S M L

Delhi Half Marathon : गेमेचू कोर्स रिकॉर्ड तोड़ते हुए पहले स्थान पर रहीं, पुरुषों में बेलीहू ने बाजी मारी

गेमेचू और बेलीहू दोनों को 27,000 डॉलर की समान इनामी राशि मिलेगी. लेकिन गेमेचू को चेक के अलावा नया कोर्स रिकॉर्ड बनाने के लिए 10,000 डॉलर और मिलेंगे

Updated On: Oct 21, 2018 03:18 PM IST

Bhasha

0
Delhi Half Marathon : गेमेचू कोर्स रिकॉर्ड तोड़ते हुए पहले स्थान पर रहीं, पुरुषों में बेलीहू ने बाजी मारी
Loading...

इथियोपिया की सेहाये गेमेचू ने रविवार को दिल्ली हाफ मैराथन में पदार्पण के दौरान कोर्स रिकॉर्ड तोड़ते हुए महिला स्पर्धा में जीत हासिल की, जबकि हमवतन एंडामलाक बेलीहू ने पुरुष वर्ग में कड़ी चुनौती से उबरकर शीर्ष स्थान प्राप्त किया. गेमेचू और बेलीहू दोनों को 27,000 डॉलर की समान इनामी राशि मिलेगी. लेकिन गेमेचू को चेक के अलावा नया कोर्स रिकॉर्ड बनाने के लिए 10,000 डॉलर और मिलेंगे.

दोनों इथियोपियाई विजेताओं के लिए जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में यह पहली जीत है, जिसमें 34,000 प्रतिभागियों ने रेस में शिरकत की. 20 वर्षीय गेमेचू अपनी पहली हाफ मैराथन में भाग ले रही थीं. उन्होंने एक घंटे, छह मिनट 50 सेकेंड के समय में रेस पूरी की, जिससे उन्होंने महिला वर्ग के पिछले कोर्स रिकॉर्ड 1:06:54 से चार सेकेंड बेहतर प्रदर्शन किया जो 2009 के बाद से केन्या की मैरी केटानी के नाम था.

गेमेचू ने जीत के बाद खुशी व्यक्त करते हुए कहा, ‘मैं जीत की उम्मीद नहीं कर रही थी. यह मेरे लिए ट्रायल था क्योंकि मैं पहली बार हाफ मैराथन में भाग ले रही हूं. मैं खुश हूं कि मैंने इतने मशहूर खिलाड़ियों के खिलाफ रेस में जीत दर्ज की.’

मौजूदा महिला हाफ मैराथन विश्व रिकॉर्डधारी जॉयक्लिने जेपकोसगेई ने 1:06:56 के समय से रजत पदक, जबकि इथियोपिया की जेनेबा यिमेर ने एक घंटे, छह मिनट 59 सेकेंड से अंतिम पोडियम स्थान हासिल किया. जॉयक्लिने ने कहा, ‘मैं दूसरे स्थान से खुश हूं क्योंकि मुझे भरोसा नहीं था कि मैं पोडियम स्थान हासिल कर पाऊंगी. मैंने इस रेस के लिए इतनी अच्छी तैयारी भी नहीं की थी. हाल में मैंने अपने कार्यक्रम में बदलाव किया है जो अब मैराथन को ध्यान में रखकर बनाया गया है.’

दुनिया की लंबी दूरी की महान धाविका तिरुनेश दिबाबा के लिए यह रेस अच्छी नहीं रही, क्योंकि थकान के कारण वह शुरू से ही पीछे रहीं. दिबाबा ने 5000 मीटर और 10,000 मीटर में पांच विश्व चैंपियनशिप स्वर्ण पदक जीते हुए हैं लेकिन यहां थकान उन पर हावी रही.

New Delhi: Winners of the Men's elite category Ethiopia's Andamalak Belihu (1st position, C), Ethiopia's Amdework Walelegn (2nd position, R) and USA's Daniel Kipchumba (3rd position, L) pose for photographs during the Delhi Half Marathon 2018, at Jawaharlal Nehru Stadium in New Delhi, Sunday, Oct 21, 2018. (PTI Photo/Kamal Singh) (PTI10_21_2018_000064B)

वहीं, पुरूषों में बेलीहू ने पिछले साल के प्रदर्शन में सुधार करते हुए अपना व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन भी बेहतर किया. वह पिछले साल दूसरे स्थान पर रहे थे और इस बार उन्होंने 59 मिनट, 18 सेकेंड में पहला स्थान हासिल किया. हालांकि वह कोर्स रिकॉर्ड नहीं तोड़ सके जो 2014 से अब तक इथियोपिया के गुये एडोला के नाम है. वालेलेगन ने 59 मिनट, 22 सेकेंड के समय से रजत पदक हासिल किया. केन्या के डेनियल किपचुम्बा 59 मिनट, 48 सेकेंड से तीसरे स्थान पर रहे.

ये तीनों ही एथलीट शुरू से रेस में बढ़त बनाए थे, लेकिन इथियोपियाई जोड़ी जल्द ही सबसे आगे निकल गई. दोनों के बीच मुकाबला बराबरी का रहा, लेकिन फिनिश लाइन पर 19 वर्षीय बेलीहू ने बाजी मारी.इथियोपियाई एथलीटों ने शीर्ष चार स्थान, जबकि केन्याई एथलीट ने बचे हुए दो स्थान हासिल किए.

बेलीहू ने कहा, ‘मैंने कोर्स रिकॉर्ड तोड़ने का प्रयास किया, लेकिन यह मुश्किल रहा. मैं पिछली बार दूसरे स्थान पर रहा था इसलिए इस बार मैं अच्छी तैयारी के साथ आया था.’

भारतीयों में अभिषेक पाल रहे अव्वल

भारतीयों में 22 वर्षीय महाराष्ट्र के अभिषेक पाल ने पुरुषों की रेस में जीत हासिल की. उन्होंने एक घंटे, चार मिनट 14 सेकेंड से पहला स्थान प्राप्त किया. अविनाश साबले (1:04:14) ने रजत जीता और एशियाई मैराथन चैंपियन गोपी टी (1:04:15) को कांसा मिला. गत चैंपियन नितेंद्र सिंह ने पिछली बार कोर्स रिकॉर्ड बनाया था, इस बार वह भारतीयों में 12वें स्थान पर रहे. उन्होंने एक घंटा, छह मिनट 37 सेकेंड का समय निकाला.

भारतीय महिलाओं में संजीवनी ने बाजी मारी

युवा संजीवनी जाधव महिला वर्ग में सर्वश्रेष्ठ भारतीय रहीं, जिन्होंने एक घंटे, 13 मिनट 58 सेकेंड से पहला स्थान प्राप्त किया. पारूल चौधरी दूसरे और मोनिका अठारे तीसरे स्थान पर रहीं. संजीवनी ने कहा, ‘मैं दो साल पहले यहां दूसरे स्थान पर रही थी, मैं खुश हूं कि मैंने अपने प्रदर्शन को बेहतर किया और इस बार स्वर्ण पदक जीता.’ पारूल पिछले चरण में तीसरे स्थान पर रहीं थी, लेकिन इस बार उन्होंने एक घंटे, 14 मिनट एक सेकेंड से दूसरा स्थान हासिल किया. उन्होंने कहा, ‘मैं थोड़ी निराश हूं क्योंकि मैं अपनी तैयारियों के अनुरूप प्रदर्शन नहीं कर सकी. मैं पिछली बार के समय से बेहतर करना चाहती थी, लेकिन ऐसा नहीं कर सकी.’

2016 के चरण में शीर्ष स्थान हासिल करने वाली मोनिका अठारे इस साल वैसा प्रदर्शन नहीं कर सकीं और उन्हें एक घंटे, 16 मिनट 55 सेकेंड के समय से कांसे से संतोष करना पड़ा. भारत के पुरुष और महिला विजेताओं को चार-चार लाख रुपए, जबकि दूसरे स्थान पर रहने वाले खिलाड़ियों को तीन-तीन लाख रुपए मिलते हैं. कांस्य पदक जीतने वालों को दो-दो लाख रूपये दिए जाते हैं.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi