विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

पुण्यतिथि विशेष : हॉकी के जादूगर ध्यानचंद की खास बातें

खेल | FP Staff | Dec 03, 2017 09:20 AM IST
X
1/ 10
dhyan chand 1

dhyan chand 1

X
2/ 10
ध्यानचंद का जन्म साल 1905 में 29 साल में हुआ था. 16 साल की उम्र में वह सेना में शामिल हुए थे

ध्यानचंद का जन्म साल 1905 में 29 साल में हुआ था. 16 साल की उम्र में वह सेना में शामिल हुए थे

X
3/ 10
1928 के एमस्टर्डम ओलिंपिक में 14 गोल के साथ वह लीड गोल स्कोरर रहे

1928 के एमस्टर्डम ओलिंपिक में 14 गोल के साथ वह लीड गोल स्कोरर रहे

X
4/ 10
ध्यानचंद की बदौलत भारत ने 1932 के समर ओलिंपिक में अमेरिका को 24-1 और जापान को 11-1 से हराया

ध्यानचंद की बदौलत भारत ने 1932 के समर ओलिंपिक में अमेरिका को 24-1 और जापान को 11-1 से हराया

X
5/ 10
अमेरिका और जापान के खिलाफ भारत की ओर से दागे कुल 35 गोल में से ध्यान चंद के 12 और उनके भाई रुप सिंह के 13 गोल थे

अमेरिका और जापान के खिलाफ भारत की ओर से दागे कुल 35 गोल में से ध्यान चंद के 12 और उनके भाई रुप सिंह के 13 गोल थे

X
6/ 10
1936 के बर्लिन ओलिंपिक में पहले मैच के बाद पूरे शहर में ध्यानचंद के पोस्टर लगे थे, उन्हें भारत का जादूगर कहा गया

1936 के बर्लिन ओलिंपिक में पहले मैच के बाद पूरे शहर में ध्यानचंद के पोस्टर लगे थे, उन्हें भारत का जादूगर कहा गया

X
7/ 10
1935 में ऑस्ट्रेलिया में ब्रैडमैन ने ध्यानचंद को खेलते हुए देखकर कहा कि वो क्रिकेट की तरह स्कोर करते हैं

1935 में ऑस्ट्रेलिया में ब्रैडमैन ने ध्यानचंद को खेलते हुए देखकर कहा कि वो क्रिकेट की तरह स्कोर करते हैं

X
8/ 10
अपने 22 साल के करियर (1926-48) में ध्यान चंद ने कुल 400 से ज्यादा गोल दागे

अपने 22 साल के करियर (1926-48) में ध्यान चंद ने कुल 400 से ज्यादा गोल दागे

X
9/ 10
उनके खेल से हैरान नेदरलैंड्स हॉकी अथॉरिटी ने उनकी हॉकी तोड़कर चेक किया कि उसमें चुंबक तो नहीं

उनके खेल से हैरान नेदरलैंड्स हॉकी अथॉरिटी ने उनकी हॉकी तोड़कर चेक किया कि उसमें चुंबक तो नहीं

X
10/ 10
एक बार मैदान पर गोल पोस्ट के माप को लेकर ध्यान चंद रेफरी से भिड़ गए थे, जब जांच की गई तो वो सही साबित हुए

एक बार मैदान पर गोल पोस्ट के माप को लेकर ध्यान चंद रेफरी से भिड़ गए थे, जब जांच की गई तो वो सही साबित हुए

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी