S M L

प्रो कबड्डी लीग में टीम के मालिक बने तेंदुलकर

जेएसडब्ल्यू ग्रुप, अडानी ग्रुप और जीएमआर ग्रुप ने भी खरीदी हैं टीमें

Updated On: Jun 09, 2017 11:05 PM IST

FP Staff

0
प्रो कबड्डी लीग में टीम के मालिक बने तेंदुलकर

फुटबॉल के बाद अब चैंपियन क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने कबड्डी में भी हिस्सेदार हो गए हैं. सचिन चेन्नई टीम के मालिकों में शामिल हैं, जो तीन अन्य टीमों के साथ वीवो प्रो कबड्डी लीग के पांचवें सत्र में जुड़ेगी.

चार नई टीमें तमिलनाडु, गुजरात, उत्तर प्रदेश और हरियाणा से हैं. इसका ऐलान लीग के प्रशासक और संयोजक मशाल स्पोर्ट्स और स्टार इंडिया ने किया. चेन्नई टीम को लाक्वेस्ट एंटरप्राइजेज प्राइवेट लिमिटेड ने खरीदा है जिसके मालिकों में तेंदुलकर और एन प्रसाद शामिल हैं. जेएसडब्ल्यू ग्रुप, अडानी ग्रुप और जीएमआर ग्रुप ने भी टीमें खरीदी हैं.

स्टार इंडिया के चेयरमैन और सीईओ उदय शंकर ने कहा, ‘मुझे खुशी है कि भारत के कुछ बेहतरीन कॉरपोरेट हमारे मिशन कबड्डी से जुड़े हैं.’ प्रो कबड्डी लीग में 4 नई टीमें शामिल हो गई हैं, जो इस साल जुलाई से अक्टूबर के बीच खेले जाने वाले सीजन-5 से इस लीग में हिस्सा लेंगी. इन चार टीमों में चेन्नई, अहमदाबाद, लखनऊ और हरियाणा शामिल हैं.

अहमदाबाद टीम का मालिकाना हक अडानी ग्रुप के पास है. लखनऊ टीम का मालिकाना हक जीएमआर ग्रुप के हाथों में हैं जबकि हरियाणा टीम का मालिकाना हक जेएसडब्ल्यू ग्रुप के हाथों में है. इन टीमों के नाम तय होना अभी बाकी है.

इन चार टीमों के साथ ही लीग में अब कुल 12 टीमें हो गई हैं. लीग में दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु, कोलकाता, हैदराबाद, पटना, पुणे और जयपुर की टीमें पहले से ही खेल रही हैं. इसके साथ ही 13 सप्ताह तक चलने वाली इस लीग में अब 130 मैच खेले जाएंगे.

इस विस्तार के साथ देश के प्रमुख मेट्रो शहर - दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु, कोलकाता, हैदराबाद, पटना, पुणे और जयपुर की 8 फ्रेंचाइजी की श्रृंखला और ज्यादा प्रभावशाली हो गई है.

प्रो कबड्डी लीग 2014 में शुरू हुई थी. पिछले साल इसके दो सीजन हुए थे. लेकिन इस साल एक सीजन होगा. ये सीजन जुलाई मे शुरू होकर अक्टूबर तक चलेगा. अभी तक इनके मालिकान में अभिषेक बच्चन और रॉनी स्क्रूवाला जैसे लोग हैं.

भारत में जितनी भी खेल लीग हैं, उसमें पूरे देश से प्रतिनिधित्व के नाम पर कबड्डी लीग सबसे आगे निकल गई है. इसमें 11 राज्य हैं और 130 मैच होंगे. पिछले दिनों वीवो इलेक्ट्रॉनिक के साथ मुख्य प्रायोजन की डील हुई थी. पांच साल की डील की कीमत 300 करोड़ आंकी जा रही है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi