S M L

CWG 2018: दो सप्ताह पहले अपनी बहन को खोया, परिवार से नजरें चुराकर टिया ने जीता गोल्ड

कॉमनवेल्थ गेम्स शुरू होने से दो सप्ताह पहले वेटलिफ्टिर टिया ने अपनी बहन को हमेशा-हमेशा के लिए खो दिया था

FP Staff Updated On: Apr 09, 2018 12:44 PM IST

0
CWG 2018: दो सप्ताह पहले अपनी बहन को खोया, परिवार से नजरें चुराकर टिया ने जीता गोल्ड

खिलाड़ियों को अक्सर शारीरिक तौर पर मजबूत माना जाता है, लेकिन हकीकत तो कुछ और है. वे जितने मजबूत शारीरिक तौर पर होते हैं, उससे कहीं अधिक मजबूत मानसिक रूप से होते हैं. अपने अंदर चल रही तमाम उथल पुथल के बावजूद उनके चेहरे पर एक अलग भी भावना को देखा जा सकता है और इन्हीं भावनाओं को काबू में रखते हुए दुनिया के सामने खुद को साबित करना और भी बड़ा चैलेंज होता है, जिसे आॅस्ट्रेलिया की टिया क्लेयर टूमी ने पूरा किया. मुकाबले के दौरान दर्शक दीर्घा के बैठे अपने परिवार वालों से नजर चुराते हुए और दो सप्ताह पहले इस दुनिया को छोड़ चुकी अपनी बहन की मौजूदगी के अहसास के साथ जैसे ही टिया ने वेटलिफ्टिंग में गोल्ड जीता, उनकी भावनाओं ने सब्र के बांध को पार कर लिया था.

 

tia 1

दो सप्ताह पहले ही खोया था अपनी बहन को

अपने किसी अजीज के यूं अचानक दुनिया से चले जाने के बाद बहुत कम ही ऐसे लोग होते हैं, जो इतनी जल्दी खड़े हो जाते हैं. टिया भी उन्हीं गिने चुने लोगों में शामिल है. या यूं कहे कि टिया शायद खड़ी न हो पाती, अगर दोनों बहनों ने एक साथ इस मेडल का सपना ना देखा होता. कॉमनवेल्थ शुरू होने में बस कुछ ही दिन बाकी थे. टिया अपनी कजिन बहन जेड डिस्कन के साथ  तैयारियों से जुटी थी और ऐसे ही अचानक गेम्स शुरू होने के ठीक दो सप्ताह पहले कार दुर्घटना में 17 साल की जेड अपनी बहन को मुकाबले के लिए अकेला छोड़कर हमेशा हमेशा के लिए चली गई.

 

मुकाबले के दौरान नहीं करना चाहतीं थी परिवार का सामना

बहन से जाने से अंदर से पूरी तरह टूट चुकी टिया अपनी जिंदगी के सबसे अहम मुकाबले में दर्शक दीर्घा में बैठे अपने परिवार से नजरें चुराने का बहुत प्रयास किया. क्योंकि जेड की मौत के बाद से वह अपने किसी परिजन से नहीं मिली थीं. वह खेल गांव में ही रुकी रहीं. उनके मुताबिक वह परिजनों से मिलकर टूट जातीं और तब शायद जेड और उनका देखा हुआ मेडल जीतने का सपना शायद पूरा न हो पाता.

खुद टूमी ने कहा 'प्रतियोगिता के दौरान मैं भीड़ में अपने परिवार को खोजने के प्रयासों से खुद को रोक रही थी. क्योंकी जेड की मौत के बाद पहली बार में उनका सामना इस तरह नहीं कर सकती थी.'

 

tia

भार उठाते समय जेड मेरे साथ थी: टूमी

भावुक टूमी ने नम आंखों के साथ कहा 'प्रतियोगिता के दौरान जेड मेरे साथ थी. उसी के कारण मैंने मेडल जीता और यह उसी के नाम है.' मेडल जीतने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए  उन्होंने कहा कि वह अब खेलगांव छोड़ कर सोमवार को अपनी कजिन जेड के फ्यूनरल में जाएंगी.

क्वीन्सलैंड की क्वीन ने उठाया शरीर से दोगुना वजन

टूमी ने 58 किग्रा वर्ग में व्यक्तिगत बेस्ट देते हुए स्नैच में 87 किग्रा भार उठाया. उसके बाद क्लीन एंड जर्क में अपने शरीर से लगभग दोगुना वजन 114 किग्रा उठा कर गोल्ड मेडल अपने नाम किया. उन्होंने इस प्रतियोगिता में सबसे पसंदीदा खिलाड़ी टाली डार्सिग्नी को महज 1 किग्रा के अंतर से हराया.

क्वीन्सलैंड की फिटनेस क्वीन के नाम से मशहूर टूमी ने साल 2013 में वेटलिफ्टिंग शुरू की थी. इसके पहले वह ऑस्ट्रेलिया के लिए क्रॉसफिट गेम्स में मेडल जीतने वाली पहली खिलाड़ी बनी थी.

 

फोटो साभार: स्टफ और कॉम गेम्स आॅस्ट्रेलिया ट्विटर हैंडल

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
FIRST TAKE: जनभावना पर फांसी की सजा जायज?

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi