S M L

नीरज चोपड़ा की 2020 टोक्यो ओलिंपिक की तैयारियों में आ रही दिक्कत, कोच ने की शिकायत

उवे हॉन ने कहा कि उपकरण जुटाने में देरी, सपोर्ट स्टाफ की कमी, खराब डाइट और बेतुकी योजना की वजह से नीरज चोपड़ा की ट्रेनिंग बाधित हो रही है

Updated On: Dec 23, 2018 04:27 PM IST

FP Staff

0
नीरज चोपड़ा की 2020 टोक्यो ओलिंपिक की तैयारियों में आ रही दिक्कत, कोच ने की शिकायत

एशियन गेम्स और कॉमनवेल्थ गेम्स के स्वर्ण पदक विजेता जेवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा को  2020 टोक्यो ओलिंपिक में भारत की पदक की उम्मीद माना जा रहा है. लेकिन उनके कोच उवे हॉन ने नीरज चोपड़ा की तैयारियों में आ रही दिक्कत की शिकायत की है. उवे हॉन ने कहा कि उपकरण जुटाने में देरी, सपोर्ट स्टाफ की कमी, खराब डाइट और बेतुकी योजना की वजह से नीरज चोपड़ा की ट्रेनिंग बाधित हो रही है.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार जर्मनी के महान थ्रोअर रहे उवे हॉन ने कहा कि भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) का बिल्कुल भी सहयोग नहीं मिल रहा है. हमें लोगों और कंपनियों से जितनी जल्दी हो सके मदद की दरकार है क्योंकि हम हर हफ्ते और हर दिन अपने लक्ष्य को हासिल करने में पिछड़ रहे हैं.

ये भी पढ़ें- अलविदा 2018 : वो युवा खिलाड़ी, जो आए और छा गए...

उवे हॉन ना केवल नीरज चोपड़ा बल्कि नेशनल इंस्टियूट ऑफ स्पोटर्स (एनआईएस) पटियाला में देश के चुनिंदा जेवलिन थ्रोअर्स को ट्रेनिंग दे रहे हैं. हॉन ना ने नाराजगी के सुर में कहा, 'नीरज की सफलता का जश्न मनाने को ये कोई तरीका नहीं है. टोक्यो में उससे पदक जीतने की पूरी उम्मीद है लेकिन उसे इस मामले में किसी तरह का कोई सहयोग नहीं मिल रहा है.'

नीरज चोपड़ा के निशाने पर अब 90 मीटर का थ्रो है और इसे वह 2020 टोक्यो ओलिंपिक के पहले ही हासिल करना चाहते हैं. नीरज अगले सीजन में 88 मीटर के एशियन गेम्स में गोल्ड मेडल जीतने वाले प्रदर्शन को लगातार दोहराना चाहते हैं जिसके बाद टोक्यो ओलिंपिक से पहले 2020 में 90 मीटर के आंकड़े को पार करने की कोशिश करेंगे. चोपड़ा का मानना है कि तकनीक में ‘छोटा’ बदलाव करके वह 90 मीटर के टारगेट को हासिल कर सकते हैं.

 

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi