live
S M L

हॉकी इंडिया लीग में हुई गुरबाज सिंह की वापसी

गुरबाज को अनुशासनहीनता के आरोप में हॉकी इंडिया लीग में प्रतिबंधित किया था

Updated On: Nov 18, 2016 01:32 PM IST

FP Staff

0
हॉकी इंडिया लीग में हुई गुरबाज सिंह की वापसी

तमाम विवादों में घिरे भारतीय मिडफील्डर गुरबाज सिंह की हॉकी इंडिया लीग में वापसी हो गई है. गुरबाज सिंह लीग के लिए होने वाली क्लोज बिड में सबसे ज्यादा रकम पर रांची रेज ने अपनी टीम में लेने का फैसला किया.

उन्हें 99 हजार अमेरिकी डॉलर ( करीब 67 लाख ) में रांची टीम ने लेने का फैसला किया. गुरबाज को अनुशासनहीनता के आरोप में हॉकी इंडिया लीग में प्रतिबंधित किया था, जिसके बाद वह अदालत गए थे.

अदालत ने हॉकी इंडिया से निलंबन वापस लेने को कहा था. उसके बाद वह दक्षिण एशियाई गेम्स में भारतीय टीम का हिस्सा बने थे. लेकिन पिछले साल की हॉकी इंडिया लीग के अलावा किसी भी प्रमुख टूर्नामेंट में उन्हें टीम का हिस्सा नहीं बनाया गया.

टीम प्रबंधन से हुआ था विवाद 

गुरबाज सिंह का टीम प्रबंधन से विवाद हुआ था. दौरे की रिपोर्ट में उन पर अनुशासनहीनता के आरोप लगे थे, जिसके बाद हॉकी इंडिया की कमेटी ने अगस्त 2015 में गुरबाज पर नौ महीने का बैन लगा दिया था.

फैसले के खिलाफ गुरबाज हरियाणा और पंजाब हाई कोर्ट गए थे, जिसने उनके पक्ष में फैसला सुनाया. तब तक हॉकी इंडिया लीग की नीलामी हो चुकी थी, जिस वजह से वो इसका हिस्सा नहीं बन पाए. उन्हें फिर चैंपियंस ट्रॉफी या ओलिंपिक जैसे इवेंट के लिए भी नहीं चुना गया.

क्लोज बिड में यूपी विजर्ड्स के अलावा सभी टीमें 20 खिलाड़ियों के साथ उतरीं. यूपी विजर्ड्स 15 ही खिलाड़ियों को बरकरार रखने का फैसला किया. गुरबाज सिंह को शामिल करने वाली रांची रेज स्टार क्रिकेटर महेंद्र सिंह की टीम है.

जर्मन स्ट्राइकर क्रिस्टोफर रूर को भी रांची रेज ने लिया. बड़े खिलाड़ियों में टॉम क्रेग कलिंगा लांसर्स, रॉबर्टन वान डर हॉर्स्ट जेपी पंजाब वॉरियर्स और सीव वान आस यूपी विजार्ड्स का हिस्सा बने.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi