विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

भारतीय बॉक्सिंग सही राह पर चल रही है, उभरेंगे नए चैंपियन- मैरी कॉम

एआईबीए यूथ वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप के लिए युवा मुक्केबाज सीनियर टीम के साथ अभ्यास कर रहे हैं

FP Staff Updated On: Oct 15, 2017 01:18 PM IST

0
भारतीय बॉक्सिंग सही राह पर चल रही है, उभरेंगे नए चैंपियन- मैरी कॉम

बीते महीने तुर्की में शानदार प्रदर्शन करने के बाद भारत का युवा मुक्केबाजी प्रतिनिधिमंडल अगले महीने गुवाहाटी में होने वाली एआईबीए यूथ वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप में अपने फन का लोहा मनवाने के लिए तैयार है. इस चैंपियनशिप में राफेल और भाष्कर भट्ट के नेतृत्व में 30 सदस्यीय भारतीय दल अपनी चुनौती पेश करेगा. अभी भारतीय टीम इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में अंतिम चरण का प्रशिक्षण प्राप्त कर रही है. यह टीम खुद को अपने अब तक के सबसे अच्छे प्रदर्शन के लिए तैयार है.

युवा मुक्केबाज सीनियर टीम के साथ अभ्यास कर रहे हैं. सीनियर टीम में 2012 लंदन ओलिंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीत चुकीं भारत की सबसे बड़ी महिला मुक्केबाज एमसी मेरी कॉम और पूर्व विश्व चैंपियन लैशराम सरिता देवी शामिल हैं.

टीम जिस तरह अभ्यास कर रही है, उसने न सिर्फ कोचिंग स्टाफ को प्रभावित किया और उन्हें आत्मविश्वास से सराबोर किया है बल्कि इन खिलाड़ियों ने मेरी कॉम की तारीफ भी बटोरी है.

मेरी ने कहा, 'कैम्प के दौरान मैं खिलाड़ियों से मिलती रहती हूं. इस टीम में काफी क्षमता है. इन खिलाड़ियों को बस यह बताने की जरूरत है कि उनका लक्ष्य क्या है. आप यकीन कीजिए, इन खिलाड़ियों में से जल्द ही कोई चैंपियन बनकर उभरेगा.'mary kom मेरी कॉम ने कहा, 'प्रतिभाशाली खिलाड़ियों की नई खेप देखकर अच्छा लगता है. हमारे पास आज जिस तरह की प्रतिभा है, उसे देखते हुए यह कहना गलत नहीं होगा कि भारतीय मुक्केबाजी सही दिशा में अग्रसर है.'

यूथ वर्ल्ड चैंपियनशिप में भारत की पदक जीतने की सम्भावनाओं के बारे में पूछे जाने पर मेरी कॉम ने कहा, 'कितने पदक आएंगे, यह कोई नहीं बता सकता. मैं भी सही-सही नहीं बता सकती लेकिन इतना जरूर कह सकती हूं कि इन लड़कियों में काफी प्रतिभा है और ये काफी मेहनती हैं. मैं इस बात को लेकर आश्वस्त हूं कि ये अपने दमखम के दम पर टूर्नामेंट में भारत का नाम रोशन करेंगी.'

भिवानी की साक्षी, जो कि 48 किग्राम में पूर्व जूनियर विश्व चैम्पियन रह चुकी हैं, आने वाले आयोजन के लिहाज से सबकी निगाहों में हैं. साक्षी मानती हैं कि मैरी कोम और सरिता देवी जैसी सीनियर खिलाड़ियों के साथ कैम्प में रहने से उनके मनोबल बढ़ा है. साक्षी ने कहा, 'हमने मेरी (दी) को देखकर मुक्केबाजी सीखी है और वह अब हमारे साथ अभ्यास कर रही हैं. इससे हमें निश्चित तौर पर फायदा होगा.

यह देखकर काफी अच्छा लगता है कि इतनी उम्र में भी वह कितनी मेहनत करती हैं. वह एक मां हैं और यह बात और भी हैरान करती है. मेरी दी से टिप्स पाना हमारे लिए काफी फायदेमंद रहेगा और इससे हमें अगले टूर्नामेंट में अच्छा खेलने की प्रेरणा मिलेगी.'

एआईबीए यूथ वर्ल्ड बॉक्सिंग चैम्पियनशिप का आयोजन 19 से 26 नवम्बर तक गुवाहाटी में होगा. भारत में पहली बार इस टूर्नामेंट का आयोजन हो रहा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi