विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

डेविस कप खत्म होते ही शुरू हुई भूपति और पेस की जंग

भूपति के व्हाट्सएप मैसेज लीक हुए, फेसबुक पेज पर भी डाला बयान, पेस ने दिया जवाब

Bhasha Updated On: Apr 09, 2017 11:14 PM IST

0
डेविस कप खत्म होते ही शुरू हुई भूपति और पेस की जंग

लिएंडर पेस और महेश भूपति के बीच विवाद कोई नई बात नहीं है. डेविस कप मुकाबले के बीच भी ये चलता रहा, जब भूपति ने पेस को टीम में शामिल नहीं किया. डेविस कप मुकाबला खत्म होने के बाद दोनों के बीच जोरदार जंग शुरू हो गई है. महेश भूपति का व्हाट्सएप मैसेज पहले लीक हुए. उसके बाद भूपति ने फेसबुक पर अपना स्टेटमेंट डाला. फिर देर रात लिएंडर पेस की तरफ से बयान जारी किया गया.

पेस ने अपने बयान में एक बार फिर कहा कि चयन का मुख्य आधार फॉर्म था. ये व्हाट्सएप से लीक हुए मैसेज से साफ होता है. लेकिन इसे नहीं माना गया. उन्होंने ये भी लिखा है कि मुझसे कभी ये नहीं कहा गया कि आप टीम में शामिल नहीं हैं. ये भी नहीं कि फैसला मेरे बेंगलुरु पहुंचने से पहले ले लिया गया है. लिएंडर ने लिखा है कि ये आहत करने वाला फैसला था.

लिएंडर ने इस पर भी आपत्ति जताई है कि आपस की बातचीत को सार्वजनिक किया गया है. उन्होंने लिखा है कि मीडिया व्हाट्सएप मैसेज की भी समीक्षा कर ले. मैंने जो कुछ कहा था, इसमें वही कुछ है. लिएंडर ने इस पर भी आपत्ति जताई है कि सोशल मीडिया का इस्तेमाल भूपति ने किया है. उन्होंने लिखा है, ‘महेश ने डेविस कप में मेरे योगदान को छोटा किया है. मैं हर बात का जवाब दे सकता हूं. शायद भविष्य में दूंगा भी. उन्हें सिर्फ ये देखना चाहिए कि किसने देश के लिए क्या जीता है, जब वे तिरंगे का प्रतिनिधित्व कर रहे थे. बातें बनाना सस्ती बात हो सकती है, लेकिन इतिहास झूठ नहीं बोलता.’

भूपति के जो व्हाट्सएप मैसेज आए हैं, उसमें उन्होंने लिएंडर को बताया है कि तीन सिंगल्स खिलाड़ी लेने का फैसला किया गया है. उसमें उन्होंने पूछा भी है कि आप खेलना चाहते हैं या नहीं. अगर खेलना चाहते हैं, तो आप आइए, आप हमारे लिए बहुमूल्य खिलाड़ी हैं. इसके बाद भूपति ने अपने फेसबुक पेज पर बयान डाला.

bhupathi

भारतीय टीम के गैर खिलाड़ी कप्तान महेश भूपति ने प्रेस कांफ्रेंस में भी इस बारे में बात की. उन्होंने कहा कि टीम में जगह नहीं मिलने को लेकर लिएंडर पेस के पास ‘नाराज होने’ का कोई कारण नहीं है. उसे पहले ही बता दिया गया था कि अंतिम चार में उसका स्थान तय नहीं है.

उज्बेकिस्तान के खिलाफ मुकाबले के लिए भूपति ने रोहन बोपन्ना को चुना और अपने फैसले का बचाव किया. भूपति ने भारत की 4-1 से जीत के बाद कहा, ‘उन्होंने देश के लिए जो हासिल किया, उसके कारण वह सम्मान के हकदार हैं. उन्हें छह खिलाड़ियों में विकल्प मिलना चाहिए. हमने उन्हें विकल्प दिया और उन्होंने इसे स्वीकार किया. लेकिन चार खिलाड़ियों का हिस्सा नहीं होने के कारण नाराज होना थोड़ा गैरपेशेवर है.’

इस मुकाबले से पहले पेस ने मैक्सिको में चैलेंजर प्रतियोगिता जीती थी और बुधवार को टीम से जुड़े थे जबकि बाकी खिलाड़ी रविवार को कैंप के लिए इकट्ठा हुए थे. भूपति ने कहा कि अगर सिर्फ एक डबल्स खिलाड़ी के लिए जगह है तो रोहन बोपन्ना बेहतर विकल्प हैं.

उन्होंने कहा, ‘जैसा कि मैंने गुरुवार को प्रेस काफ्रेंस में कहा, मेरा मानना है कि हमें डेविस कप टीम में डबल्स विशेषज्ञ की जरूरत नहीं है. आज की स्थिति में रोहन बोपन्ना काफी बड़े अंतर से भारत के नंबर एक युगल खिलाड़ी हैं.’

पेस टीम से बाहर किए जाने से नाखुश थे. उन्होंने चयन पात्रता पर भी सवाल उठाए और मुकाबले के बीच में मुंबई चले गए जिस फैसले को भूपति ने स्तब्ध करने वाला करार दिया. भूपति ने कहा, ‘मैंने लिएंडर को फिटनेस टेस्ट देने को कहा था. मुझे गर्व है कि उन्होंने चैलेंजर टूर्नामेंट जीता. लेकिन साथ ही रोहन शीर्ष स्तर पर खेल रहे हैं. वह नोवाक (जोकोविच) के खिलाफ खेले. इसलिए मेरी पात्रता एक या दो चीज नहीं बल्कि पांच चीजें थी और इसमें फिटनेस भी शामिल है.’ उन्होंने कहा, ‘छह लोगों से टीम बनती है. पेस का बीच मुकाबले में चले जाना इस हफ्ते हुई कई स्तब्ध करने वाली चीजों में से एक है.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi