रीलंका के गेंदबाजों के नाक में दम कर दिया और शानदार परफॉर्मेंस थी. गौतम गंभीर ने 150 रन और विराट कोहली (107 रन) ने वनडे की पहली सेन्चुरी जड़ी. 224 रन की इस पार्टनरशिप के साथ टीम इंडिया ने 11 गेंद रहते मुकाबला जीत लिया. 150 रन के लिए गौतम गंभीर को मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड दिया गया. लेकिन गंभीर ने आकर अवॉर्ड लेने से मना कर दिया और विराट कोहली को मैन ऑफ द अवॉर्ड देने को कहा और उनको बुला लिया. विराट कोहली ने मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड लिया. रवि शास्त्री प्रेसेंटेशन को होस्ट कर रहे थे जो अब टीम इंडिया के हेड कोच हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi