S M L

अब इस बड़ी टेनिस खिलाड़ी ने लगाया बीबीसी पर तनख्वाह देने में लिंगभेद का आरोप

18 बार की ग्रैंडस्लैम विजेता मार्टिना नवरातिलोवा का आरोप है कि बीबीसी ने विंबलडन के दौरान मैकेनरो को उनसे 10 गुना ज्यादा तनख्वाह दी

Updated On: Mar 21, 2018 04:58 PM IST

FP Staff

0
अब इस बड़ी टेनिस खिलाड़ी ने लगाया बीबीसी पर तनख्वाह देने में लिंगभेद का आरोप

अभी ज्यादा वक्त नहीं बीता है जब ब्रिटेन के मशहूर समाचार संस्थान बीबीसी पर सैलरी देने के मामले में लिंगभेद के आरोप लगे थे. बीसीसी की ही एक एडिटर ने इस्तीफा देते हुए कहा था कि इस संस्थान की महिला कर्मचारियों को पुरुष कर्मचारियों की तुलना में कम तनख्वाह दी जाती है.

बीबीसी में जेंडर पे गैप का यह मसला एक बार से जोर पकड़ रहा है और इस बार यह आरोप किसी और ने नहीं बल्कि 18 बार की ग्रैंड स्लैम विजेता टेनिस खिलाड़ी मार्टिना नवरातिलोवा ने लगाया है. उनका आरोप है कि पिछले साल उन्होंने विंबलडन के दौरान बीबीसी के लिए कमेंट्री की थी. कमेंट्री पेनल में पूर्व टेनिस खिलाड़ी जॉन मैकेनरो भी थे. नवरातिलोवा का आरोप है कि उन्हें मैकेनरो के बराबर काम करने के बावजूद मैकेनरो को उनके 10 गुना अधिक तनख्वाह दी गई.

BBC

नवरातिलोवा का कहना है  ‘बीबीसी एक ‘गुड ओल्ड बॉय नेटवर्क’ के जैसा है. मुझे बाद में पता चला कि जितनी कमेंट्री के लिए मुझे 13 लाख रुपए दिए गए, उतनी ही कमेट्री के लिए जॉन को 1.3 करोड़ रुपए का भुगतान हुआ. मैकेनरो विंबलडन से बाहर भी कई कामों में व्यस्त थे, जबकि मेरा पूरा कमिटमेंट विंबलडन के साथ ही थी. मैं समझ गई हूं कि इतने बड़े संस्थान में आज भी पुरुषों की आवाज को महिलाओं की आवाज से ज्यादा वजन दिया जाता है.’

नवरातिलोवा के इस आरोप के बाद बीबीसी की ओर से सफाई दी गई है कि दोनों के शो में अंतर था. बीबीसी का दावा है कि मैकेनरो को दर्शक ज्यादा मंझा हुआ समीक्षक मानते हैं. मैकेनरो ने कुल 30 शो किए जबकि नवरातिलोवा ने कुल 10 शो किए. दोनों के बीच पे गैप की वजह यही है लिंग भेद नहीं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता
Firstpost Hindi