S M L

National Sports Awards 2018: कोहली '0' अंक से जीत गए तो बजरंग 80 अंक लेकर भी हार गए!

बजरंग पूनिया और विनेश फोगाट के 80-80 अंक थे, जबकि कोहली ने 0 और मीराबाई के 44 अंक

Updated On: Sep 21, 2018 10:59 AM IST

Kiran Singh

0
National Sports Awards 2018: कोहली '0' अंक से जीत गए तो बजरंग 80 अंक लेकर भी हार गए!

इस बार दो खिलाड़ी भारत के खेल रत्‍न बनने वाले हैं. पहले भारतीय क्रिकेट टीम के कप्‍तान विराट कोहली और दूसरा नाम है कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स की गोल्‍ड मेडलिस्‍ट और विश्‍व चैंपियन मीराबाई चानू. 25 सितंबर को राष्‍ट्रपति भवन में होने वाले समारोह में कोहली और मीराबाई को खेल का सर्वोच्‍च सम्‍मान राजीव गांधी खेल रत्‍न अवार्ड से नवाजने के साथ ही कई और भी अवार्ड दिए जाएंगे, लेकिन यहां आप भी जानकार जरूर हैरान होंगे कि इस सर्वोच्‍च सम्‍मान के लिए जितने खिलाडि़यों के नाम पर चर्चा हुई थी, उनमें से  सम्‍मान सबसे अधिक अंक करने वाले खिलाड़ी को न मिलकर सबसे कम अंक हासिल करने वाले खिलाडि़यों को दिया जा रहा है. कोहली को शून्‍य और मीराबाई को 44 अंक मिले थे, जिन्‍हें 11 सदस्‍यीय सलेक्‍शन पैनल ने राजीव गांधी खेल रत्‍न के लिए चुना. टाइम्‍स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक कोहली की प्रदर्शन शीट पर कोई अंक नहीं था, क्‍योंकि क्रिकेट के लिए कोई मापदंड तय नहीं किया गया है. यहां इस अवार्ड के लिए कम से कम छ‍ह ऐसे उम्‍मीदवार भी थे, जिनके अंक मीराबाई चानू के अधिक थे. पहलवान बजरंग पूनिया और विनेश फोगाट दोनों ने 80-80 अंक थे, लेकिन इसके बावजूद फैसला लिया गया कि भारतीय कप्‍तान विराट कोहली और मीराबाई चानू (जिन्‍होंने शटलर किंदाबी श्रीकांत को किनारे कर दिया) को इस साल खेल का सर्वोच्‍च पुरस्‍कार दिया जाएगा.

अंक व्‍यवस्‍था

इवेंट गोल्‍ड सिल्‍वर ब्रॉन्‍ज
ओलिंपिक/ पैरालिंपिक 80 70 55
वर्ल्‍ड चैंपियनशिप/वर्ल्‍ड कप 40 30 20
एशियन गेम्‍स 30 25 20
कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स 25 20 15
 

हालांकि बजरंग पूनिया ने खेल मंत्री से इस संबंध में बात भी की थी और अब वह अदालत का रुख करने वाले हैं. डॉक्‍यूमेंट के अनुसार 2018 अवार्ड के लिए उपलब्धियों पर अंक के आधार पर 17 खिलाडि़यों को छांटा गया था. जिसमें पैरा एथलीट दीपा मलिक 78.4 अंक के साथ बजरंत पूनियां और विनेश फोगाट के बाद थी. इसके बाद टेबल टेनिस प्‍लेयस मनिका बत्रा (65), मुक्‍केबाज विकास कृष्‍णन (52) और तीरंदाज अभिषेक वर्मा (55.3) थे. हालांकि ओलिंपिक खेल न होने के कारण क्रिकेट के लिए अंक व्‍यवस्‍था नहीं बनाई गई है. किसी भी प्रकार के विवाद की गुजांइश को छोड़कर अधिकतर क्रिकेटर्स को आम सहमति से चुना जाता है.

अंक का क्‍या उपायोग

कमेटी के एक सदस्‍य के अनुसार जब कोहली का नाम चर्चा के लिए आया तो क्रिकेट में अंक व्‍यवस्‍था न होने की स्थिति में हाथ उठाकर फैसला किया गया. 11 में से 8 सदस्‍यों ने कोहली के पक्ष में आए और ऐसे में उनके नाम की सिफारिश की गई. वहीं मीराबाई और श्रीकांत के मामले में भी यहीं प्रक्रिया दोहराई गई. मीराबाई के पक्ष में सात सदस्‍यों ने और श्रीकांत के पक्ष में छह सदस्‍यों ने हाथ उठा और इस तरह से दूसरे नाम की सिफारिश मीराबाई के रूप में की गई. बाद में श्रीकांत का नाम पर चर्चा भी हुई थी, लेकिन उनके नाम पर राय वि‍भाजित हो गई और सिर्फ कोहली और मीराबाई के नाम की ही सिफारिश की गई. बजरंग और विनेश का नाम भी चर्चा के लिए आया था, लेकिन उन्‍होंने अवार्ड के लिए विचार नहीं किया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi