S M L

CWG History: 1962 पर्थ में ऑस्ट्रेलिया ने लगाया पदकों का शतक

सातवें संस्करण में भारत ने हिस्सा नहीं लिया था, जबकि पाकिस्तान को आठ स्वर्ण मिले

Updated On: Apr 02, 2018 02:13 PM IST

FP Staff

0
CWG History: 1962 पर्थ में ऑस्ट्रेलिया ने लगाया पदकों का शतक

कॉमनवेल्थ गेम्स के सातवें संस्करण का आयोजन ऑस्ट्रेलिया के शहर पर्थ में हुआ. इन खेलों में भी 35 देशों ने भाग लिया, लेकिन इस बार एथलीटों की संख्या कम रही. कुल 863 खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया और अधिकारियों की संख्या 178 रही. इसमें पहली बार जर्सी, ब्रिटिश हौंडुरास, पापुआ न्यू गिनी और सेंट लूसिया ने हिस्सा लिया था. जर्सी ने पदक भी जीता. सबाह, सरावक और मलाया ने अंतिम बार इसमें हिस्सा लिया, क्योंकि 1966 के संस्करण में वे सब मलेशिया के झंडे तले आ गए थे. भारत ने इस संस्करण में हिस्सा नहीं लिया था. साउथ अफ्रीका नस्ल भेद के चलते इन खेलों से बाहर था.

दूसरे स्थान पर रहा इंग्लैंड

इस संस्करण में भी नौ खेलों की विभिन्न श्रेणियों के लिए मुकाबले हुए जिनमें एथलेटिक्स, मुक्केबाजी, साइकिलिंग, तलवारबाजी, लॉन बाउलिंग, रोइंग, तैराकी व डाइविंग, भारोत्तोलन और कुश्ती शामिल थे. ऑस्ट्रेलिया ने पदक लेने में सौ का आंकड़ा पार किया और उसने 38 स्वर्ण, 36 रजत और 31 कांस्य पदक जीते. इंग्लैंड इस बार दूसरे स्थान पर रहा. उसने 29 स्वर्ण के साथ कुल 78 पदक जीते. न्यूजीलैंड ने 10 स्वर्ण के साथ कुल 31 पदक जीते, लेकिन सबसे हैरत की बात ये रही कि पाकिस्तान को आठ स्वर्ण मिले.

पर्थ में बने कई रिकॉर्ड

पर्थ में कई रिकॉर्ड बने. महिलाओं की 880 गज दौड़ में ऑस्ट्रेलिया की डिक्सी इसाबेल विलिस ने रिकॉर्ड बनाया. रोइंग के पुरुष डबल्स मुकाबले में इंग्लैंड की जोड़ी ने कीर्तिमान बनाया. तैराकी में पांच रिकॉर्ड बने जिनमें से चार ऑस्ट्रेलिया के तैराकों ने बनाए. तैराकी का एक रिकॉर्ड इंग्लैंड के नाम रहा.

40 डिग्री तापमान में हुए खेल

इन कॉमनवेल्थ गेम्स को गर्मी के लिए भी याद किया जाता है. लोगों का खयाल था कि पर्थ में मौसम सुहाना होगा, करीब 26 डिग्री लेकिन जिस दिन खेल शुरू हुए गर्मी 40 डिग्री पार कर रही थी. पूरे आयोजन के दौरान तापमान इसी तरह बना रहा रहा.

फोटो साभार- यूट्यूब ( ब्रिटिश पाथ)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi