S M L

Hockey World Cup: हॉकी इंडिया ऑफिशियल ने कर दी भारतीय खिलाड़ियों के साथ बदतमीजी!

कप्तान मनप्रीत समेत कई खिलाड़ियो को कहा- भागो यहां से तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई इधर आने की!

Updated On: Dec 12, 2018 05:36 PM IST

FP Staff

0
Hockey World Cup: हॉकी इंडिया ऑफिशियल ने कर दी भारतीय खिलाड़ियों के साथ बदतमीजी!

भारतीय हॉकी टीम किसे बड़े टूर्नामेंट में शिरकत करे और कोई विवाद सामने ना आए इसकी गुंजाइश बेहद कम होती है. लेकिन इस बार हॉकी वर्ल्डकप के दौरान एक ऐसा विवाद उछला है जो भारतीय खिलाड़ियों के सम्मान को ठेस पहुंचाने वाला है. खबर है कि भुवनेश्वर में मंगलवार को नेदरलैंड्स और कनाडा के बीच खेले जा रहे मुकाबले में भारतीय हॉकी टीम के वरिष्ठ खिलाड़ियों के साथ एक हॉकी इंडिया ऑफिशियल ने बेहद बदतमीजी के साथ बात की जिसके बाद खिलाड़ियों में काफी रोष है.

दरअसल हॉकी से जुड़े हुए एक कोच लियो देवादॉस ने अपनी फेसबुक पोस्ट पर इस पूरे मामले का खुलासा किया है. उनके मुताबिक इस मुकाबले के दौरान भारतीय टीम के कुछ सदस्य जिसमें कप्तान मनप्रीत के साथ-साथ मनदीप सिंह गुरजंत सिंह और कृष्णन पाठक वीआईपी लॉन्ज में कुछ फैंस के साथ सेल्फी खिंचाते हुए ऑटोग्राफ दे रहे थे.

इसी दौरान हॉकी ऑफिशियल की नजर इन खिलाड़ियों पर पड़ी. इस ऑफिशियल ने गुस्से से आगबबूला होते हुए इन खिलाड़ियों को उनके फैंस के सामने ही बेहद कड़ी भाषा में डांट लगा दी. पोस्ट के मुताबिक हॉकी इंडिया में बड़े पद पर तैनात इस विदेशी ऑफिशियल ने कठोर आवाज में खिलाड़ियों को कहा, ‘ भागो यहां से . इधर आने की तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई. चुप हो जाओ और जाओ यहां से.’

इस दौरान वहां पर कई पूर्व खिलाड़ी भी मौजूद थे. ऑफिशयल का गुस्सा यहीं शांत नहीं हुआ और इसके बाद भी उसने बेहद आपत्तिजनक भाषा में इन खिलाड़ियों के बारे में बातें कीं.

हालांकि बात यह भी है कि वर्ल्ड कप की गाइडलाइन के मुताबिक खिलाड़ियों को उस जगह पर मौजूद नहीं होना चाहिए था.

भारतीय कप्तान मनप्रीत ने इस मसले को ठंडा करने की कोशिश की है. उन्होंने इसे खिलाड़ियों की ही गलती माना है. उनका कहना है, ' यह हमारी गलती थी. उस लॉन्ज में किसी भी टीम के खिलाड़ियों को जाने की इजाजत नहीं थी. हम वहां गए, यह हमारी गलती थी. यह कोई बड़ी बात नहीं है और मुझे तो अगली सुबह ये बात याद ही नहीं रही. मेरे ऊपर इस बात को कहने का कोई दबाव नहीं है यह हमारी गलती थी और इस कबूलने के लिए किसी ने हमारे ऊपर कोई दबाव नहीं बनाया है.

मनप्रीत ने भले इस घटना को कोई बड़ी बात नहीं माना हो लेकिन  जिस अंदाज में उन्हें डांटा गया उस पर सवाल उठना तो लाजिमी है कि आखिरकार कैसे कोई ऑफिशियल भारत के लिए खेलने वाले खिलाड़ियों के साथ इस भाषा में बात कर सकता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi