S M L

डेविस कप टेनिस: क्या आखिरी बार खेलेंगे लिएंडर पेस?

न्यूजीलैंड के खिलाफ एशिया ओशिनिया मुकाबला शुक्रवार से

FP Staff Updated On: Feb 02, 2017 06:33 PM IST

0
डेविस कप टेनिस: क्या आखिरी बार खेलेंगे लिएंडर पेस?

निगाहें लिएंडर पेस पर होंगी. हमेशा होती हैं. लेकिन इस बार इन संभावनाओं या आशंकाओं के साथ कि शायद लिएंडर आखिरी बार डेविस कप मुकाबला खेल रहे हैं. न्यूजीलैंड के खिलाफ भारत को एशिया ओशिनिया ग्रुप डेविस कप मुकाबला खेलना है. पुणे में होने वाले इस मुकाबले में 55वीं डेविस कप टाई के लिए लिएंडर तैयार हैं.

हम सब जानते हैं कि लिएंडर के नाम 18 ग्रैंड स्लैम खिताब हैं. डेविस कप में 42 डबल्स मुकाबले जीतकर वो विश्व रिकॉर्ड के करीब हैं. अभी वो इटली के निकोला पिएत्रांगेली के साथ बराबरी पर हैं. शनिवार की जीत उन्हें डेविस कप इतिहास का सबसे कामयाब डबल्स खिलाड़ी बना देगी.

पेस को हालांकि अंतिम समय में शामिल किये गये और उनके लंदन ओलंपिक युगल जोड़ीदार विष्णु वर्धन के साथ खेलना होगा. उनके साथ खेलने वाले साकेत मैनेनी पिछले महीने चेन्नई ओपन के दौरान लगी पैर की चोट से उबरने में असफल रहे. इस वजह से विष्णु वर्धन को टीम में लिया गया है.

अपने अंतिम मुकाबले में टीम के नॉन प्लेइंग कैप्टन आनंद अमृतराज ने पुणे में 43 साल बाद होने वाले मुकाबले के ड्रॉ के बाद प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘मैनेनी की चोट अभी तक ठीक नहीं है.’ पेस और राष्ट्रीय हार्डकोर्ट चैम्पियन वर्धन का सामना मुकाबले के दूसरे दिन न्यूजीलैंड के आर्टेम सिटाक और माइकल वीनस की जोड़ी से होगा.

Pune: Indian tennis players Leander Paes and Ramkumar Ramnathani during the inaugural ceremony of the Davis cup at Balewadi stadium in Pune on Thursday. PTI Photo by Shashank Parade(PTI2_2_2017_000102B)

लिएंडर पेस और रामकुमार रामनाथन.

युकी भांबरी (368 रैंकिंग) न्यूजीलैंड के नंबर एक खिलाड़ी फिन टीयर्ने (414 रैंकिंग) के खिलाफ भारत के अभियान की शुरूआत करेंगे जबकि रामकुमार रामनाथन (206 रैंकिंग) की भिड़ंत दूसरे एकल में जोस स्टाथम (417 रैंकिंग) से होगी. ऊंची रैंकिंग और घरेलू कोर्ट में खेलने के फायदे से कागज पर भारत का पलड़ा स्पष्ट रूप से न्यूजीलैंड पर भारी लगता है. न्यूजीलैंड के खिलाफ उनका जीत-हार का रिकॉर्ड 5-3 का है जिसमें से सारी शिकस्त 1970 के दशक में मिली हैं.

भारत 1978 से न्यूजीलैंड से नहीं हारा है. तब न्यूजीलैंड ने दिल्ली में सेमीफाइनल 4-1 से भारत को हराया था. लेकिन टीम न्यूजीलैंड को हल्के में लेने की गलती नहीं कर सकती क्योंकि जुलाई 2015 में क्राइस्टचर्च में हुए एशिया ओसनिया ग्रुप एक के सेमीफाइनल में उनकी टीम कठिन साबित हुई थी. टीम के कप्तान अमृतराज ने भी यह बात स्वीकार की थी. अमृतराज ने याद करते हुए कहा, ‘उनकी डबल्स टीम मजबूत है. लेकिन हम उनके सिंगल्स खिलाड़ियों को हल्के में नहीं ले सकते. जब हम पिछली बार उनसे भिड़े थे तो 1-2 से पिछड़ गए थे. लेकिन हमने वापसी करते हुए जीत दर्ज की थी.’

पेस इस मुकाबले में नहीं खेले थे और इससे पहले भारत के 2012 में चंडीगढ़ में न्यूजीलैंड पर 5-0 की क्लीन स्वीप में भी वह भाग नहीं ले पाये थे. लेकिन न्यूजीलैंड पर 2004, 2003 और 2002 में पिछली तीन जीत में उन्होंने अहम भूमिका अदा की थी. इसमें वह एकल और युगल में (महेश भूपति के साथ) खेले थे. अमृतराज इस बात से खुश थे कि भांबरी भारत के लिए कोर्ट पर उतरने वाले पहले खिलाड़ी होंगे.

उन्होंने कहा, ‘मैं युकी को पहले खिलाने से खुश हूं, फिर रामकुमार खेलेंगे.’ पेस ने खुद के बारे में कहा, ‘मैं हमेशा भारतीय तिरंगे के लिए खेलने को तैयार रहता हूं. बल्कि हम सभी ऐसा करना पसंद करते हैं. हम बतौर टीम खेलते हैं.’ इस मुकाबले का विजेता उज्बेकिस्तान और कोरिया के बीच सात से नौ अप्रैल तक होने वाले दूसरे दौर के मुकाबले से भिड़ेगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
International Yoga Day 2018 पर सुनिए Natasha Noel की कविता, I Breathe

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi