S M L

पहली बार कोई राज्य बना किसी खेल का स्पॉन्सर, 100 करोड़ की हुई डील

ओडिशा सरकार अब भारतीय पुरुष और महिला हॉकी टीम की स्पॉन्सर होगी, सहारा इंडिया परिवार के साथ खत्म हुआ करार

Updated On: Feb 16, 2018 11:45 AM IST

Shailesh Chaturvedi Shailesh Chaturvedi

0
पहली बार कोई राज्य बना किसी खेल का स्पॉन्सर, 100 करोड़ की हुई डील

पहली बार कोई राज्य सरकार किसी खेल की टाइटल स्पॉन्सर बनी है. भारतीय हॉकी को ओडिशा सरकार की तरफ से स्पॉन्सरशिप मिली है. दिल्ली के एक पांच सितारा होटल में रंगारंग कार्यक्रम के बीच ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने इसकी घोषणा की. पांच साल तक ओडिशा सरकार की तरफ से भारतीय पुरुष और महिला हॉकी टीम को सपोर्ट किया जाएगा.

इस घटना को दो तरीके से देखा जा सकता है. किसी भी राज्य सरकार का पहली बार किसी खेल के लिए आगे आना शुभ संकेत है. अगर एक राज्य किसी खेल के साथ जुड़ सकता है, तो संभव है कि आगे और भी राज्य इस तरह की पहल करें. पूर्व दिग्गज धनराज पिल्लै ने कहा भी कि अगर हर राज्य एक खेल को सपोर्ट करने लगे, तो देश में खेल का चेहरा बदल जाएगा.

ओडिशा सरकार की इस पहल को दूसरे नजरिए से भी देखा जा सकता है. इसे कॉरपोरेट सेक्टर की उदासीनता के लिहाज से भी देखा जा सकता है. हॉकी इंडिया लीग इस साल नहीं हो रही. उसके स्पॉन्सर कोल इंडिया है, जो पब्लिक सेक्टर कंपनी है. इस समय साई हॉकी इंडिया एकेडमी को भी कोल इंडिया का साथ मिल रहा है. अब सहारा इंडिया परिवार की जगह ओडिशा सरकार हॉकी को सपोर्ट कर रही है. यानी पब्लिक सेक्टर कंपनी और राज्य सरकार के अलावा बाकियों का साथ नहीं मिल रहा है. पूरी घटना को इस नजरिए से भी देखा जा सकता है.

सहारा इंडिया परिवार के साथ खत्म हुआ करार

काफी समय से अटकलें लगाई जा रही थीं कि आखिर कब तक सहारा इंडिया परिवार भारतीय हॉकी टीम का स्पॉन्सर बना रहेगा. सहारा इंडिया परिवार कानूनी और आर्थिक संकट से गुजर रहा है. ऐसे में आखिर भारतीय हॉकी के साथ सहारा इंडिया का जुड़ाव 15 साल बाद खत्म हुआ. हालांकि 1995 से सहारा किसी न किसी तरह से भारतीय हॉकी के साथ जुड़ा था. हालांकि अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि अब टीम के साथ सहारा का किसी तरह का जुड़ाव होगा या नहीं.

नए स्पॉन्सर की उम्मीद उसी समय से थी, जब कथित तौर पर सहारा इंडिया परिवार ने हॉकी इंडिया लीग से एक टीम हटाने की बात की थी. हालांकि उसमें भी आधिकारिक तौर पर कोई बयान नहीं आया. लेकिन हॉकी सर्किल में यही कहा गया कि अब वो रांची टीम नहीं रखना चाहते हैं. उसके बाद, दिल्ली टीम को लेकर भी वेव ग्रुप से समस्या आई, जिसकी वजह से लीग नहीं हो सकी.

ओडिशा सरकार ने लगातार किया है हॉकी को सपोर्ट

सहारा इंडिया परिवार की डील 50 करोड़ की थी. माना जा रहा है कि ओडिशा की तरफ से स्पॉन्सरशिप मनी इससे करीब दोगुनी है. ओडिशा सरकार ने लगातार हॉकी को सपोर्ट किया है. हॉकी इंडिया लीग में कलिंगा लांसर्स टीम पब्लिक सेक्टर की कंपनियों ने खरीदी है. माना जा रहा है कि ओडिशा सरकार की पहल पर ही उन्होंने एक टीम ली थी. पिछले दिनों वर्ल्ड हॉकी लीग और एशियन एथलेटिक्स में भी राज्य सरकार ने काफी मदद की थी. यहां तक कि उसको प्रमोट करने के लिए राष्ट्रीय अखबारों के पूरे पेज के विज्ञापन छापे गए थे.

Hon'ble Chief Minister of Odisha Mr Naveen Patnaik, President of FIH and President of Indian Olympic Association Dr Narinder Dhruv Batra, along with the Indian Men's and Women's Hockey teams present the new jerseys

गुरुवार को भी घोषणा के लिए रंगारंग कार्यक्रम हुआ. गायिका सोना महापात्र की गायकी के बाद ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने घोषणा करते हुए वर्ल्ड कप मे सभी को परिवार सहित भुवनेश्वर आमंत्रित किया. वर्ल्ड कप इस साल नवंबर-दिसंबर में होना है. उन्होंने कहा, ‘ओडिशा के लिए हॉकी खेल से कहीं ज्यादा है. खासतौर पर आदिवासी इलाकों में यह जिंदगी जीने का तरीका है, जहां बच्चे हॉकी स्टिक के साथ चलना सीखते हैं.’ इस मौके पर नई जर्सी और लोगो का भी अनावरण हुआ.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi