विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

प्रो कबड्डी लीग 2017: पटना पाइरेट्स ने लगातार तीसरी बार जीता खिताब, फाइनल में गुजरात को दी मात

फाइनल में पटना ने गुजरात को 55-38 से मात दी, जीत के सूत्रधार बने प्रदीप नरवाल ने हासिल किए 24 रेड अंक

Riya Kasana Riya Kasana Updated On: Oct 29, 2017 09:30 AM IST

0
प्रो कबड्डी लीग 2017: पटना पाइरेट्स ने लगातार तीसरी बार जीता खिताब, फाइनल में गुजरात को दी मात

प्रो कबड्डी लीग के पांचवें सीजन का खिताब पटना पाइरेट्स ने जीता. शनिवार को खेले गए फाइनल में पटना ने गुजरात फॉरच्यूनजायंट्स को 55-38 से हराकर सीजन का विजेता बना. यह जीत पटना की लगातार तीसरी जीत है. तीसरे और चौथे सीजन के बाद उसने पांचवां सीजन जीतकर हैट्रिक लगाई. फाइनल के मुकाबले में भी पटना की जीत के सुत्रधार बने उनके कप्तान प्रदीप नरवाल. प्रदीप ने मैच में तीन सुपर रेड लगाई और 24 रेड अंक अपने नाम किए. अहम मौकों पर अंक लाकर उन्होंने टीम को ऑलआउट से बचाकर अंक लाकर जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई.

गुजरात के लिए सचिन तंवर ने सबसे ज्यादा 11 अंक हासिल किए. गुजरात पहली बार लीग में खेल रही थी और अपने पहले सीजन में उसे अपने बेहतरीन प्रदर्शन से सभी को हैरान करते हुए फाइनल में जगह बनाई, लेकिन वह खिताब से एक कदम दूर रह गई.

शुरुआत में हावी थी पटना

मोनू गोयत ने दो रेड अंक लेकर पटना का खाता खोला, लेकिन अगले ही पल में राकेश नरवाल ने सुपर रेड मारकर तीन अंक लेते हुए गुजरात को 3-2 से आगे कर दिया. इस बढ़त को सचिन तंवर, सुकेश और राकेश ने सफल रेड मारते हुए बरकरार रखा. सुकेश ने अंत में सुपर रेड मारकर पटना के पाले में बचे खिलाड़ियों को बाहर करते हुए ऑल आउट करते हुए गुजरात को 9-3 से मजबूती दे दी.

एक समय पर दोगुने अंकों के अंतर से पीछे चल रही पटना को विजय, मोनू और प्रदीप ने संभाला. इस मैच में पटना का डिफेंस भी काम कर रहा था. प्रदीप ने गुजरात को ऑल आउट करते हुए स्कोर 15-15 से बराबर कर दिया.

patna pirates

अपनी खिताबी हैट्रिक की कोशिश में लगी पटना ने इसके बाद अपने डिफेंस से गुजरात के रेडरों को आउट करते हुए और मोनू तथा प्रदीप के अच्छे खेल के दम पर पहले हाफ की समाप्ति 21-18 के स्कोर के साथ की.

दोनों टीमों के बीच मैच रोमांचक हो गया था. दूसरे हाफ की शुरुआत में प्रदीप ने फजेल को आउट कर गुजरात को लगभग ऑल आउट की कगार पर ला खड़ा किया. अगले ही पल गुजरात का अंतिम रेडर असफल हुआ और पटना ने 28-21 से मजबूत बढ़त बना ली.

अंतिम समय तक गुजरात ने की कोशिश

गुजरात के डिफेंडरों ने रेड मारने आए प्रदीप को आउट कर बाहर किया और महेंद्र तथा सचिन की रेड से अंक हासिल करते हुए स्कोर 30-26 किया. एक बार फिर प्रदीप ने गुजरात को ऑल आउट किया और न सिर्फ पटना को 38-26 की बढ़त दी, बल्कि सुपर-10 भी हासिल किया. मैच की समाप्ति में आठ मिनट बाकी थे और गुजरात के लिए पटना की बढ़त को खत्म करते हुए बढ़त लेना मुश्किल नजर आ रहा था.

इस मौके पर गुजरात के लिए आशा की किरण बनकर आए महेंद्र ने दो रेड अंक लिए और इसके बाद चंद्रन रणजीत ने तीन रेड अंक लेकर स्कोर 33-39 कर दिया. पटना अब भी छह अंक आगे थी. खेल के रुख को पलटने की कोशिश में लगी गुजरात की कोशिशों पर पानी फेरते हुए प्रदीप ने सुपर रेड मारकर तीन अंक लिए और पटना को फिर 45-34 से आगे कर दिया. पटना एक बार फिर 11 अंकों से आगे हो गई.

ऑल आउट की कगार पर पहुंचने वाली पटना ने गुजरात के दोनों अहम रेडरों अबोजार और फजेल को आउट किया. अंतिम दो मिनट और एक बार फिर गुजरात को ऑल आउट करते हुए पटना ने 53-37 की शानदार बढ़त ले ली और खिताबी हैट्रिक पक्की कर ली. यहां से फिर पटना ने सिर्फ समय काटा और खिताबी हैट्रिक लगाई.

कैसा रहा दोनों टीमों का फाइनल का सफर

पटना की जीत ने उसे अब तक की सबसे कामयाब टीम बना दिया बै, लीग मैचों के बाद वह जोन ए में तीसरे स्थान पर थी. टीम के फाइनल खेलने से पहले दो एलिमिनेटर और एक क्वालिफायर मैच जीतना पड़ा. सभी प्लेऑफ मैचों में प्रदीप ने कमाल का प्रदर्शन किया. पूरे टूर्नामेंट की तरह फाइनल में भी पटना के लिये नरवाल स्टार खिलाड़ी रहे और उन्होंने मैच में 19 रेड अंक जुटाए. नरवाल इस सत्र में सबसे ज्यादा 369 अंकों के साथ मोस्ट वैल्यूएबल खिलाड़ी बने.

वहीं गुजरात की टीम इस सीजन में पहली बार खेल रही थी. लीग मैचों के बाद वह जोन ए की सबसे मजबूत टीम बनके उभरी. पहला क्वालिफायर उसने बंगाल के खिलाफ खेला और जीत हासिल करके फाइनल में प्रवेश किया. फाइनल में उसे उसकी जोन की पटना का सामना करना था.

फाइनल मुकाले से पहले दोनोे टीमें दो बार आमने सामने आई थी और दोनों ही बार गुजरात ने बाजी मारी थी लेकिन पटना ने फाइनल में हराकर सारे हिसाब बराबर कर लिए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi