S M L

इस बार एशिया कप में चीजें अलग होंगी, भारतीय फुटबॉल कोच कांस्टेनटाइन का दावा

कोच स्टीफन कांस्टेनटाइन ने कहा, सिर्फ संख्या बढ़ाने नहीं जा रही भारतीय फुटबॉल टीम  

Updated On: May 30, 2018 09:00 AM IST

Bhasha

0
इस बार एशिया कप में चीजें अलग होंगी, भारतीय फुटबॉल कोच कांस्टेनटाइन का दावा

महाद्वीपीय दिग्गजों बहरीन और यूएई का सामना करना आसान नहीं है, लेकिन भारतीय फुटबॉल टीम के कोच स्टीफन कांस्टेनटाइन को भरोसा है कि सुनील छेत्री और उनकी टीम अगले साल होने वाले एशिया कप में सिर्फ संख्या बढ़ाने नहीं जा रहे. भारत ने पिछली बार 2011 में ब्रिटेन के बॉब हॉटन के मार्गदर्शन में एशियाई कप में हिस्सा लिया था और तब उसे ऑस्ट्रेलिया,  साउथ कोरिया और बहरीन ने आसानी से हरा दिया था. लेकिन कांस्टेनटाइन का मानना है कि इस बार चीजें अलग होंगी

भारत को पांच जनवरी से एक फरवरी तक होने वाले 24 टीमों के इस टूर्नामेंट में थाईलैंड, मेजबान यूएई और बहरीन के साथ ग्रुप ए में रखा गया है. प्रत्येक छह ग्रुप से शीर्ष दो टीमें और तीसरे स्थान पर रहने वाली चार सर्वश्रेष्ठ टीमें नॉकआउट में जगह बनाएंगी. भारत अपने पहले मैच में छह जनवरी को अबु धाबी में थाईलैंड से भिड़ेगा, जबकि 10 जनवरी को अबु धाबी में ही यूएई के खिलाफ खेलेगा. टीम अपना अंतिम मैच 14 जनवरी को शारजाह में बहरीन के खिलाफ खेलेगी

कांस्टेनटाइन  ने कहा, ‘ मुझे लगता है कि हमारे पास ठीक ठाक मौका है (नॉकआउट के लिए क्वालीफाई करने का), लेकिन मानसिक और शारीरिक दोनों तरह से तैयार रहना होगा. थाईलैंड के खिलाफ पहला मैच अच्छा मुकाबला होने वाला है. हम वहां जीतने के लिए जा रहे हैं, सिर्फ संख्या बढ़ाने के लिए नहीं.’

चार देशों का इंटरकांटिनेंटल टूर्नामेंट एक जून से 

एशियाई कप की तैयारियों के लिए भारत एक जून से मुंबई के चार देशों के इंटरकांटिनेंटल टूर्नामेंट की मेजबानी कर रहा है. भारत के अलावा इस टूर्नामेंट में चीनी ताइपे, केन्या और न्यूजीलैंड की टीमें भी हिस्सा लेंगी. दूसरी बार भारतीय टीम के कोच की जिम्मेदारी निभा रहे 55 साल के कांस्टेनटाइन  ने कहा, ‘ हमें इन मैचों की जरूरत है (इंटरकांटिनेंटल कप में). हम गलतियां करेंगे, लेकिन यह बेहतर है कि एशियाई कप की जगह हम यहां ऐसा करें.’

सुनील छेत्री 100वें अंतरराष्ट्रीय मैच के करीब

भारत की मौजूदा टीम 2011 में दोहा में खेलने वाली भारतीय टीम से पूरी तरह से अलग है. मौजूदा भारतीय कप्तान सुनील छेत्री एकमात्र खिलाड़ी हैं जो 2011 टूर्नामेंट में खेलने वाली टीम के सदस्य थे. छेत्री के इंटरकांटिनेंटल कप के दौरान भारत की ओर से 100वां अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने की उम्मीद है. वह अब तक 97 अंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुके हैं. कांस्टेनटाइन इससे पहले 2002 से 2005 के बीच भी भारतीय टीम के कोच रहे थे, जबकि मार्च 2015 में दूसरी बार उन्हें यह जिम्मेदारी सौंपी गई.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi