S M L

Davis Cup : सर्बिया के खिलाफ रामकुमार रामनाथन करेंगे भारतीय अभियान की शुरुआत

पहले सिंगल्स में रामनाथन का सामना लास्लो जेरे से होगा, जबकि दूसरे में दुसान लाजोविच से भिड़ेंगे प्रजनेश

Updated On: Sep 13, 2018 09:14 PM IST

FP Staff

0
Davis Cup : सर्बिया के खिलाफ रामकुमार रामनाथन करेंगे भारतीय अभियान की शुरुआत

रामकुमार रामनाथन शुक्रवार को सर्बिया के खिलाफ शुरू होने वाले विश्व ग्रुप प्ले ऑफ मुकाबले में भारतीय अभियान की शुरुआत करेंगे. रामकुमार का सामना लास्लो जेरे से होगा जो इस भारतीय खिलाड़ी से ऊंची रैंकिंग पर 86वें नंबर पर काबिज हैं, लेकिन उन्हें डेविस कप में पहली जीत हासिल करनी है. वहीं दूसरी ओर रामकुमार विश्व रैंकिंग में 135वें स्थान पर हैं, लेकिन उन्हें डेविस कप में खेलने का ज्यादा अनुभव है. वह छह मुकाबले खेल चुके हैं जिसमें 12 मैचों में उनका जीत का रिकॉर्ड 7-5 है.

बाएं हाथ से खेलने वाले प्रजनेश गुणेश्वरन का सामना सर्बिया के नंबर एक खिलाड़ी दुसान लाजोविच से होगा. प्रजनेश भारत के दूसरे नंबर के सिंगल्स खिलाड़ी हैं जबकि दुसान सिंगल्स खिलाड़ियों में सबसे ऊंची रैंकिंग वाले खिलाड़ी हैं और 56वें नंबर पर काबिज हैं.

शनिवार को रोहन बोपन्ना और एन श्रीराम का सामना डबल्स मुकाबले में निकोला मिलोजेविच और पदार्पण करने वाले दानिलो पेत्रोविच से होगा. बोपन्ना को अपने अनुभव के दम पर सुनिश्चित करना होगा कि भारत को शनिवार को डबल्स मैच से अंक मिले. पिछले साल वह और एन श्रीराम बालाजी उज्बेकिस्तान के खिलाफ अच्छा खेले थे. रिवर्स सिंगल्स रविवार को होगा जिसमें रामकुमार की भिड़ंत लाजोविच से होगी, जबकि 162वीं रैंकिंग के प्रजनेश का सामना जेरे से होगा.

भारतीय खिलाड़ियों का हालांकि डेविस कप में खेलने का कुल अनुभव 43 मुकाबलों का है जबकि घरेलू टीम का यह अनुभव सिर्फ 14 मुकाबलों का है जिसका फायदा मेहमान टीम उठाने की कोशिश करेगी.

रामकुमार 2017 में लाजोविच के खिलाफ खेल चुके हैं और इसमें वह विजेता रहे थे, लेकिन सर्बियाई खिलाड़ी अपनी सर्वश्रेष्ठ फॉर्म में हैं जिन्होंने हाल में यूएस ओपन के फाइनल में पहुंचे हुआन मार्टिन डेल पोत्रो को हराया था. साकेत मायनेनी टीम के पांचवें सदस्य हैं और प्रतिभाशाली अर्जुन काधे रिजर्व खिलाड़ी होंगे.

भारतीय टीम अपने शीर्ष सिंगल्स खिलाड़ी युकी भांबरी के बिना कोर्ट पर उतरेगी जो घुटने की चोट से उबर रहे हैं लेकिन कोच जीशान अली ने कहा कि यह कोई मुद्दा नहीं होना चाहिए.

जीशान ने कहा, ‘युकी का क्लेकोर्ट पर नहीं खेलना हमारे लिए कोई बड़ा झटका नहीं है. पिछले नौ महीनों को देखें तो युकी ने क्ले पर एक या दो मैच ही खेले हैं. उसकी रैंकिंग अन्य दो खिलाड़ियों की तुलना में ऊंची है, लेकिन उसका खेल क्ले के मुफीद नहीं है. उसका टीम में होना अच्छा होता, लेकिन सतह को देखा जाए तो यह इतना बड़ा झटका नहीं है.’

उन्होंने कहा, ‘अच्छी चीज यह है कि रामकुमार, प्रजनेश और बालाजी जैसे खिलाड़ी पिछले कुछ वर्षों से यूरोप में क्ले पर ट्रेनिंग कर रहे हैं. इन खिलाड़ियों के लिए यह सतह नई नहीं है. वे क्ले पर खेलने के आदी हैं. 10 साल पहले, हमारे पास क्ले कोर्ट पर खेलने के लिए खिलाड़ी नहीं होते थे, लेकिन अब चीजें अलग हैं.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi