S M L

Davis Cup india vs Serbia : युकी और दिविज मुकाबले से हटे, नागल का स्टैंडबाई बनने से इनकार

युकी भांबरी और दिविज शरण चोटों के कारण विश्व ग्रुप प्ले ऑफ मुकाबले से हट गए हैं, जबकि सुमित नागल ने पूर्व प्रतिबद्धताओं के कारण स्टैंडबाई के रूप में टीम से जुड़ने से इनकार कर दिया

Updated On: Sep 06, 2018 05:05 PM IST

Bhasha

0
Davis Cup india vs Serbia : युकी और दिविज मुकाबले से हटे, नागल का स्टैंडबाई बनने से इनकार

भारत के शीर्ष सिंगल्स खिलाड़ी युकी भांबरी और एशियन गेम्स के स्वर्ण पदक विजेता दिविज शरण चोटों के कारण सर्बिया के खिलाफ डेविस कप विश्व ग्रुप प्ले ऑफ मुकाबले से हट गए हैं, जबकि सुमित नागल ने पूर्व प्रतिबद्धताओं के कारण स्टैंडबाई के रूप में टीम से जुड़ने से इनकार कर दिया है.

पालेमबांग में रोहन बोपन्ना के साथ मिलकर पुरुष डबल्स का स्वर्ण पदक जीतने वाले दिविज के कंधे में चोट है और युकी की घुटने की चोट यूएस ओपन के दौरान उभर आई जहां उन्हें पहले दौर में फ्रांस के पियरे ह्युजेस हर्बर्ट के खिलाफ शिकस्त का सामना करना पड़ा. छह सदस्यीय टीम में रिजर्व खिलाड़ी के तौर पर शामिल साकेत माइनेनी अब युकी की जगह इस मुकाबले में खेलेंगे. एन श्रीराम बालाजी ने दिविज की जगह ली है जबकि पुणे के प्रतिभावान खिलाड़ी अर्जुन काधे अब 14 से 16 सितंबर तक होने वाले मुकाबले के लिए रिजर्व खिलाड़ी के रूप में क्रालजेवो जाएंगे.

चैलेंजर टूर्नामेंट खेलने को प्राथमिकता दी नागल ने

एआईटीए की चयन समिति के अध्यक्ष एसपी मिश्रा ने कहा, ‘वे चोटों के कारण हट गए हैं. दिविज का अमेरिका में एमआरआई हुआ और उन्होंने कहा कि इसमें हल्की चोट का पता चला है जिससे उबरने में कम से कम तीन हफ्ते का समय लगेगा. युकी के भी घुटने में परेशानी है.’ संभावित विकल्प के तौर पर नागल के बारे में पूछने पर मिश्रा ने कहा कि एआईटीए ने उनसे संपर्क किया था, लेकिन उन्होंने इस दौरान पोलैंड में चैलेंजर टूर्नामेंट में खेलने को प्राथमिकता दी. मिश्रा ने कहा, ‘हमने उनसे कहा कि वह युकी के विकल्प के तौर पर आ जाएं, लेकिन उन्होंने कहा कि वह चैलेंजर में खेलने को प्राथमिकता देंगे.’

एआईटीए ने कहा, हम शर्तों पर खिलाड़ी को नहीं चुनते

एआईटीए सचिव हृणमय चटर्जी ने कहा कि महासंघ नागल के फैसले से हैरान है. चटर्जी ने कहा, ‘उन्होंने कहा कि रामकुमार और प्रजनेश सिंगल्स मैच खेलेंगे और उसे स्टैंडबाई के तौर पर आना होगा इसलिए वह चैलेंजर्स में खेलेंगे. उन्होंने कहा कि अगर जरूरत है तो वह टीम से जुड़ेंगे, लेकिन हम शर्तों पर खिलाड़ी को नहीं चुनते. हमने उन्हें कह दिया कि इस मुकाबले के लिए उनके नाम पर विचार नहीं होगा.’ चटर्जी ने कहा, ‘भविष्य के मुकाबलों के लिए हम चर्चा करेंगे कि उनके नाम पर विचार किया जाए या नहीं.’

मुझे वहां जाने में खुशी होगी, लेकिन मेरी पूर्व प्रतिबद्धताएं हैं

लगातार नौ पहले दौर के मुकाबले हारने वाले नागल से जब उनके फैसले का कारण पूछा गया तो उन्होंने कहा कि शुरुआत में उन्होंने इसलिए मना किया क्योंकि उनके कंधे में समस्या थी और वह वापसी को लेकर सुनिश्चित नहीं थे. 21 साल के इस खिलाड़ी ने कहा, ‘एक या दो हफ्ते के बाद मुझे एक और ईमेल मिला जिसमें पूछा गया था कि क्या मैं खेल सकता हूं, मैंने कहा कि मुझे वहां जाने में खुशी होगी, लेकिन मेरी पूर्व प्रतिबद्धताएं हैं. मुझे इटली में चैलेंजर और पोलैंड में चैलेंजर का क्वालीफायर खेलना है. मैंने कहा कि यह पूरा होने के बाद मैं अगली उड़ान से सर्बिया जाने को तैयार हूं.’

नागल ने कहा, ‘उन्हें यह पसंद नहीं आया क्योंकि वे मुझे शनिवार रात को टीम के साथ चाहते थे. पिछले तीन महीने की मेरी स्थिति को देखते हुए मेरे लिए क्ले कोर्ट पर अंतिम दो टूर्नामेंटों से बाहर रहना मुश्किल होता. मैंने उनसे पूछा कि क्या वे सर्बिया मुकाबले के बाद मुझे मुख्य ड्रॉ में जगह दिलाने में मदद कर सकते हैं, लेकिन उन्होंने कहा कि वे मदद नहीं कर सकते.’

महेश भूपति ने कहा, किसी भी चीज पर मेरा कोई नजरिया नहीं

भारतीय कप्तान महेश भूपति ने कहा कि हम वहां जाकर हमेशा की तरह सर्वश्रेष्ठ प्रतिस्पर्धा पेश करने की कोशिश करेंगे. नागल के इनकार पर प्रतिक्रिया मांगे जाने पर भूपति ने कहा, ‘ईमानदारी से कहूं तो किसी भी चीज पर मेरा कोई नजरिया नहीं है.’ दुनिया के 33वें नंबर के खिलाड़ी फिलिप क्राजिनोविच क्ले कोर्ट पर होने वाले इस मुकाबले में मेजबान टीम की चुनौती की अगुआई करेंगे. भारत पिछली बार सर्बिया से 2014 में बेंगलुरु में विश्व ग्रुप प्ले ऑफ चरण में खेला था और तब उसे 2-3 से हार का सामना करना पड़ा था.

 

 

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi