S M L

कभी थे होटल में वेटर, आज प्रो कबड्डी में बतौर कप्तान कर रहे हैं कमाल

रिशांक बहुत छोटे थे जब उनके सिर पर से पिता का साया उठ गया था

Updated On: Nov 05, 2018 09:02 PM IST

Riya Kasana Riya Kasana

0
कभी थे होटल में वेटर, आज प्रो कबड्डी में बतौर कप्तान कर रहे हैं कमाल
Loading...

अनूप कुमार जैसे दिग्गज खिलाड़ी की छत्र-छाया में चार सीजन खेलने के बाद पांचवें सीजन में रिशांक देवडिगा को यूपी योद्धा ने अपने कप्तान के तौर पर जोड़ा. रिशांक ने पिछले सीजन में शानदार कप्तानी की और टीम प्लेऑफ में पहुंचने में कामयाब रही. 24 साल के इस रेडर की खासियत है कि वह मुश्किल  समय में  भी संयम नहीं खोते और टीम के लिए अहम साबित होते हैं. रिशांक को डू और डाई रेड स्पलेशिस्ट कहा जाता है. इसकी वजह शायद उनके निजी जीवन के संघर्ष भी रहे हैं.

कभी वेटर रहे रिशांक आज हैं कप्तान

रिशांक बहुत छोटे थे जब उनके सिर पर से पिता का साया उठ गया था. उस समय वह बहुत छोटे थे. उन्हें अपनी मां और बहन की जिम्मादारी उठानी पड़ी. इसी वजह से अपनी पढ़ाई बीच में छोड़कर उन्हें फाइव स्टार होटल में वेटर के रूप में करना पड़ा था. उनके लिए यह मुश्किल था, लेकिन उनके पास कोई और जरिया नहीं था. यही से उन्हें हर स्थिति में संयम रखकर पूरी शिद्दत के साथ काम करने की सीख मिली. आज उसी सीख के दम पर वह प्रो कबड्डी में ना सिर्फ खिलाड़ी, लेकिन बतौर कप्तान भी नाम कमा रहे हैं.

rishank

यूपी योद्धा की टीम ने अब तक प्रो कबड्डी लीग में कुछ खास प्रदर्शन नहीं किया है. हालांकि कप्तान रिशांक देवडिगा को टीम पर पूरा भरोसा है और उनका मानना है कि टीम जल्दी ही अपने प्रदर्शन में और सुधार करेगी. टीम के कप्तान रिशांक देवडिगा ने फर्स्टपोस्ट से बातचीत में टीम की रणनीति, खिलाड़ियों और फॉर्म के बारे में बात की.

बंगाल वॉरियर्स के मैच के बाद हुई टीम की वापसी

रविवार को बंगाल वॉरियर्स के खिलाफ मैच में रिशांक की टीम आखिरी रेड में मुकाबला टाई कराने में कामयाब रही. टीम ने इस रेड में रिव्यू लिया और घरेलू मैदान पर पहली बार हार को टाल सके. इस बारे में रिशांक ने कहा, 'टीम धीरे-धीरे फॉर्म में वापस आ रही है और इस टाई के बाद मुकाबले जीतने की कोशिश होगी.' इस मैच में खुद कप्तान ने भी सुपर 10 के साथ फॉर्म में वापसी का संकेत दिया. रिशांक ने कहा 'कप्तान के फॉर्म में रहने से टीम भी आत्मविश्वास से भरी नजर आती है ऐसे में मेरे लिए फॉर्म में वापसी जरूरी थी और मुझे खुशी है कि मैं ऐसा कर पाया हूं.' रिशांक तो फॉर्म में आ गए हालांकि घरेलू मैदान पर हिट रहे रेडर प्रशांत इस मैच में चोट से जूझते नजर आए.

rishank 1

रिशांक ने इस बारे में बात करते हुए बताया कि प्रशांत की चोट को देखते हुए उन्हें एक-दो मैच के लिए आराम दिया जा सकता है. हालांकि उन्हें उम्मीद है कि जल्द ही टीम से जुड़ेंगे. टीम में एक और अहम खिलाड़ी है जिन्होंने वापसी की है वह हैं अनुभवी डिफेंडर जीवा कुमार. जीवा की वजह से कमजोर डिफेंस के कारण शुरुआती मैचों में जूझने वाली टीम को नई ताकत मिली है. रिशांक ने इस बारे में बात करते हुए कहा, 'जीवा के रहते हुए टीम के बाकी डिफेंडरों पर ज्यादा दबाव नहीं आता'. रिशांक का प्रो कबड्डी की सफर अनूप कुमार के साथ शुरू हुआ था. वह मानते हैं कि वह आज भी उनसे सीखते हैं और धीरे-धीरे खुद को और बेहतर खिलाड़ी और कप्तान बनाने की कोशिश कर रहे हैं.

घरेलू मैदान पर मिल रहे समर्थन से खुश है टीम

प्रो कबड्डी के इस सीजन में फिलहाल यूपी लेग चल रहा है, जहां सभी मुकाबले यूपी योद्धा के घरेलू मैदान ग्रेटर नोएडा के शहीद विजय सिंह पथिक स्पोर्ट्स कॉम्‍पेलक्‍स में खेले जा रहे हैं. रिशांक टीम को मिल रहे समर्थन से बेहद खुश हैं. उन्होंने कहा, 'ग्रेटर नोएडा में कबड्डी को पसंद किया जाता है और इस कारण स्टेडियम में भी लोगों की तदाद ज्यादा रहती है जो टीम का आत्मविश्वास बढ़ाती है. दिल्ली, यूपी औऱ हरियाणा के करीब होने के कारण वहां के लोग भी समर्थन करने आते हैं.'

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi