S M L

National Women’s Boxing : मीनाकुमारी ने 54 किग्रा में मनीषा को हरा किया उलटफेर

तीसरी राष्ट्रीय महिला मुक्केबाजी चैंपियनशिप में हरियाणा और रेलवे को तीन-तीन स्वर्ण, पंजाब ने भी जीते दो स्वर्ण

Updated On: Jan 06, 2019 10:53 PM IST

FP Staff

0
National Women’s Boxing : मीनाकुमारी ने 54 किग्रा में मनीषा को हरा किया उलटफेर

विश्व चैंपियनशिप के क्वार्टर फाइनल में जगह बनाने वाली मनीषा मून को छोड़कर सभी बड़ी मुक्केबाजों ने रविवार को विजयनगर में तीसरी एलीट महिला राष्ट्रीय मुक्केबाजी चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक हासिल किए हैं. इस चैंपियनशिप के फाइनल में एक ही उलटफेर हुआ. बीते साल नंवबर में दिल्ली में खेली गई विश्व चैंपियनशिप में क्रिस्टीना क्रूज और दिना झोलामान के सामने शानदार खेल दिखाने वाली मनीषा को 54 किलोग्राम भारवर्ग के फाइनल में ऑल इंडिया पुलिस की मीनाकुमारी देवी ने मात देकर रजत पदक तक ही रोक दिया.

मनीषा की तरह शशि चोपड़ा (57 किलोग्राम भारवर्ग), नुपूर (75 किलोग्राम भारवर्ग) को भी फाइनल में हार के साथ रजत पदक से संतोष करना पड़ा. इसी वजह से हरियाणा के हिस्से सिर्फ तीन स्वर्ण पदक आए. उसके लिए पिंकी जांगड़ा (51 किलोग्राम भारवर्ग), पूजा रानी (81 किलोग्राम भारवर्ग), नीरज (60 किलोग्राम भारवर्ग) फाइनल में स्वर्ण पदक जीतने में सफल हो सकीं.

इस तरह हरियाणा और रेलवे को कुल 10 पदकों में से छह स्वर्ण पदक मिले. रेलवे के लिए सोनिया लाठर (57 किलोग्राम भारवर्ग), नीतू (75 किलोग्राम भारवर्ग), सीमा पूनिया (81 प्लस किलोग्राम भारवर्ग) ने स्वर्ण पदक अपने नाम किए. पंजाब के हिस्से दो सोने के तमगे आए. उसके लिए मंजू रानी (48 किलोग्राम भारवर्ग), सिमरनजीत कौर ने फाइनल में जीत हासिल की. 69 किलोग्राम भारवर्ग में असम की लवलिना बोर्गोहेन ने स्वर्ण पदक जीता.

ये भी पढ़ें- India vs Thailand, AFC Asian Cup 2019 : 1964 के बाद भारत की पहली जीत, थाईलैंड को 4-1 से दी मात

मंजू रानी को तमिलनाडु की एस कालाइवानी को 4-1 से मात देने में कोई परेशानी नहीं हुई. पहले दो राउंड के बाद यह साफ हो गया था कि यह मुकाबला मंजू के नाम रहेगा. आखिरी मिनटों में कुछ अच्छे पंचों और पहले राउंड में सटीक पंचों के कारण तमिलनाडु की खिलाड़ी कुछ अंक हासिल करने में सफल रहीं.

लवलीना ने रेलवे की पूजा को शिकस्त दी

लवलीना ने रेलवे की पूजा को शिकस्त दी

फ्लाइवेट कैटेगरी में पिंकी को जीत की दावेदार माना जा रहा था, लेकिन जिस तरह से उन्होंने अपनी तेलंगाना की निखत जरीन के खिलाफ शुरुआत की उससे कुछ संदेह पैदा हुआ. निखत ने बाएं पंच का अच्छा इस्तेमाल करते हुए पिंकी को परेशान किया. पिंकी हालांकि इससे हैरान रह गईं, लेकिन उन्होंने अच्छा काउंटर किया. निखत ने अपने कदम नहीं खिंचे और लगातार पिंकी पर हमले करती रहीं. पिंकी ने आखिरी में टारगेट एरिया पर सटीक पंच लगाए जिससे उनके हिस्से अंक जुड़े और इसी कराण जजों ने फैसला उनके फेवर में 3-2 से दिया.

ये भी पढ़ें- Australian Open 2019: टाईब्रेक के नए नियम को लेकर तैयार है दिग्गज खिलाड़ी

75 किलोग्राम भारवर्ग और 81प्लस किलोग्राम भारवर्ग के दो मुकाबलों ने भी यहां सभी का ध्यान खींचा. यहां रेलवे की नीतू ने हरियाणा की नुपूर को मात दी तो वहीं सीमा पूनिया ने एआईपी की कविता चहल को 3-2 से हराया. विभाजित फैसले की उम्मीद की जा रही थी क्योंकि नीतू और सीमा ने अच्छी शुरुआत की थी और दूसरे राउंड के अंत और तीसरे राउंड में इन्होंने अपने खेल को और आक्रामक कर दिया था. इन दोनों ने अपनी विपक्षी नुपूर और कविता को बांधे रखा। इन दोनों ने भी हालांकि कुछ अच्छे प्रयास किए.

अनुभवी मुक्केबाज सोनिया को शशि के खिलाफ ज्यादा कुछ करने की जरुरत नहीं पड़ी. क्योंकि शशि पहले से ही बैकफुट पर नजर आ रही थीं. वह अपनी सेमीफाइनल की फॉर्म को जारी नहीं रख पाईं और सोनिया ने उन्हें 5-0 से मात दी. वहीं हरियाणा की नीरज ने एआईपी की प्रीति बेनीवाल को 5-0 से हराया. पंजाब की सिमरनजीत ने एआईपी पावइलाओ बासुमात्री को मात दी. लवलीना ने रेलवे की पूजा को शिकस्त दी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi