S M L

एशियन गेम्‍स से हट सकती है मैरी कॉम, पूरा ध्‍यान वर्ल्ड चैंपियनशिप पर

एशियन गेम्‍स में सिर्फ तीन कैटेगरी है 51, 57 और 60 किग्रा

FP Staff Updated On: May 31, 2018 04:53 PM IST

0
एशियन गेम्‍स से हट सकती है मैरी कॉम, पूरा ध्‍यान वर्ल्ड चैंपियनशिप पर

इसी साल से अप्रैल में गोल्‍ड कोस्‍ट में हुए कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स में गोल्‍ड मेडल जीतकर भारत की स्‍टार मुक्‍केबाज मैरी कॉम ने जकार्ता में होने वाले एशियन गेम्‍स में भारत की उम्‍मीदे जगा दी थी, लेकिन अब वहीं उम्‍मीद टूटी हुई नजर आ रही है. टाइम्‍स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक मैरी ने इसी साल जकार्ता में होने वाले एशियन गेम्‍स से पीछे हटने के संकेत दे दिए हैं. 18 अगस्‍त से दो सितंबर तक इंडोनेशिया में होने वाले एशियन गेम्‍स तक मैरी की यात्रा असंभव दिख रही है. हालांकि मैरी इस समय इटली के असीसी में ओलिंपिक परर्फोमेंस ट्रेनिंग सेंटर अन्‍य भारतीय मुक्‍केबाज के साथ एशियन गेम्‍स की तैयारी कर रही है.

mary

भारतीय महिला टीम के मुख्‍य कोच राफेल बर्ग्यामास्को ने पुख्‍ता किया है कि पांच बार की विश्‍व चैंपियन मैरी अब इसी साल नवंबर में नई दिल्‍ली में होने वाले विश्‍व चैंपियन पर अपना ध्‍यान केंद्रित कर रही है. कोच ने कहा कि हमारा मानना है कि 51 किग्रा में (एशियन गेम्‍स में सिर्फ तीन कैटेगरी है 51, 57 और 60 किग्रा) मैरी को प्रतिस्‍पर्धा करना मुश्किला होगा. 51 किग्रा में प्रतियोगिता कजाकिस्तान, मंगोलिया, और साउथ कोरिया के बेहतरीन मुक्‍केबाजों के साथ मुकाबला काफी कठिन होगा. उन्‍होंने कहा कि हमने महसूस किया कि इस स्‍टेज पर 48 किग्रा से 51 किग्रा में जाना उनके हित में नहीं होगा. मैरी के लिए अहम है कि वह फिट रहकर अपने भागवर्ग में अपना सर्वश्रेष्‍ठ प्रदर्शन जारी रखे.

करीब एक साल में 35 वर्षीय मैरी ने एशियन चैंपियनशिप और कॉमनवेल्‍थ मेडल अपने नाम किया और अब उनकी नजर एक और विश्‍व खिताब अपने नाम करने की है. खासतौर से अपने घरेलू प्रशंसको के सामने. मैरी अभी मोनिका, सरजूबाला देवी, पिंकी रानी, दो बार की एशियन चैंपियनशिप सिल्‍वर मेडलिस्‍ट सोनिया लाथर और 2017 विश्‍व यूथ चैंपयिनशिप गोल्‍ड मेडलिस्‍ट शशि चोपड़ा आदि के साथ ट्रेनिंग कर रही हैं. भारतीय महिला मुक्‍केबाजों का दल अभी असीसी में फिनलैंड, रोमानिया और इटली की शीर्ष मुक्‍केबाजों के साथ फॉरनाइट लॉन्‍ग कैम्‍प में हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
International Yoga Day 2018 पर सुनिए Natasha Noel की कविता, I Breathe

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi