S M L

'यंग फेडरर' अपने खिताबों के शतक से है मात्र तीन कदम दूर

2004 में तीन ग्रैंड स्लैम जीतने के साथ ही विश्व के नंबर एक खिलाड़ी भी बने, उसी समय को वे 36 की उम्र में भी दोहराने में कामयाब रहे.

FP Staff Updated On: Feb 19, 2018 02:53 PM IST

0
'यंग फेडरर' अपने खिताबों के शतक से है  मात्र तीन कदम दूर

पिछली साल विंबलडन जीतने के बाद से ही स्विस खिलाड़ी रोजर फेडरर जिस तेजी से एक से बाद एक रिकॉर्ड बना रहे हैं, उसे देखकर तो ऐसा ही लग रहा है जैसे वे अपने करियर के शुरुआती समय में वापस आ गए हैं, जब 'यंग फेडरर'  2004 में एक के बाद तीन ग्रैंड स्लैम जीतने के साथ ही दुनिया के शीर्ष खिलाड़ी भी बने, कई रिकॉर्ड धवस्त किए तो कुछ बनाने की नींव रखी. 1998 में पेशेवर टेनिस की तरफ रुख करने के बाद से फेडरर ने अभी तक 20 ग्रैंड स्लैम अपने नाम कर लिए हैं, लेकिन यहां तक वे आसानी से नहीं पहुंचे. साल 2010 के बाद उनके करियर पर भी ग्रहण सा लगा और चोट के चलते करीब 6 साल तक अपने खराब प्रदर्शन से जूझते रहे. 2012 में भले ही उन्होंने विंबलडन जीता, लेकिन दौर सुधर नहीं पाया.

उम्र अधिक होने के चलते उन्हें संन्यास लेने तक की सलाह मिलने लगी. आखिरकार 2017 में 35 वर्ष की उम्र में 'यंग फेडरर' वापस लौटे और आॅस्ट्रेलियन ओपन व विंबलडन अपने नाम किया. तब से फेडरर को देख ऐसा लग रहा है, जैसे वे अपने उम्र में आगे की ओर नहीं पीछे की ओर बढ़ रहे हैं. 2018 में यंग खिलाड़ी को हराकर अपने आॅस्ट्रेलियन ओपन के खिताब को बरकरार तो रखा ही, साथ ही ग्रैंड स्लैम जीतने वाले उम्रदराज खिलाड़ी भी बने, फिर भी उन्होंने अपने सफर को यहां नहीं रोका. फरवरी में वे एक बार फिर विश्व के शीर्ष खिलाड़ी बने और वहां तक पहुंचने वाले सबसे उम्रदराज खिलाड़ी बने.

यहीं नहीं हाल ही में रोटरडम ओपन में ग्रिगोर दिमित्रोव को आसानी से 6-2, 6-2 से हराकर खिताब जीता, जो उनका ओपन एरा में 97वां खिताब था और अब वे अपने शतक से मात्र तीन खिताब ही दूर हैं. ओपन एरा में सबसे ज्यादा खिताब का रिकॉर्ड अमेरिका ने जिम्मी कॉनर्स के नाम है, जिन्होंंने 109 खिताब जीते हैं. जीत के साथ में स्विस खिलाड़ी ने कहा कि छह साल बाद नंबर एक बनना ये अविश्वसनीय है. ये सप्ताह मेरी जिंदगी का सबसे बेहतर सप्ताह में से एक है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Test Ride: Royal Enfield की दमदार Thunderbird 500X

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi