S M L

शूटिंग में हिना की महारत तो दुनिया ने देखी, लेकिन उनकी इस प्रतिभा को आज तक कोई नहीं जान पाया

कोच और पति से अपने रिश्‍ते पर हिना ने बताया कि अगर रौनक उनके साथ नहीं होते तो रेंज ऑफिसर ने उनकी लड़ाई हो जाती

Updated On: May 05, 2018 08:48 PM IST

Kiran Singh

0
शूटिंग में हिना की महारत तो दुनिया ने देखी, लेकिन उनकी इस प्रतिभा को आज तक कोई नहीं जान पाया

वर्ल्‍ड की पूर्व शीर्ष शूटर भारत की हिना सिद्धू ने हाल ही में गोल्‍ड कोस्‍ट में हुए कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स में लंबे इंतजार के बाद कोई मेडल अपने नाम किया. वहीं उन्‍होंने अपने कॉमनवेल्‍थ करियर का पहला व्‍यक्तिगत गोल्‍ड मेडल भी जीता. विश्‍व की बेहतरीन शूटर्स में शुमार हिना ने 25 मीटर एयर पिस्‍टल स्‍पर्धा में गोल्‍ड जीता. 10 मी एयर पिस्‍टल में गोल्‍ड के लिए हमवतन मनु भाकर ने उन्‍हें पछाड़ा था और उन्‍हें सिल्‍वर से संतोष करना पड़ा था. कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स में अपने प्रदर्शन से खुश हिना ने फर्स्‍टपोस्‍ट हिंदी से खास बातचीत में बताया कि 10 मीटर में उन्‍होंने पहले से ही तय कर रखा था कि गोल्‍ड और सिल्‍वर भारत के लिए लेकर आएंगे और मनु और मैंने वह किया भी.हिना ने पति और कोच रौनक पंडित के साथ निजी जिंदगी और रेंज के रिश्‍ते के साथ ही अपने करियर के बारे में भी खुलकर बात की.

10 मीटर में की थी शुरुआती गलतियां

हिना  ने बताया कि 10 मीटर एयर पिस्‍टल स्‍पर्धा में शुरुआती शॉट्स उन्‍होंने गलत चला दिए, हालांकि बाद में उन्‍होंने उसे पिक किया. लेकिन मनु ने तब तक बढ़त बना ली थी. हालांकि इस स्‍पर्धा में गलतियों से बहुत कुछ सीखा. दबाव को कैसे हैंडल करना है, उस पर काम किया और उसका नतीजा 25 मीटर एयर पिस्‍टल में देखने को मिला, जिस स्‍पर्धा को करीब दो साल पहले ही शुरू किया, उसमें गोल्‍ड मेडल पर निशाना लगाया.

गलत टाइम पर सामने आई उंगली की परेशानी

10 मीटर एयर पिस्‍टल के फाइनल्‍स में एक समय हिना  को उंगली में परेशानी होने लगी थी, हालांकि इस बात को उन्‍होंने बाद में बताया. हिना ने बताया कि उंगली में परेशानी 2017 से ही थी, लेकिन यह परेशानी गलत टाइम पर एक बार फिर सामने आ गई. हिना का कहना है कि मुकाबले से पहले वह इंजुरी पर ध्‍यान नहीं देतीं, उनका पूरा ध्‍यान सिर्फ और सिर्फ ट्रेनिंग पर रहता है.

कॉमनवेल्‍थ से हौसला बढ़ा, अब एशियाड में साबित करना है

कॉमनवेल्‍थ में हमेशा से ही भारतीय निशानेबाज काफी अच्‍छा प्रदर्शन करते हैं, लेकिन एशियन गेम्‍स में उनके सामने कड़ी चुनौती होती है और एक मेडल के लिए काफी संघर्ष करना पड़ता है. इस बारे में पूर्व वर्ल्‍ड चैंपियन का मानना है कि कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स में हौसला बढ़ा है और शुरुआत भी अच्‍छी हुई है. एशियन गेम्‍स शुरू होने में अभी करीब तीन महीने का समय है. भारतीय निशानेबाज भी अब अच्‍छा कर रहे हैं. वर्ल्‍ड कप स्‍तर में हम चौथे नंबर पर हैं. एशियाड में कॉमनवेल्‍थ के प्रदर्शन को दोहराने की पूरी कोशिश है. हालांकि एशियाड की तैयारियां तो कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स से भी पहले ही शुरू हो गई थीं.

फाइनल्‍स पर था पूरा ध्‍यान

25 मीटर एयर पिस्‍टल में गोल्‍ड जीतने वाली हिना ने अपनी इस स्‍पर्धा की स्‍ट्रेटजी के बारे में बताया कि पूरा ध्‍यान फाइनल्‍स पर लगाने की रणनीति बनाई गई. क्‍वालीफिकेशन पर काम कम किया, इसी वजह से वहां पिछड़ रही थी. लेकिन स्‍ट्रटेजी के अनुसार मुझे सिर्फ क्‍वालीफाइ करने तक की ही कोशिश करनी थी. फाइनल्‍स पर वर्क किया और वहां कोई कसर भी नहीं छोड़ी.

रौनक बेहतर समझते हैं

heena sidhu

कोच और पति रौनक पंडित के बारे में अपने रिश्‍ते पर हिना ने कहा कि वह मुझे बेहतर समझते हैं. मुझे क्‍या जरूरत है, किस जगह पर अधिक वर्क है. हमारी शूटिंग भी काफी मिलती जुलती है. हिना ने कहा कि रौनक ने हर चीज को काफी अच्‍छे से हैंडल किया. एक किस्‍से के बारे में बताते हुए कहा कि कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स में रेंज ऑफिसर और उनके बीच मिस अंडरस्टैंडिंग हो गई थी और ऑफिसर ने उन्‍हें 0 अंक दे दिए थे. तब रौनक ने आकर इस मामले को संभाला और गलतफहमी को दूर किया. हिना  ने कहा कि अगर रौनक उस समय नहीं होते हैं तो रेंज ऑफिसर ने उनकी लड़ाई तक हो जाती. फाइनल्‍स के पहले भी उन्‍होंने हर तरह से काफी मदद की.

शौक के तौर पर हाथ में उठाई थी पिस्‍टल

हिना  ने बताया कि उनके जन्‍म से पहले उनके पिता ने नेशनल स्‍तर पर शूटिंग की थी और उनके भाई ने उनके बाद शुरू किया, लेकिन घर में शूटर्स होने की वजह से 17 साल की उम्र में शौक के लिए पिस्‍टल चलाना सीखा और फिर धीरे-धीरे इसी में आगे बढ़ती चली गई. अपने डॉक्‍टर बनने के सपने पर हिना ने कहा कि शूटिंग को शौकिया तौर पर स्‍कूल से पास आउट होने पर शुरू किया था, लेकिन डॉक्‍टर बनने का सपना तो बचपन से देख रखा था, जिसके लिए उन्‍होंने डेंटल सर्जरी में ग्रेजुएशन किया, लेकिन तब तक शूटिंग में उन्‍होंने मेडल जीतना भी शुरू कर दिया था, जिसकी वजह से फिर शूटिंग पर ही ध्‍यान लगाना शुरू किया.

अपने घर नए को सजाकर पूरी की अपनी इच्‍छा

बहुत कम लोगों को मालूम है कि हिना को इंटीरियर डिजाइनिंग भी काफी पसंद है और उन्‍होंने इसकी डिग्री भी हासिल की है. पूछने पर हिना ने बताया कि पुणे में जब उन्‍होंने नया घर खरीदा था तो उसका पूरा इंटीरियर इन्‍होंने खुद ही किया था. हिना का कहना कि वह इस शौक को अपना घर सजा कर पूरा करती हैं. उनका मानना है कि वह अपने स्‍ट्रेस को घर सजाकर कम करती है. ऑनलाइन कोर्स पर इंटीरियर डिजाइनिंग में महारत हासिल करने वाली हिना फ्यूचर में शूटिंग से ही जुड़ी रहना चा‍हती हैं और अपने इस शौक को सिर्फ अपने घर त‍क ही सीमित रखना चाहती है.

खिलाड़ियों को करना चाहिए बॉयकॉट

2022 कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स से शूटिंग को हटा दिए जाने से नाराज हिना ने कहा कि हमेशा ही शूटर्स ने भारत को कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स में सबसे ज्‍यादा मेडल दिलाए हैं और ऐसे में अगले कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स में शूटिंग ना होने से शूटर्स भी निराश हैं, क्‍योंकि ओलिंपिक तक के सफर का यह पहला पड़ाव होता है. उन्‍होंने कहा कि अगर 2022 कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स में शूटिंग को शामिल नहीं किया जाता है तो सभी भारतीस शूटर्स सहित सभी खेल संघों को बॉयकॉट करना चाहिए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi