S M L

खेल रत्‍न मामला: बजरंग ने की खेल मंत्री से मुलाकात, शाम तक करेंगे जवाब का इंतजार

बजरंग ने कहा कि अगर शाम तक अनुकूल जवाब नहीं मिलता है तो उन्‍हें मजबूरन अदालत का दरवाजा खटखटाना पड़ेगा

Updated On: Sep 21, 2018 01:58 PM IST

FP Staff

0
खेल रत्‍न मामला: बजरंग ने की खेल मंत्री से मुलाकात, शाम तक करेंगे जवाब का इंतजार

राजीव गांधी खेल रत्‍न पुरस्कार न मिलने से निराश स्टार पहलवान बजरंग पूनिया ने खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ से मुलाकात की और कहा कि उन्हें भरोसा है कि उनके मामले पर विचार किया जाएगा. बजरंग ने पीटीआई से कहा कि मैंने खेल मंत्री से पूछा कि खेल रत्न के लिए मेरे नाम पर विचार नहीं करने का क्या कारण था. उन्होंने कहा कि मेरे इतने अंक नहीं थे, लेकिन यह बात गलत है. मैंने नामांकित किए गये दो अन्य खिलाड़ियों (विराट कोहली और मीराबाई चानू) से ज्यादा अंक जुटाए हैं.

24 वर्षीय बजरंग ने एशियाई और कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स में गोल्‍ड मेडल अपने नाम किया था. उन्होंने कहा कि अगर उन्हें शाम तक अनुकूल जवाब नहीं मिलता तो उन्हें न्याय के लिए अदालत का दरवाजा खटखटाने के लिए बाध्य होना पड़ेगा. राठौड़ से मिलने बजरंग के साथ उनके मेंटर योगेश्‍वर दत्‍त भी गए थे. उन्होंने कहा मंत्री इस मामले को देखने की बात कह रहे हैं, लेकिन पुरस्कार समारोह के लिए इतना कम समय बचा है. मैं सरकार की ओर से जवाब के लिए शाम तक इंतजार करूंगा.

गोल्ड कोस्ट और जकार्ता में गोल्‍ड के अलावा बजरंग ने 2014 कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स और एशियाई खेलों में सिल्‍वर मेडल जीते थे. उन्होंने 2013 विश्व चैम्पियनशिप में भी ब्रॉन्‍ज जीता था, लेकिन इस प्रदर्शन को अंक प्रणाली में शामिल नहीं किया गया क्योंकि अंक प्रणाली 2014 में ही शुरू हुई थी. इसके अलावा चयन समिति के संदर्भ की शर्तों के अनुसार समिति अपने आप सर्वाधिक अंक हासिल करने वाले खिलाड़ियों के नाम की सिफारिश राजीव गांधी खेल रत्न के लिए नहीं कर सकती, लेकिन कुछ विशेष खेलों में पुरस्कार की सिफारिश सर्वाधिक कुल अंक जुटाने वाले खिलाड़ियों के लिए की जा सकती है. खेल मंत्रालय के एक सूत्र ने कहा कि अंतिम समय में इस सूची में नाम शामिल करने की संभावना नहीं है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi